[gtranslate]
Country Uncategorized

Vaccine की दूसरी डोज में 10 महीने का अंतर ज्यादा प्रभावी, ऑक्सफोर्ड की स्टडी

vaccine

एक नए अध्ययन में कहा गया है कि अगर ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका Vaccine की 2 खुराक के बीच 10 महीने का अंतर है तो यह अधिक अच्छा काम करेगा। इसके साथ ही अगर तीसरी बूस्टर डोज दी जाए तो यह एंटीबॉडी को बढ़ाने में कारगर होगी।

दरअसल , ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका Vaccine की 2 खुराक के बीच के अंतर पर चर्चा की गई, जिसमें ऑक्सफोर्ड के अध्ययन ने सुझाव दिया कि कोरोना का प्रतिरोध बेहतर काम करता है। अध्ययन में यह भी कहा गया है कि एक तीसरी बूस्टर खुराक भी एंटीबॉडी को बढ़ाने में मदद करेगी। अध्ययनों से पता चला है कि टीके की पहली खुराक के बाद एंटीबॉडी लगभग एक साल तक बनी रहती हैं। जिसे बूस्टर डोज कहा जाता है उसे दूसरी डोज के 6 महीने बाद दिया जा सकता है।

भारत का ऑक्सफोर्ड सीरम इंस्टीट्यूट एस्ट्राजेनेका Vaccine में भागीदार रहा है। सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा भारत में Vaccine का परीक्षण किया गया था। सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा Vaccine को कोविशील्ड नाम दिया गया है। वैक्सीन वर्तमान में भारत में सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता है। भारत में वैक्सीन का टाइप गैप कई बार बदला है। फिलहाल इसका गैप 12-16 हफ्ते का है।

Vaccine का उत्पादन तेजी से गिरा

जून में अब तक कोविशील्ड की 100 मिलियन से अधिक खुराक का उत्पादन किया जा चुका है। कोरोना महामारी की तीसरी लहर की प्रत्याशा में भारत में टीकाकरण की गति तेज कर दी गई है। 21 जून को देश भर में मुफ्त कोरोना टीकाकरण अभियान शुरू होने के बाद से पिछले छह दिनों में भारत में रोजाना करीब 69 लाख खुराक दी जा चुकी हैं।

एक और टीका सीरम तैयार कर रहा है

कोरोना वायरस से बचाव के लिए एक और Vaccine को पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा लॉन्च किया जा रहा है। क्लीनिकल ​​​​परीक्षणों में वैक्सीन को 90 प्रतिशत से अधिक प्रभावी दिखाया गया है। भारत में इसका ब्रिजिंग ट्रायल भी अपने अंतिम चरण में है। यानी देश को जल्द ही एक और वैक्सीन मिल जाएगी। आने वाले महीनों में देश में बच्चों पर कोवोवेक्स का क्लीनिकल ट्रायल भी शुरू किया जाएगा।

WHO ने Delta Variant को लेकर दी बड़ी चेतावनी

You may also like

MERA DDDD DDD DD