[gtranslate]
sport

दक्षिण एशियाई खेल :तीसरे दिन 15 गोल्ड मेडल जीत, शीर्ष पर भारत

नेपाल में खेले जा रहे दक्षिण एशियाई खेलों के  तेरहवें संस्करण का रंगारंग आगाज नेपाल की राजधानी काठमांडू में राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी ने किया। इसके बाद आतिशबाजी और सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए। उद्घाटन समारोह की शुरुआत खिलाड़ियों के मार्च पास्ट से हुई थी। स्टेडियम में 15 हजार दर्शक मौजूद थे। दस दिन तक चलने वाले इन खेलों में सात देशों के 2700 खिलाड़ी 26 खेलों में दांव पर लगे हैं।
खेलों के तीसरे दिन यानी कल चार नवंबर को ट्रैक और फील्ड खिलाड़ियों ने 13वें दक्षिण एशियाई खेलों में शानदार प्रदर्शन करते हुए 29 पदक और जीतकर अंक तालिका में अपनी स्थिति बेहतर कर ली। भारत ने कल  15 स्वर्ण पदक जीते जिनमें से पांच एथलेटिक्स में थे । भारत के अब 32 स्वर्ण, 26 रजत और 13 कांस्य पदक हो गए हैं।
एथलेटिक्स में भारत ने दस पदक (पांच स्वर्ण, तीन रजत और दो कांस्य) अपने नाम किये जबकि छह टेबल टेनिस और ताइक्वांडो, पांच ट्रायथलन और दो खो- खो में जीते। एथलेटिक्स स्पर्धा के पहले दिन भारतीयों का दबदबा रहा । अर्चना सुसींद्रन ने महिलाओं की 200 मीटर दौड़ में स्वर्ण पदक जीता। वहीं भारत की ही ए चंद्रलेखा तीसरे स्थान पर रही । सुरेश कुमार ने पुरूषों के 10000 मीटर वर्ग में स्वर्ण पदक जीता। लंबी कूद में लोकेश सत्यनाथन और स्वामीनाथन पहले दो स्थान पर रहे।

पुरूषों के चक्काफेंक में कृपाल सिंह और गगनदीप सिंह ने पहले दो स्थान हासिल किए। महिलाओं के चक्का फेंक में नवजीत कौर ढिल्लों ने भारत को स्वर्ण पदक दिलाया जबकि सुर्वी विश्वास को रजत पदक मिला । लंबी कूद में सैंड्रा बाबू को कांस्य पदक मिला। भारतीय पुरूष और महिला खो-खो टीमों ने क्रमश: बांग्लादेश और नेपाल को हराकर स्वर्ण पदक अपनी झोली में डाले।

वर्ष 2016 में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय पुरूष टीम ने बांग्लादेश पर  पारी और सात अंक से जीत हासिल की और उनका स्कोर 16-9 रहा। महिलाओं के फाइनल में कप्तान नसरीन ने अगुआई करते हुए पांच अंक जुटाए जबकि उनकी साथी काजल भोर ने भी पांच अंक जोड़कर अहम योगदान दिया ।

भारत ने दोनों वर्गों में स्वर्ण जीते तो बांग्लादेश को पुरूष स्पर्धा में रजत पदक से संतोष करना पड़ा जबकि नेपाल तीसरे स्थान पर रहा। महिला वर्ग में नेपाल ने दूसरा स्थान हासिल किया जबकि बांग्लादेश ने अपना अभियान कांस्य पदक से समाप्त किया। भारत ने ताइक्वांडो स्पर्धा में दबदबा बनाते हुए तीन स्वर्ण सहित कुल छह पदक अपने नाम किए। लतिका भंडारी (अंडर 53 किग्रा), जरनेल सिंह (अंडर 74 किग्रा) और रूदाली बरूआ (ओवर 73 किग्रा) ने स्पर्धाओं में स्वर्ण पदक जीते।

सौरव और गंगजोत ने पुरूषों की अंडर 63 किग्रा और महिलाओं की 62 किग्रा में रजत पदक प्राप्त किए जबकि चैतन्य इनामदार ने पुरूष ओवर 86 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक हासिल किया। वहीं भारत ने टेबल टेनिस प्रतियोगिता की पुरुष एवं महिला युगल स्पर्धाओं में स्वर्ण और रजत पदक जीते। पुरुष युगल फाइनल में हरमीत देसाई और एंथनी अमलराज ने हमवतन सानिल शेट्टी और सुधांशु ग्रोवर को 8-11, 11-7, 11-7, 11-5, 8-11, 12-10 से हराया।

नेपाल के सांतू श्रेष्ठ और विनेश खानिया ने कांस्य पदक जीता। महिला युगल फाइनल में मधुरिका पाटकर और श्रीजा अकुला ने सुत्रिता मुखर्जी और अयहिका मुखर्जी को 2-11, 11-8, 11-8, 11-6, 5-11, 11-5 से पराजित करके खिताब जता। श्रीलंका की विशाखा मधुरंगी और हंसिनी पुलिमा ने कांस्य पदक हासिल किया। मिश्रित युगल में हरमती और सुत्रिता मुखर्जी ने अमलराज और अयहिका को 11-6, 9-11, 11-6, 11-6, 11-8 से हराकर स्वर्ण पदक जीता।

You may also like

MERA DDDD DDD DD