[gtranslate]
Country Uncategorized

तालिबान शासन में सुरक्षित नहीं महिलाएं

 

तालिबानियों द्वारा अफगान पर कब्जा करने के बाद से ही अफगानी महिलाएं वहां सुरक्षित नहीं हैं । तालिबनी सत्ता पाने की शुरुआत से लेकर अब तक महिलाओं का शारीरिक, मानसिक शोषण करते आए है। पिछले साल से ही तालिबानियों द्वारा महिलाओं के साथ किये गए शारीरिक शोषण की खबरें आती रही हैं । सत्ता हासिल करने के बाद भी अफगान में महिलाओं के साथ बलात्कार ,मारपीट ,धर्म के नाम उन्हें प्रताड़ित करने जैसे मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं । देश की सत्ता में काबिज होने के एक साल बाद भी महिलाओं के साथ जानवरों जैसा व्यवहार हो रहा है । इस बीच कुछ ऐसी ही दास्तां सुनाते हुए एक अफगानी महिला का सोशल मीडिया पर अपनी वीडियो जारी की है। इस वीडियो में महिला तालिबान के गृह मंत्रालय के पूर्व प्रवक्ता सईद खोस्ती पर बलात्कार और मारपीट के आरोप लगा रही है। इलाहा दिलवाजिरी नामक इस महिला ने खोस्ती पर रोजाना बलात्कार करने का आरोप लगाया है। यह महिला काबुल विश्वविद्यालय की छात्रा है।

महिला के मुताबिक उसके साथ जबरन शादी की गई थी। शादी के पहले भी सईद खोस्ती ने उसके साथ रेप किया था और शादी के बाद भी रोजाना हर रात उसके साथ बलात्कार किया जाता रहा।  वीडियो में महिला अपने चोट के निशान दिखाकर अपनी आपबीती बता रही है। महिला के अनुसार वे पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा जनरल की बेटी है। इलाहा ने ये दावा किया है खोस्ती से उनकी जान खतरे में है। वो कई बार भागने के प्रयास कर चुकी है पर हर बार असफल रही है। एक बार तंग आकर उसने घर से भागने की कोशिश की लेकिन उसे तोरखम बॉर्डर से पकड़ लिया गया। जिसके बाद जबरदस्ती उसके पती के पैरों को चुमवाया गया था।

मोबाइल पर राष्ट्रीय सुरक्षा बलों की तस्वीरें रखने के लिए तालिबान की खुफिया एजेंसी द्वारा इलहा को कैद कर लिया गया गया था। हिरासत में रहते हुए इलहा के साथ सईद खोस्ती ने बलात्कार किया। यही नहीं महिला के साथ मारपीट भी की गई। तालिबान अधिकारी उसके परिवार को शादी पर सवाल न उठाने के लिए धमकाते रहते है। इलहा को अभी काबुल के गुलबहार सेंटर में रखा गया है। तालिबानियों द्वारा इतना प्रताड़ित होने के बाद उसके पास वीडियों बंनाने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा था। इसलिए महिला ने सोशल मीडिया पर जारी की गई वीडियों में कहा कि उनकी जान को खतरा है। रोते हुए इलहा ने बताया कि रोज मरने की तुलना में एक दिन की मौत बेहतर है। उसने कहा हो सकता है कि ये मेरे अंतिम शब्द हों।

इस वीडियों के जारी होने के बाद सईद खोस्ती ने ट्विटर पर अपना एक बयान जारी किया। उन्होंने कहा कि उसने उस लड़की को तलाख दे दिया है। तलाख देने के पीछे का कारण खोस्ती ने ‘गैर-इस्लामी मान्यताओं’ को बताया है। खोस्ती के अनुसार इलहा ने इस्लाम का अपमान किया है। आरोपों को खोस्ती ने मानने से इंकार कर कहा कि उसने लड़की को नहीं मारा’ लेकिन महिला के मुताबिक उसे इतना प्रताड़ित किया जाता था कि एक बार तंग आकर उसने घर से भागने की कोशिश भी की। लेकिन उसे तोरखम बॉर्डर से तालिबानियों द्वारा पकड़ लिया गया। इलहा द्वारा इस वीडियो के बाद एक और वीडियो जारी किया गया जिसमें खोस्ती अपने दो साथियों के साथ के घर में घुसता दिखाई दे रहा है। ये वीडियो जारी होने के बाद ट्विटर पर ही खोस्ती ने एक बयान भी दिया। तालिबानी खोस्ति के बयान अनुसार लड़की की गुजारिश’ पर ही उसने उससे शादी की थी। जब उसे मालूम हुआ कि लड़की को ‘धर्म में यकीन’ नहीं है, तो उसने उसे तलाक दे दिया। इसके बाद तालिबानियों द्वारा लड़की को अब गिरफ्तार करलेने की पुष्टि कर दी गई है। महिला को तालिबान के मुख्य न्यायाधीश अब्दुल हकीम हक्कानी के आदेश पर मानहानि के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। तालिबान के अनुसार जल्द ही शरिया कानून के मुताबिक, लड़की को सजा सुनाई जाएगी। लेकिन तालिबान की तरफ से सईद खोस्ती पर क्या एक्शन लिया जाएगा इसकी कोई जानकारी नहीं दी गई।

गौरतलब है कि तालिबानियों द्वारा पहले भी अफगानी महिलाओं से बदसलूकी की जाती रही है। उनके साथ से जबरदस्ती की जाती थी और जबरन अफगानी महिलाओं से तालिबान लड़ाके शादी करते थे। इसके वजह से अधिकतर महिलाए घर छोड़कर भागने के लिए मजबूर हो रही थी। यही नहीं शादी से एतराज जताने पर तालिबानी लड़ाकों द्वारा महिलाओं के पतियों की हत्या की जा रही थी। उस दौरान तालिबान ने अफगानिस्तान में क्रूरता की सारी हदों को पार कर दिया था। गौरतलब है कि तालिबान हर बार महिलाओं की आजादी का खोखला दावा करता आया है लेकिन वो अपने दावों पर कभी खरा नहीं उतरा।

 

You may also like

MERA DDDD DDD DD