[gtranslate]
Uttarakhand

नंदा लोकजात पर कोरोना का असर, सादगी से मनाया जाएगा उत्सव

संतोष सिंह 

सीमांत जनपद चमोली के दशोली ब्लॉक के अंतर्गत जैंसाल गांव में मां नंदा का उत्सव हर वर्ष ‘लोकजात’ के रूप मेें मनाया जाता है। लोकजात की परम्परा के अनुसार हर साल नंदा को बुलाया जाता है और उन्हें मौसमी फल और सब्जियां भेंट की जाती हैं। लेकिन इस बार कोरोना संकट के चलते यह उत्सव सादगी के साथ मनाया जाएगा।

इस बार मां नंदा देवी को बुलाने के लिए 23 अगस्त को गांव से छंतोली लेकर आशीष डंडरियाल और मयंक डंडरियाल गये हैं। माता को बुलाने के लिए ऋतु फल ककड़ी, मुंगरी और माता के श्रृंगार की चूड़ियां लेकर गये हैं। नंदा अष्टमी को नंदी कुंड में जात कर मां भगवती नंदा को ब्रह्म कमल के साथ बुलाकर लाते हैं। नंदा को बुलाने गए लोग 28 अगस्त को माता के मंदिर में पहुंचेंगे। इसके बाद 30 अगस्त को गांव में भव्य उत्सव मनाकर मां गौरा को जागरों से विदा करेंगे। जैंसाल गांव के युवा समाजसेवी सुधीर हटवाल ने बताया कि कोरोना संकट के चलते इस बार सादगी के साथ मां भगवती का उत्सव मनाया जाएगा।

You may also like

MERA DDDD DDD DD