sport

डेब्यू मैच में पृथ्वी का ‘शो’

भारतीय ओपनर पृथ्वी शॉ ने टेस्ट क्रिकेट में धमाकेदार एंट्री की है। उन्होंने अपने पहले ही टेस्ट मैच में शतक लगाकर कई रिकॉर्ड अपने नाम कर लिए हैं। पृथ्वी शॉ अब सबसे छोटी उम्र में शतक बनाने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं। उन्होंने 99 गेंदों में अपना पहला टेस्ट शतक लगाया है। पृथ्वी शॉ ने पहली ही पारी में दिखा दिया है कि वो लंबी रेस के घोड़े हैं। शॉ पिछले साल इसी मैदान पर रणजी ट्रॉफी में पदार्पण किया था और शतक बनाया था। उसके इस डेब्यू से सचिन तेंदुलकर की याद ताजा हो गई।

शॉ की बल्लेबाजी इतनी आक्रामक थी कि सोशल मीडिया पर उनकी तुलना सहवाग से होने लगी है। पूर्व सलामी बल्लेबाज आकाश चोपड़ा ने भी उनकी बल्लेबाजी को सहवाग की तरह बेखौफ बताया। कप्तान विराट कोहली ने खुद उन्हें 293 नंबर की टेस्ट कैप सौंपी। टॉस से पहले टीम इंडिया ने हर्डल बनाकर पृथ्वी शॉ को यह सम्मान दिया। 18 वर्ष 329 दिन के पृथ्वी शॉ ने वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले ही टेस्ट मैच में केएल राहुल के साथ ओपनिंग की। पृथ्वी ने ही मैच की पहली गेंद का सामना किया। उन्होंने मैच की दूसरी ही गेंद पर शानदार बैकफुट पंच लगाकर अपना खाता खोला। शैनन गैब्रिएल की इस गेंद पर तीन रन बनाए। पृथ्वी के साथ ओपनिंग कर रहे केएल राहुल की किस्मत खराब रही। वे पहले ही ओवर में बिना खाता खोले आउट हो गए। उसके बाद पुजारा के साथ पृथ्वी ने शतकीय साझेदारी की।पृथ्वी ने अपने पहले ही टेस्ट मैच में 87.01 की औसत से शानदार 134 रनों की शतकीय पारी खेली। इस पारी में उन्होंने 19 चौके भी लगाए। सचिन तेंदुलकर पृथ्वी शॉ के लिए पहले ही भविष्यवाणी कर चुके थे। सचिन जब पृथ्वी से पहली बार मिले तब ही समझ गए थे कि वो एक दिन जरूर टीम इंडिया के लिए खेलेंगे। 10 साल पहले एक दोस्त ने सचिन को पृथ्वी से मिलवाया था। उनके दोस्त ने कहा कि इस बच्चे का खेल देखो और बताओ क्या हो सकता है। जिसके बाद सचिन ने उसका खेल देखा कहा था कि एक दिन ये खिलाड़ी जरूर टीम इंडिया के लिए खेलेगा।

You may also like