[gtranslate]
sport

सचिन को आउट करने पर इस खिलाड़ी को मिली थी जान से मारने की धमकी

सचिन को आउट करने पर इस खिलाड़ी को मिली थी जान से मारने की धमकी

कोरोना महामारी के कारण दुनिया भर के कई देशों में लॉकडाउन जारी है। यह कहना उचित है कि क्रिकेट ने पिछले ढाई महीने से ब्रेक लिया है। इस बीच दुनिया भर के क्रिकेटर सोशल मीडिया के माध्यम से अपने प्रशंसकों के साथ बातचीत करके पुरानी यादों को ताजा कर रहे हैं। कई क्रिकेटरों ने आश्चर्यजनक खुलासे किए हैं। अब इसी में इंग्लैंड के पूर्व गेंदबाज टिम ब्रेसनन भी शामिल हैं।

जान से मारने की धमकी

पॉडकास्ट के यॉर्कशायर क्रिकेट कवर्स में बोलते हुए ब्रेसनन ने खुलासा किया कि 2011 में टेस्ट मैच के दौरान सचिन तेंदुलकर को एलबीडब्लू के आउट होने के बाद उन्हें और अंपायर रॉड टकर को जान से मारने की धमकी मिली थी। सचिन तेंदुलकर इस टेस्ट मैच में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 100 शतक पूरे कर सकते थे। लेकिन 91 के स्कोर पर ब्रसेन ने तेंदुलकर को एलबीडब्ल्यू आउट कर दिया। यह बहुत कठिन निर्णय था। क्योंकि टीवी रिप्ले में गेंद को लेग स्टंप के ऊपर से छूते हुए देखा गया था।

इस टेस्ट श्रृंखला में कोई समीक्षा नहीं की गई थी, क्योंकि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड इसके खिलाफ था। ब्रेसनन ने बताया यह टेस्ट सीरीज का आखिरी मैच था। जो ओवल में खेला गया था। तेंदुलकर ने उस समय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 99 शतक बनाए थे। तेंदुलकर जिस गेंद पर आउट हुए, वह लेग स्टंप के बाहर जा रही थी। हालांकि, अंपायर टकर ने फैसला सुनाया कि तेंदुलकर आउट हो गए। उस समय सचिन 80 और 90 रनों पर बल्लेबाजी कर रहे थे। निश्चित रूप से तेंदुलकर ने उस मैच में शतक बनाया होगा। हमने सचिन के आउट होने के बाद श्रृंखला जीती, लेकिन साथ ही हम शीर्ष पर थे।

टकर को पुलिस सुरक्षा

इंग्लैंड के लिए 23 टेस्ट, 85 एकदिवसीय और 34 ट्वेंटी 20 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेलने वाले ब्रसेन ने कहा कि उन्हें और अंपायर रॉड टकर को जान से मारने की धमकी दी गई थी। उन्होंने आगे कहा कि सचिन को बर्खास्त करने के बाद हम दोनों को जान से मारने की धमकी दी गई। धमकी देने का सिलसिला कई दिनों तक चलता रहा। लोग अंपायर टकर के घर पर धमकी भरे पत्र भेज रहे थे। वे उनसे यह भी पूछ रहे थे कि वह सचिन को कैसे आउट करते हैं। कुछ महीने जब हम मिले। उस समय, उन्होंने मुझे बताया कि बढ़ते खतरों के कारण उन्हें पुलिस सुरक्षा लेनी पड़ी। उन्हें ऑस्ट्रेलिया में पुलिस सुरक्षा लेनी पड़ी।

You may also like