[gtranslate]
    • बबीता भाटिया

धर्मनगरी हरिद्वार शहर में इन दिनों अतिक्रमण को लेकर प्रशासन और व्यापारी आमने-सामने हैं। मनसा देवी रोपवे मार्ग के पास सड़क पर बने नाले को तोड़े जाने को लेकर नोक-झोंक भी हुई। इसको लेकर प्रशासन ने नाले को तोड़ने का काम बीच में ही रोक दिया।

अतिक्रमण हटाने को लेकर समय-समय पर प्रशासन और व्यापार मंडलों के बीच वार्ता होती रहती है लेकिन यह किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाती। इसका कारण आपसी कलह है। राजनीति भी आड़े आती रहती है। शहर में अतिक्रमण केवल व्यापारी वर्ग का ही नहीं है बल्कि राजनीतिक दलों से जुड़े नेताओं के साथ ही साधु-संतों ने भी सरकारी भूमि पर अतिक्रमण किया हुआ है।

इस बार प्रशासन की ओर से उप जिलाधिकारी पूरण सिंह राणा और सिटी मैजिस्ट्रेट अवधेश कुमार सिंह को व्यापारियों और साधु-संतों से वार्ता कर अतिक्रमण हटाने को कहा गया जिसका लाभ भी प्रशासन को मिलता नजर आ रहा है। इसका उदाहरण उप जिलाधिकारी पूरण सिंह राणा द्वारा एक अखाड़े से जुड़े आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद से वार्ता कर अतिक्रमण हटाने को लेकर कहा गया। जिस पर उन्होंने स्वयं ही अतिक्रमण हटाने की पहल की। अपने आश्रम भारत माता मंदिर के आस-पास से अतिक्रमण हटा लिया।

इसका असर यह हुआ कि कई रसूखदार व्यापारियों और संतों ने स्वयं ही प्रशासन का सहयोग करना शुरू कर दिया। समय-समय पर अतिक्रमण हटाने को लेकर अभियान चलता रहता है। महाकुंभ 2020-21 में भी हरिद्वार को अतिक्रमण से मुक्ति दिलाने का असफल प्रयास किया जा चुका है उस समय भी तत्कालीन मेला प्रशासन द्वारा जब अतिक्रमणकारियों से कब्जा मुक्त कराने की अपील की गई तो वह उग्र हो गए। यही नहीं बल्कि उन्होंने तत्कालीन उप मेला अधिकारी पर हमला भी कर दिया था। इससे पहले 2019 में तत्कालीन जिलाधिकारी साधु-संतों तथा राजनीतिक दलों से जुड़े व्यापारियों की हठधर्मिता के कारण यह अभियान असफल साबित हुआ था। कांग्रेसियों का कहना था कि यह अभियान सिर्फ कांग्रेसियों के अतिक्रमण हटाने को लेकर था जबकि भाजपाइयों के अतिक्रमण पर सरकार और प्रशासन ने लचीला रुख अपनाया था।

बात अपनी-अपनी
सभी विभागों की टीम बनाकर एक भूमिका बनाई गई है। सभी को नोटिस दे दिए गए हैं। जल्द ही कार्यवाही की जाएगी।
दयानंद सरस्वती, मुख्य नगर अधिकारी

17 दिसंबर के बाद व्यापारियों के साथ बैठक होगी उसके बाद ही पूरे शहर से अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही को सख्ती से अंजाम दिया जाएगा।
पूरण सिंह राणा, एसडीएम, हरिद्वार

प्रशासन अपने नियम-कानून से चलेगा। हम भी प्रशासन के साथ हैं।
सुनील अग्रवाल (गुड्डु), नेता प्रतिपक्ष , नगर निगम

You may also like

MERA DDDD DDD DD