[gtranslate]
sport

द्रविड़ के कंधों पर जिम्मेदारी

भारत की मेजबानी में संयुक्त अरब अमीरात में खेले जा रहे टी-वर्ल्ड कप के बाद भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री का कार्यकाल खत्म हो जाएगा। इस बीच खेल के जानकार पहले से ही अटकलें लगा रहे थे कि भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज राहुल द्रविड़ टीम के नए प्रमुख कोच हो सकते हैं। इन अटकलों को सही साबित करते हुए द्रविड़ ने भी एक कदम आगे बढ़ा उन्होंने बीसीसीआई को इस पद के लिए अपना आवेदन दे दिया है। दरअसल, बीसीसीआई ने भारतीय टीम में कई स्पोर्ट स्टाफ के सदस्यों की नियुक्ति के लिए आवेदन मांगे थे। इनमें मुख्य कोच के पद के साथ-साथ बैटिंग, बॉलिंग और फील्डिंग कोच के अलावा एनसीए के लिए खेल विज्ञान के हेड के तौर पर भी आवेदन मांगे गए हैं। फिलहाल राहुल नेशनल क्रिकेट अकैडमी एनसीए के अध्यक्ष हैं।

 


भारतीय टीम के चीफ कोच की नियुक्ति बीसीसीआई की विशेष क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) करेगी, बीसीसीआई बाद में इस समिति की घोषणा करेगा। राहुल द्रविड़ के बतौर कोच के रूप में अनुभव की बात करें तो वह भारतीय क्रिकेट में अंडर- 19 और भारत ‘ए’ टीम के कोच रह चुके हैं। उनकी कोचिंग में भारतीय अंडर 19 टीम ने साल 2018 में वर्ल्ड कप खिताब अपने नाम किया था। इसके अलावा वह आईपीएल में भी राजस्थान रॉयल्स समेत कुछ टीमों को बतौर कोच अपनी सेवाएं दे चुके हैं। 48 वर्षीय राहुल द्रविड़ ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में 164 टेस्ट मैच, 344 वनडे और एकमात्र टी-20 मैच खेला है। टेस्ट क्रिकेट में उन्होंने 36 शतकों की मदद से कुल 13 हजार 288 रन बनाए, जबकि वनडे में 12 शतक और 83 हाफ सेंचुरी की बदौलत उनके नाम 10 हजार 889 रन हैं। इंग्लैंड के खिलाफ खेले एकमात्र टी-20 मैच में उन्होंने 31 रन बनाए थे।
हाल ही में जब भारतीय टेस्ट टीम इंग्लैंड दौरे पर थी, तब सीमित ओवरों की सीरीज के लिए शिखर धवन की कप्तानी में एक टीम चुनी गई थी। यहां राहुल द्रविड़ को कार्यवाहक कोच के रूप में टीम के साथ भेजा गया था। तभी से अटकलें तेज हो गई थी कि राहुल द्रविड़ भारतीय टीम के नए चीफ कोच होंगे।

वहीं भारत के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण एक बार फिर राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) के प्रमुख के पद की दौड़ में हैं। द्रविड़ के कोच बनने पर बीसीसीआई ने लक्ष्मण से एनसीए प्रमुख का पद संभालने के लिए संपर्क किया था, लेकिन तब उन्होंने इससे इंकार कर दिया था, अब खबर है कि बीसीसीआई ने लक्ष्मण से एक बार और इस बाबत बातचीत की है। माना जा रहा है कि इस बार दोनों के बीच सहमति बनने की उम्मीद है।
मौजूदा एनसीए प्रमुख द्रविड़ के आवेदन करने से क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) का काम आसान हो गया है, क्योंकि उनके जैसे कद का कोई बड़ा नाम इस दौड़ में नहीं है। समझा जा रहा है कि वह बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली और सचिव जय शाह की पहली और एकमात्र पसंद हैं। बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने बताया, ‘राहुल ने औपचारिक तौर पर आवेदन कर दिया है, एनसीए से उनकी टीम के गेंदबाजी कोच पारस म्हांब्रे और क्षेत्ररक्षण कोच अभय शर्मा पहले ही आवेदन कर चुके हैं। उनका आवेदन औपचारिकता भर था।’

गौरतलब है कि राहुल द्रविड़ ने हाल ही में खेले गए आईपीएल फाइनल के मौके पर बीसीसीआई के आला अधिकारियों से बात की थी। सौरव गांगुली और जय शाह ने उनसे एक बार फिर आईसीसी टी-20 विश्व कप के बाद पद संभालने के लिए कहा। द्रविड़ के मार्गदर्शन में भारतीय क्रिकेट के नए दौर की शुरुआत न्यूजीलैंड के खिलाफ घरेलू सीरीज से होगी, जिसमें वह नए टी-20 कप्तान के साथ प्रभार संभालेंगे।

रात्रा क्षेत्ररक्षण कोच बनने की दौड़ में


भारत के पूर्व विकेट कीपर अजय रात्रा ने भारतीय क्रिकेट टीम के क्षेत्र रक्षण कोच के पद के लिए आवेदन किया है। फरीदाबाद में जन्मे 39 वर्षीय रात्रा ने छह टेस्ट और 12 वनडे मैच खेले हैं। उन्होंने कहा, ‘अगर मौका मिले तो भारतीय टीम की सफलता में योगदान देना बहुत अच्छा होगा।’ घरेलू क्रिकेट में हरियाणा का प्रतिनिधित्व कर चुके इस पूर्व खिलाड़ी के पास कोचिंग का अच्छा अनुभव है। वह अभी असम के मुख्य कोच हैं और सैय्यद मुश्ताक अली ट्राफी से पहले टीम के शिविर के लिए पूर्वाेत्तर के इस राज्य में हैं। आईपीएल में उन्होंने दिल्ली कैपिटल्स के साथ काम किया है और पूर्व में भारतीय महिला टीम से भी जुड़े रहे हैं। रात्रा एनसीए में भी नियमित हैं और उन्होंने रिद्धिमान साहा और रिषभ पंत जैसे भारत के विकेटकीपरों के साथ भी काम किया है।

 

 

पारस म्हांब्रे गेंदबाजी कोच की दौड़ में
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने 17 अक्टूबर को इस बात की घोषणा की थी कि टीम इंडिया के लिए मुख्य कोच के अलावा बल्लेबाजी कोच, गेंदबाजी कोच और फील्डिंग कोच की तलाश है। माना जा रहा है कि मुख्य कोच राहुल द्रविड़ होंगे तो उनकी टीम में गेंदबाजी कोच के रूप में पारस म्हांब्रे होंगे, जो एनसीए में उनके साथ काम कर चुके हैं।

बल्लेबाजी कोच की दौड़ में विक्रम राठौरविक्रम राठौर
इस समय टीम इंडिया के बल्लेबाजी कोच हैं। माना जा रहा है कि वे राहुल द्रविड़ के नेतृत्व में फिर से कोचिंग स्टाफ का हिस्सा बन सकते हैं। उन्होंने साल 2019 में संजय बांगर के बाद बल्लेबाजी कोच का जिम्मा संभाला था।

You may also like

MERA DDDD DDD DD