भारतीय और ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के बीच मैच के दौरान छींटाकशी और कहासुनी जैसी कोई घटना न हो, ये कम ही देखने को मिलता है। पर्थ में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच के चौथे दिन की सुबह कुछ ऐसा ही नजारा देखने को मिला जब दोनों टीमों के कप्तान-विराट कोहली और टिम पेन के बीच गरमा-गरमी सबके सामने थी। मैच के चौथे दिन जब सुबह दोनों कप्तान भिड़े तो स्टेडियम में जो भी दर्शक मौजूद थे वो भी इस नजारे को देखने से चूके नहीं। मैदान पर शोर इसका गवाह बना। आलम ये रहा कि अम्पायर को भी हस्तक्षेप करना पड़ा। यही नहीं भारत के तेज गेंदबाज इशांत शर्मा और स्पिनर रवींद्र जडेजा आपस में भिड़ते दिख रहे हैं।

इस दौरान दोनों एक-दूसरे से खासा नाराज और गुस्से में नजर आ रहे थे। दोनों इशारों से बातचीत कर रहे थे और दोनों खिलाड़ियों को देखकर साफ लग रहा था कि दोनों किसी बात को लेकर उलझ रहे हैं। दोनों एक-दूसरे की तरफ उंगली दिखाते हुए आपस में उलझ रहे हैं। जडेजा मैदान पर फील्डिंग करने विकल्प के रूप में पहुंचे थे, इस दौरान उनकी इशांत से किसी बात पर बहस हो गई। इन दोनों के बीच काफी देर तक बहस होती रही। इसके बाद इन दोनों को उलझता देख मोहम्मद शमी और कुलदीप यादव बीच बचाव करने उतरे और उन दोनों को अलग किया।

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट मैचों की सीरीज के दूसरे टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया ने अपने गेंदबाजों के लाजवाब प्रदर्शन के दम पर भारत को 146 रनों से हरा दिया। इसी के साथ मेजबान टीम ने सीरीज 1-1 से बराबर भी कर ली। दक्षिण अफ्रीका में मार्च में गेंद से छेड़छाड़ मामले के सामने आने के बाद ऑस्ट्रेलिया की यह पहली टेस्ट जीत है। वहीं, बतौर कप्तान टिम पेन की भी यह पहली जीत है। भारत ने एडीलेड टेस्ट में खेले गए पहले टेस्ट में 31 रन से जीत दर्ज की थी। भारत के पास दूसरा मुकाबला जीतकर सीरीज में बढ़त बनाने का अच्छा मौका था लेकिन टीम कामयाब नहीं हो सकी। 287 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम पांचवें और आखिरी दिन लंच से पहले 140 रन पर ऑलआउट हो गई।


भारत के बल्लेबाज पहली और दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों का डटकर सामना नहीं कर सके। ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 326 रन बनाए थे जिसके जवाब में भारत ने कप्तान विराट कोहली के शानदार 123 रनों की शतकीय पारी के बदौलत 283 रन बनाए। कोहली का यह टेस्ट में 25वां शतक था। पहली पारी में 43 रन की बढ़त हासिल करने के बाद ऑस्ट्रेलिया ने दूसरी पारी में 243 रन बनाकर भारत को 287 रन का लक्ष्य दिया। जबाब में भारत की पूरी टीम 140 रनों पर ढेर हो गई।

पर्थ के ऑप्टस स्टेडियम में खेले गए इस मैच के चौथे दिन ही ऑस्ट्रेलिया ने भारत को हार की तरफ धकेल दिया था। अंतिम दिन पांच विकेट पर 112 रनों से आगे खेलने उतरी मेहमान टीम 27 रन ही जोड़ सकी। खेल के पांचवे दिन हनुमा विहारी और ऋषभ पंत ने क्रमशः 24 और 9 रन से आगे खेलना शुरू किया। भारत को पहला झटका हनुमा के रूप में लगा हनुमा ने 28 रन बनाए। तब भारत का स्कोर 119 था। इसके बाद पंत भी टीम के लिए ज्यादा कुछ नहीं कर पाए और 30 रन बनाकर आउट हो गए। पंत के आउट होते ही भारत ने अगले तीन रन के अंदर अपने तीन बल्लेबाजों के विकेट गंवा दिए। भारत को जीत के लिए बड़ी साझेदारियों की दरकार थी लेकिन कोई भी बल्लेबाज टिककर रन नहीं बना सका। भारत की खस्ता हालत का अंदाज इसी से लगाया जा सकता है कि उसके पांच बल्लेबाज दूसरी पारी में दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू सके।


