Uttarakhand

निशंक के खिलाफ ताल ठोकते चैंपियन

हरिद्वार में अब कांग्रेस के बाद भाजपा में भी ‘बाहरी’ और ‘भीतरी’ का मुद्दा गरमाने लगा है

आगामी लोकसभा चुनाव में टिकट की दावेदारी के चलते हरिद्वार लोकसभा सीट पर ‘बाहरी’ और ‘भीतरी’ का मुद्दा गर्मा गया है। एक ओर जहां कांग्रेस में हरीश रावत विरोधी खेमा उन्हें बाहरी करार देने में जुटा हुआ है, तो वहीं भाजपा में भी निशंक के खिलाफ स्वर उठने लगे हैं। खानपुर से भाजपा विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन ने निशंक के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। वे हरिद्वार से अपनी पत्नी देवयानी सिंह के लिए लोकसभा टिकट मांग रहे हैं।

एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए विधायक कुंवर प्रणव सिंह ने कहा कि हरिद्वार से स्थानीय व्यक्ति को ही प्रत्याशी बनाये जाने की हर वर्ग के लोगों की मांग है। ताकि वह जनता के हर सुख-दुख में साथ खड़ा हो सके। उन्होंने कहा कि पहले कई सांसद बाहरी रहे हैं। हरीश रावत और निशंक दोनों प्रवासी हैं।

उन्होंने डॉ ़ रमेश पोखरियाल निशंक पर आरोप लगाया कि निशंक ने करोड़ों रुपये के शिलान्यास अवश्य किए, लेकिन उन कार्यों के कोई वर्क ऑर्डर और टेंडर नहीं हुए हैं। अगर भविष्य में सरकार जाती है, तो उन कार्यों का क्या होगा? उन्होंने कहा निशंक को पांच हफ्ते नहीं पांच साल सक्रिय रहना चाहिए था। चैंपियन ने बताया कि हरिद्वार लोकसभा सीट से देवयानी ने अपनी दावेदारी की है। इसके लिए उन्होंने राष्ट्रीय अध्यक्ष, प्रदेश प्रभारी और प्रदेश अध्यक्ष को बायोडाटा भेजा है। महिला सशक्तिकरण के नाते भी देवयानी की दावेदारी मजबूत है। फिर लोकसभा क्षेत्र ओबीसी बाहुल्य भी है। इस नाते भी देवयानी सिंह की दावेदारी मजबूत है। राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि चैंपियन को पर्दे के पीछे से मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत की शह है। यही वजह है कि वे पार्टी सांसद के विरूद्ध तीखे तेवर दिखा पा रहे हैं। हालांकि विधायक कुंवर प्रणव सिंह का विवादों से गहरा नाता रहा। अब उन्होंने अपनी पत्नी की दावेदारी जताने के लिए सांसद निशंक को जिस तरह कटघरे में खड़ा किया है उस पर भाजपा ने सख्त रुख दिखाया है।

प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने साफ किया है कि टिकट मांगना सभी का अधिकार है, लेकिन मर्यादा में रहकर। अपनी ही पार्टी के सांसद के खिलाफ अमर्यादित बात को पार्टी बर्दाश्त नहीं करेगी। अपने उल जुलूल बयानों से अक्सर अपनी पार्टी को करने वाले चैंपियन असहज एक बार फिर सुर्खियों में है। निशंक के खिलाफ चैंपियन के बयान को पार्टी ने गंभीरता से लिया है। बहुत संभव है कि उनके विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई भी हो जाए। प्रदेश भाजपा अजय भट्ट का साफ कहना है कि अमर्यादित, अशिष्ट व्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। अपनी पार्टी के सांसद के खिलाफ इस तरह की बयान-बाजी नहीं की जा सकती है। इस मामले में कुंवर प्रणव सिंह का स्पष्टीकरण लिया जाएगा। बहरहाल सांसद निशंक पर चैंपियन के आरोपों का जवाब देने के लिए पार्टी पदाधिकारी भी सामने आए हैं। उन्होंने कहा कि जिन कार्यों की घोषणाएं और शिलान्यास हुए हैं उनके टेंडर जारी हो गए हैं। चैंपियन की पत्रकार वार्ता के चंद घंटे बाद ही भाजपाई भी मीडिया के सामने आए। दिल्ली रोड पर हुई भाजपा की पत्रकार वार्ता में पार्टी के प्रदेश सह मीडिया प्रभारी ओम प्रकाश जमदग्नि ने कहा कि विधायक की ओर से कहा गया कि सांसद ने जो शिलान्यास किए वह चुनावी हैं, लेकिन कार्यों के टेंडर जारी हो चुके हैं। सौ फीसदी यह काम धरातल पर होंगे। सांसद को प्रवासी बताना गलत है। वह सांसद हैं और प्रदेश के मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं। वह पूरे प्रदेश में कहीं भी चुनाव लड़ सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like