[gtranslate]
sport

रायडू ने क्रिकेट को कहा अलविदा

विश्व कप टीम में अनदेखी के बाद क्रिकेट के सभी प्रारूपों को अलविदा कहने वाले मध्यक्रम के बल्लेबाज अंबाती रायुडू को लेकर भारतीय कप्तान विराट कोहली ने ट्वीट किया है। ट्वीट में विराट ने रायडू को शीर्ष स्तर का खिलाड़ी बताया और आगे के लिए शुभकामनाएं भी दी।
विश्व कप 2019 टीम चयन में उपेक्षा से आहत होकर उनका एक विवादित ट्वीट भी बेहद चर्चित हुआ था। जिसके बाद उन्हें रिजर्व खिलाड़ियों की सूची में शामिल किया गया था। हालांकि चोटिल होकर शिखर धवन और फिर विजय शंकर के बाहर होने के बाद भी बीसीसीआई ने उन्हें वर्ल्ड कप के लिए इंग्लैंड नहीं भेजा। विराट कोहली ने ट्विटर पर अंबाती रायडू को शुभकामनाएं देते हुए लिखा, ‘आगे के लिए शुभकामनाएं। आप एक शीर्ष स्तर के खिलाड़ी हैं।’
बीसीसीआई के बयान के मुताबिक रायडू ने बोर्ड को भेजे पत्र में लिखा है, ‘मैंने यह फैसला लिया है कि मैं खेल से पीछे हट जाऊं और क्रिकेट के सभी प्रारूप से संन्यास ले लूं। मेरे लिए यह शानदार सफर रहा। बीते 25 साल में अपने सामने करियर में आए कई उतार चढ़ावों से काफी कुछ सीखा।
रायडू ने बीसीसीआई का शुक्रिया अदा करते हुए लिखा, ‘मैं बीसीसीआई और उन सभी राज्य संघों का शुक्रिया अदा करता हूं जिन्होंने मुझे खेलना का मौका दिया। इसमें हैदराबाद, बड़ौदा, आंध्र प्रदेश और विदर्भ शामिल हैं। उन्होंने अपने लिखा है कि मैं आईपीएल की दो फ्रेंचाइजी मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपर किंग्स का भी शुक्रिया अदा करता हूं।’ बीसीसीआई ने भी रायडू को भविष्य के लिए बधाई दी है।
रायडू को विश्व कप के लिए 15 सदस्यीय टीम में शामिल नहीं किया गया था। रिजर्व में नाम होने के बावजूद, शिखर धवन और विजय शंकर के चोटिल होने पर उन्हें टीम में नहीं शामिल किया गया और ऋषभ पंत एवं मयंक अग्रवाल को उनकी जगह मौका दिया गया।
वर्ल्डकप 2019  की भारतीय टीम में जगह बनाने में नाकाम मध्यक्रम के बल्लेबाज अंबाती रायडू ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेटों से सन्यांस  लेने की घोषणा की है। गौरतलब है कि 33 वर्षीय अंबाती वर्ल्डकप 2019 के लिए भारतीय टीम में चयन के दावेदार थे लेकिन शुरुआती 15 सदस्यीय में उन्हें जगह नहीं मिल पाई। टूर्नामेंट के दौरान शिखर धवन और विजय शंकर चोटिल होकर बाहर हुए लेकिन रायडू के दावे को नजरअंदाज करते हुए चयनकर्ताओं ने ऋषभ पंत और मयंक अग्रवाल जैसे युवा खिलाड़ियों पर भरोसा करना उचित समझा। माना जा रहा है कि इस उपेक्षा से दुखी होकर ही रायडू ( ।उइंजप त्ंलनकन) ने क्रिकेट से संन्यास लेने का फैसला किया है। आंध्र प्रदेश के गुंटूर में जन्मे अंबाती रायडू को एक समय भारतीय क्रिकेट के बेहद प्रतिभावान बल्लेबाजों में शुमार किया जाता था।
उन्होंने टीम इंडिया के लिए 55 वनडे और 6 टी20 मैच खेले। गौरतलब है कि एमएसके प्रसाद के नेतृत्व में चयनकर्ताओं ने वर्ल्डकप के लिए 15 सदस्यीय टीम की घोषणा करते समय अंबाती रायडू को रिजर्व बल्लेबाज के रूप में चुना था, लेकिन उनकी जगह मयंक अग्रवाल को टूर्नामेंट में खेलने के लिए इंग्लैंड बुलाया गया है। रायडू की बजाय मयंक को टीम में शामिल करने का निर्णय पांच सदस्यीय चयन समिति ने नहीं, बल्कि टीम प्रबंधन ने लिया है। संभवतः इसी से निराश होकर रायुडू ने क्रिकेट को ही अलविदा कहने का निर्णय ले लिया।
  • रायडू  ने 55 वनडे  मैचों में 47.05 के औसत से 1694 रन बनाए जिसमें तीन शतक और 10 अर्धशतक शामिल रहे। वनडे क्रिकेट में नाबाद 124 रन रायडू  का सर्वोच्च स्कोर रहा।
  • 6 टी20  मैचों में रायडु  ने केवल 42 रन बनाए और 20 रन  सर्वोच्च स्कोर रहा। 
  •  बल्लेबाजी के अलावा रायडू दाएं हाथ से स्पिन गेंदबाजी भी करते थे।
  •  वनडे क्रिकेट में तीन विकेट भी उनके नाम पर दर्ज हैं। 
वर्ल्डकप के लिए टीम के चयन के दौरान रायडू का स्थान चौथे नंबर पर बैटिंग के लिए तय माना जा रहा था लेकिन वर्ल्डकप के तुरंत पहले ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज के दौरान अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाना उनको भारी पड़ा। सलेक्टर्स ने हैरतअंगेज फैसला लेते हुए हरफनमौला विजय शंकर को अंबाती रायडू पर तरजीह दी। सलेक्शन कमेटी के चेयरमैन एमएसके प्रसाद ने उस समय विजय शंकर की तारीफ करते हुए कहा था कि विजय थ्रीडी खिलाड़ी  गेंदबाजी, बल्लेबाजी  और क्षेत्ररक्षण तीनों में निपुण हैं और इसी आधार पर उन्हें वर्ल्डकप  की टीम में चुना गया है ,यह अलग बात है कि वर्ल्डकप के मैचों में विजय शंकर कुछ खास नहीं कर सके और बाद में चोट के कारण उन्हें टूर्नामेंट से बाहर होना पड़ा। रायड़ू की पहचान कलात्मक बल्लेबाज  के रूप में रही है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD