[gtranslate]
Uttarakhand

कोरोना वायरस के कोटाबाग विकास खण्ड में शराब तस्कर सक्रिय 

by, संजय स्वार
कोरोना वायरस कोविड-19 के कारण सम्पूर्ण लॉकडाउन के चलते जहां आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति में कठिनाई हो रही है वहीं नैनीताल जिले के कोटाबाग विकास खण्ड में शराब तस्करों की पौ बारह हो रही है। जहां एक तरफ खाद्यपदार्थों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने के लिए कई औपचारिकताओं को पूरा करना पड़ रहा है वहीं शराब तस्करों को इन पाबन्दियों से कोई असर नहीं पड़ रहा है। लॉकडाउन के चलते सभी शराब के सरकारी ठेके की दुकानें बंद हैं

सवाल है कि शराब के तस्कर बिना रोकटोक के सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों तक शराब कैसे उपलब्ध करा पा रहे हैं। ऐसे में स्थानीय प्रशासन और पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठ रहे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि उधनसिंहनगर और हरियाणा से आ रही शराब कई चेकपोस्ट होने के बाद कोटाबाग कैसे पहुंच रही है?

जब जगह जगह पर पुलिस हर वाहन की गहनता से जांच कर रही है ऐसे में क्षेत्र में शराब की निर्बाध रूप से तस्करी पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े करती है। क्षेत्र के लोगों का मानना है कि इतनी सख्ती के बाद भी शराब का क्षेत्र में आना बिना संरक्षण के सम्भव नहीं है। लोगों का कहना है कि खाद्यपदार्थों की आपूर्ति के लिए तो सरकार के सख्त निर्देशों के चलते आम आदमी को ढंग से राशन मुहैय्या नहीं हो पा रहा है वहीं शराब के लिए कोई रोकटोक नहीं है।

बताया जाता है कि तस्कर ये काम चरणबद्ध तरीक़े से कर रहे हैं और इसके लिये कुछ खास स्थानों और लोगों को चुना गया है जिनकी जिम्मेदारी कुछ विशेष स्थानों पर शराब पहुचाने की है। पहले शराब काशीपुर और अन्य स्थानों से बैलपड़ाव लाई जा रही है वहां से इसे अन्य लोग कोटाबाग के विभिन्न क्षेत्रों में पहुंचा रहे हैं और पुलिस मूकदर्शक बनी हुई है। स्थानीय लोगों ने ऐसे तत्वों के खिलाफ कड़ी कारवाई कर शराब की तस्करी पर रोक लगाने की मांग की है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD