[gtranslate]
sport

पिछले साल आज ही के दिन युवराज सिंह ने किया था संन्यास की घोषणा

पिछले साल आज ही के दिन युवराज सिंह ने किया था संन्यास की घोषणा

भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों के लिए 10 जून एक दु:खद दिन है। क्योंकि पिछले साल इसी दिन भारत के ‘सिक्सर किंग’ युवराज सिंह ने संन्यास की घोषणा की थी। हालांकि, उन्होंने यह स्पष्ट किया था कि वो घरेलू टी 20 लीग प्रतियोगिताओं में खेलना जारी रखेंगे। युवराज को संन्यास लेने का फैसला करते हुए बहुत भावुक हो गए थे। उन्होंने आईपीएल 2019 के बाद मुंबई में एक संवाददाता से कहा, “मेरे लिए संन्यास लेने का फैसला करना बहुत मुश्किल था, लेकिन मैंने अपने परिवार के साथ-साथ अन्य वरिष्ठ दादा-दादी के साथ चर्चा के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने का फैसला किया हूँ।”

ठीक उसी तरह जैसे सचिन तेंदुलकर ने मुंबई में अपना आखिरी मैच खेला था, क्या आप अपने पसंदीदा मैदान पर आखिरी मैच नहीं खेलना चाहते थे? या आपने इस संबंध में बीसीसीआई से अनुरोध नहीं किया है? जब ये सवाल उनसे पूछा गया तो उन्होंने कहा, “मुझे इस तरह का क्रिकेट पसंद नहीं है। मैंने कभी किसी को अपना संदेश चलाने पर जोर नहीं दिया। मुझे बताया गया था कि अगर मैंने यो-यो टेस्ट पास नहीं किया, तो मुझे एक मैसेज मैच खेलने को मिलेगा और फिर मुझे रिटायर होना पड़ेगा। लेकिन मैं कभी भी उस तरीके को अलविदा नहीं कहना चाहता था। इसलिए मैंने स्पष्ट कर दिया कि अगर मैंने यो-यो टेस्ट पास नहीं किया, तो मैं अपने घर जाऊंगा और कोई भी मुझे बताने से पहले सेवानिवृत्ति स्वीकार कर लूंगा।”

युवराज के पिता बहुत अनुशासित हैं। यह वह था जिसने युवराज को क्रिकेट में आने के लिए प्रोत्साहित किया। युवराज के संन्यास के बारे में उनसे उनकी राय मागी गई थी जब वही सवाल युवराज से पूछा गया तो उन्होंने जवाब दिया, “मैं अपने पिता के लिए क्रिकेट में आया था। वह खुद एक महान क्रिकेटर थे। लेकिन वे क्रिकेट विश्व कप नहीं उठा सके। तो उन्होंने मुझमें वह सपना देखा। सौभाग्य से मैं उनके सपने को पूरा करने में सक्षम था। मुझे लगता है कि मैंने दो विश्व कप, 2007 टी 20 विश्व कप और 2011 एकदिवसीय विश्व कप उठाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसलिए, मेरे पिता निश्चित रूप से इस करियर के बाद मेरी सेवानिवृत्ति पर गर्व कर रहे हैं।”

You may also like