भारत की आधी टीम 100 रन से पहले ही पवेलियन लौट गई थी। ऑस्ट्रेलिया के लिए दूसरे मैच में स्पिनर नाथन ल्योन ने शानदार गेंदबाजी की जिसके के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला। उन्होंने कुल 8 विकेट झटके। वहीं, मिलेश स्टार्क ने 5, जोश हेजलवुड ने 4 और पैट कींमस ने 3 विकेट अपने नाम किए। सीरीज का तीसरा टेस्ट मैच 26 दिसंबर से मेलबर्न में खेला जाएगा।

भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया में जिस तरह से हार का सामना करना पड़ा उसे भारतीय फैंस काफी नाराज हैं। इस हार का एक कारण भारत की ओपनिंग बल्लेबाजी भी रही, ओपनर के एल राहुल और मुरली विजय दोनों ही पारियों में भारत को एक अच्छी शुरुआत देने में नाकाम रहे। पहली पारी में भारत ने छह रन पर ही अपना पहला विकेट खो दिया वहीं दूसरी पारी में भारत ने पहला विकेट खाता खुलने से पहले ही खो दिया था। दोनों ओपनर बतौर बल्लेबाज भी फेल होते दिखाई दिए। जहां के एल राहुल ने पहली पारी में केवल दो रन बनाए वहीं दूसरी पारी में वह खाता भी नहीं खोल पाए, वहीं मुरली विजय पहली पारी में खाता भी नहीं खोल पाए। दूसरी पारी में वह केवल 20 ही रन बना पाए। दोनों ओपनरों के इस प्रदर्शन के बाद उम्मीद की जा रही है कि भारतीय टीम तीसरे और चौथे टेस्ट मैच के लिए नए ओपनिंग कॉबिनेशन के साथ उतर सकती है। हालांकि विराट कोहली ने मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में सिर्फ इतना कहा कि अभी तक टीम ने ऐसा कोई ऐलान नहीं किया है। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीसरे और चौथे टेस्ट मैच के लिए टीम इंडिया का ऐलान भी हो गया है। बीसीसीआई ने भारतीय टेस्ट टीम की घोषणा की और इस टीम में कुछ बदलाव देखने को मिले हैं। विराट कोहली की अगुवाई वाली इस टीम में चोटिल पृथ्वी शॉ शामिल नहीं हैं जो अब पूरी टेस्ट सीरीज में नहीं खेल पाएंगे। वहीं भारतीय टेस्ट टीम में मंयक अग्रवाल और हार्दिक पांड्या को टीम में जगह दे दी गई है। गौरतलब है कि लोकेश राहुल के खराब प्रदर्शन के बाद सबकी नजरें टीम के ऐलान पर टिकी थीं और एमएसके प्रसाद की अगुवाई वाली राष्ट्रीय चयन समिति ने हार्दिक और मयंक को तुरंत भारत से ऑस्ट्रेलिया भेजने का फैसला लिया है। पहले से कयास लगाए जा रहे थे कि भारतीय टेस्ट टीम में कुछ बदलाव हो सकते हैं और देखने को भी यही मिला है। मयंक अग्रवाल के घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन को लेकर पहले से काफी चर्चा थी और उनको टीम में लेने का लगातार दबाव भी बीसीसीआई और चयनकर्ताओं के ऊपर था। वहीं रणजी ट्रॉफी में बड़ौदा के लिए खेलते हुए हार्दिक पांड्या ने भी शानदार गेंदबाजी करते हुए पांच विकेट लेकर सबका दिल जीत लिया और चोट से उभरने के बाद अब एक बार फिर उनकी टीम में वापसी हो गई है। हार्दिक पांड्या को एशिया कप 2018 के दौरान चोट लगी थी जिसके बाद से लगातार वो मैदान से बाहर थे।

तीसरे चौथे टेस्ट मैचों में देखना यह होगा कि भारतीय चयनकर्ताओं के फैसले के बाद क्या अब कप्तान कोहली फॉर्म से बाहर चल रहे लोकेश राहुल को टीम से बाहर करते हैं या नहीं और इसके बाद आखिरकार मयंक अग्रवाल को मौका दिया जाता है या नहीं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like