विशाखापट्टनम आंध्र प्रदेश में पोर्ट नौका कोस्टल जगुआर (विशाखापट्टनम) में भीषण आग लग गई। जहाज पर सवार क्रू के सदस्यों ने जलते जहाज से पानी में कूदकर अपनी जान बचाई। जहाज में सवार 28 क्रू सदस्यों को बचाया जा चुका है। एक शख्स अब भी लापता है। आग को 11ः30 बजे लगी। इसके बाद क्रू के सभी सदस्य पानी में कूद गए। 28 क्रू सदस्यों को इंडियन कोस्ट गार्ड ने बचा लिया है। एक क्रू सदस्य लापता है। आग लगने के कारण का पता फिलहाल नहीं चल पाया है।

विशाखापट्टनम तट पर तटरक्षक के एक पोत में सोमवार को आग लगने के बाद 28 कर्मियों को बचा लिया गया। जबकि चालक दल का एक सदस्य लापता है। पूर्वी नौसेना कमान के एक प्रवक्ता के अनुसार, आग लगने के बाद जहाज कोस्टल जगुआर के चालक दल के सदस्य खुद को बचाने के लिए जहाज से समुद्र में कूद गए। उन्होंने कहा, कोस्टल जगुआर में कथित तौर पर एक जोरदार विस्फोट हुआ, जिसके बाद जहाज से धुंआ निकलने लगा। क्षेत्र में मौजूद आईसीजीएस रानी राशमोनी को बचाव अभियान के लिए भेजा गया।

विशाखापत्तनम पोर्ट ट्रस्ट (वीपीटी) की नौकाओं के साथ मिलकर रानी राशमोनी ने संकट में फंसे चालक दल को बचाया। प्रवक्ता ने कहा, पोत पर तैनात रहे चालक दल के 29 सदस्यों में से 28 को बचा लिया गया है, जबकि एक सदस्य लापता है, जिसकी तलाश जारी है। आईसीजीएस समुद्र पहरेदार, आईसीजी हेलीकाप्टर और आईसीजीएस सी-432 भी शामिल हैं। आग लगने के सही कारणों का अभी तक पता नहीं चल पाया है।

You may also like