[gtranslate]
Uttarakhand

बदमाशों ने सरेआम मारी पत्रकार को गोली

उत्तराखण्ड में अपराध पर अंकुश लगाने का दावा करती आ रही भाजपा सरकार के राज में बदमाशों के हौसले इतने बुलंद हैं कि आचार सहिंता लागू होने के बावजूद खुलेआम दिन-दहाड़े पत्रकार पर गोलियां वर्षा रहे हैं। 25 मार्च को हल्द्वानी में करीब चार बजे दिन में ‘दि संडे पोस्ट’ साप्ताहिक समाचार पत्र में कार्यरत मनोज बोरा को दो युवकों ने गोली मार दी। एक गोली उसके पैर पर लगी, जबकि पिस्टल लोड करने के दौरान एक गोली जमीन पर गिर गई। सरेआम वारदात से क्षेत्र में खलबली मच गई। लोगों ने मनोज को अस्पताल में भर्ती कराया गया। पुलिस हमलावरों की पहचान के लिए क्षेत्र में लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाल रही है।
मुखानी थाना क्षेत्र के शिव शक्ति कॉलोनी, बिठौरिया नंबर एक निवासी मनोज बोरा ने बताया कि शाम करीब चार बजे बाइक सवार दो युवक उनके घर के पास आए और किराए पर रूम के बारे में पूछने लगे। मनोज के अनुसार जब कमरा किराए पर खाली नहीं होने की बात कही तो दोनों युवक भड़क गए और मनोज को गोली मारकर फरार हो गए। घटना की सूचना पर मुखानी पुलिस मौके पर पहुंच गई। इसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। घटना की जानकारी मिलते ही दर्जनों कांग्रेसी, यूथ कांग्रेसी एवं एनएसयूआई कार्यकर्ता अस्पताल पहुंच गए। थानाध्यक्ष मुखानी नंदन सिंह रावत ने अस्पताल पहुंचकर घटना की जानकारी ली। और थानाध्यक्ष ने गोली मारने के कारणों का पता लगाने के साथ ही बदमाशों की तलाश शुरू कर दी गई है। कई टीमें क्षेत्र के सीसीटीवी कैमरे खंगालने के लिए लगा दी गई हैं।  मनोज ‘दि संडे पोस्ट’ साप्ताहिक समाचार पत्र से भी जुड़े हुए हैं।
. . .तो किसी और को गोली मारना चाहते थे बदमाश। मनोज बोरा को गोली लगने से उनके दर्जनों दोस्त अस्पताल पहुंच गए। मनोज को खनन कारोबारी दिव्य प्रकाश रावत की स्कार्पियो लेकर रुद्रपुर गया था। दोस्तों के मुताबिक बदमाशों को लगा कि कार में दिव्य प्रकाश सवार है। लिहाजा उन्होंने मनोज को गोली मार दी। ऐसा लगता है कि हमलावरों को केवल कार दिखाकर गोली मारने के लिए कहा गया होगा। बदमाश कार का पीछा करते हुए मनोज के घर तक पहुंचे। मनोज जैसे ही सामने आया तो बदमाशों ने उस पर गोली चला दी। वहीं, भतरौजखान के कुछ लोगों पर भी पुरानी रंजिश के चलते वारदात को अंजाम देने की आशंका जताई जा रही है।

You may also like