[gtranslate]
sport

…तो खत्म हो गई धोनी की पारी

वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से भारत की हार के बाद महेंद्र सिंह धोनी का क्रिकेट करियर खत्म होना तय माना जा रहा है। सिलेक्टरों ने इस बात का कड़ा संकेत दिया है कि अगर टीम इंडिया को 2011 में वर्ल्ड चैंपियन बनाने वाले धोनी रिटायरमेंट नहीं लेते हैं, तो शायद ही वह टीम इंडिया के लिए कभी खेल सकें। कहा जा रहा है कि  मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद जल्द ही धोनी से बात करेंगे।

ऐसा तब होगा जब धोनी अगर पहले ही अपने फैसले के बारे में प्रसाद को जानकारी नहीं देते। सूत्र के अनुसार ऐसा नहीं  लगता है कि वह सिलेक्टरों के टी20 वर्ल्ड कप-2020 के प्लान का हिस्सा हैं। उन्हें सम्मान के साथ अंतरराष्ट्रीय  क्रिकेट को अलविदा कहना चाहिए।

अब वह कभी वो  लय हासिल नहीं कर सकते, जो कभी हुआ करती थी ।ऋषभ पंत जैसे युवा क्रिकेटर अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं। वहीं धोनी अब पहले जैसे फिनिशर नहीं रहे। 6 या 7 नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरते हैं तो संघर्ष करते दिखाई देते हैं। जिससे  टीम को   नुकसान हो रहा है।

न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में धोनी की पारी धीमी रही थी और आखिरी ओवरों में जब गेंद की तुलना में अधिक रन चाहिए थे तो वह आउट हो गए और भारत 18 रन से हार गया।
2019 वर्ल्ड से पहले सिलेक्टर्स और धोनी के बीच रिटायरमेंट पर कभी बात नहीं हुई।क्योकि कोई नहीं  चाहता था  कि धोनी का ध्यान भटके। सब यही  चाहते थे कि  धोनी अपना पूरा ध्यान वर्ल्ड कप लगाएं और उसे देश लाएं। लेकिन, अब समय बदल गया है। ऐसा कुछ नहीं है, जिसे उन्होंने पाया ना हो और ना ही उन्हें अंतरराष्ट्रीय  मंच  पर साबित करने की जरूरत है।
भारतीय क्रिकेट में अहम स्थान रखने वाले एक पूर्व खिलाड़ी ने कहा, ‘मुझे विश्वास है कि धोनी फिर से भारत के लिए नहीं चुने जाएंगे। यह सबसे अच्छा समय है जब वह क्रिकेट को अलविदा कह दें।’ यही नहीं, उन्होंने कहा कि वास्तव में, मुझे लगता है कि विराट कोहली की कप्तानी की भी समीक्षा की जा सकती है। यह अभियान किसी भी मानकों से सफल नहीं था। उनकी जवाबदेही तो बनती ही है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD