[gtranslate]
sport

ओल्ड के बीच कोल्डवार

 

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और पूर्व ओपनर गौतम गंभीर के फैन्स के बीच तनातनी देखने को मिल रही है। यह वॉर सीधा नहीं, बल्कि अप्रत्यक्ष तौर पर देखा जा रहा है। धोनी ने पिछले हफ्ते 25 सितंबर को एक बिस्किट प्रोडक्ट को लॉन्च के प्रमोशन वीडियो में इसका वर्ल्ड कप से भी कनेक्शन ढूंढ निकाला तो गंभीर ने अपनी बेटी का वह वीडियो शेयर कर दिया जिसमें उनकी बेटी अपने डॉग को उसी नाम से बुलाती है जो नाम उस बिस्किट का है। गंभीर के वीडियो शेयर करते ही सोशल मीडिया पर जमकर कोल्डवार शुरू हो गया है

सोशल मीडिया पर इन दिनों भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और पूर्व ओपनर गौतम गंभीर के फैन्स के बीच तनातनी देखने को मिल रही है। यह वॉर सीधा नहीं, बल्कि अप्रत्यक्ष तौर पर देखा जा रहा है। इस बीच सोशल मीडिया पर फैन्स के बीच हंगामा भी अपने चरम पर पहुंचता जा रहा है। दरअसल, महेंद्र सिंह धोनी ने पिछले हफ्ते 25 सितंबर को एक बिस्किट प्रोडक्ट को भारत में लॉन्च किया। धोनी ने प्रमोशन वीडियो में इस बिस्किट का वर्ल्ड कप से भी कनेक्शन ढूंढ निकाला। उन्होंने फेसबुक लाइव में कहा, ‘यह प्रोडक्ट इस बार हमें टी-20 वर्ल्ड कप जिता सकता है। साल 2011 में इंडिया ने वर्ल्ड कप जीता था, उससे पहले भी यह बिस्किट भारत में लॉन्च हुआ था। अब कनेक्शन क्लियर हो गया है। मैं 2011 को फिर से वापस लेकर आ रहा हूं। हिस्ट्री बनाने और इसे फिर से दोहराने के लिए आप भी आगे आएं।’

 

धोनी के इस बयान पर खूब बवाल हो रहा है। लोग उन्हें ट्रोल करने लगे। यूजर्स का कहना है कि पैसे के लिए माही ओरियो बिस्किट को टीम इंडिया के वर्ल्ड कप जीतने का क्रेडिट दे रहे हैं। क्या टीम मैनेजमेंट और खिलाड़ियों ने कुछ नहीं किया था। गंभीर के कुत्ते का नाम भी वही है, जो बिस्कुट का है। इस बीच गंभीर की बेटी का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें उनकी बेटी अपने डॉग को उसी नाम से बुलाती है जो नाम उस बिस्कुट का था, जिसे धोनी ने लॉन्च किया और गंभीर द्वारा यह वीडियो शेयर करते ही सोशल मीडिया पर जमकर हंगामा शुरू हो गया है। यूजर्स ने यहां तक कहना शुरू कर दिया कि गंभीर ने इस वीडियो के जरिए धोनी पर तंज कसा है।
दरअसल, टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर जो वर्ल्ड कप 2011 की टीम का हिस्सा थे, उन्होंने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर किया है। वीडियो में वे अपनी बच्चियों और कुत्तों के साथ खेलते नजर आ रहे हैं।

गौर करने वाली बात यह है कि उनकी बेटी अपने एक कुत्ते को ओरियो के नाम से पुकार रही है। अब लोग गंभीर के इस वीडियो को धोनी को जवाब बता रहे हैं। इससे पहले गौतम गंभीर ने इंडियन क्रिकेटर्स को स्टार बनाने के कल्चर पर भी सवाल खड़े किए थे। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था, ‘1983 के वर्ल्ड कप से यह होता आया है। केवल कपिल देव ने आपको वर्ल्ड कप नहीं दिलाया था, लेकिन आपने उन्हें स्टार बना दिया और उनकी पूजा करने लगे। धोनी और विराट के साथ भी यही हुआ। केवल ये दोनों भारत को मैच में जीत नहीं दिलाते थे।’

वर्ष 2011 का वर्ल्ड कप फाइनल भारतीय टीम ने महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में जीता था। इस मैच में गौतम गंभीर ने 122 गेंद खेलकर 97 रन बनाए थे। उनके बल्ले से 9 चौके निकले थे। वहीं, महेंद्र सिंह धोनी ने 79 गेंद पर 8 चौके और 3 छक्के की मदद से 91 रन बना दिए थे। इस मैच में धोनी की खूब प्रशंसा हुई थी। इसको लेकर गंभीर कई बार सवाल उठा चुके हैं। 2020 में ईएसपीएन क्रिकइंफो के ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया गया था, जिसमें लिखा था, ‘आज के दिन 2011 में, वह शॉट जिसने करोड़ों इंडियन फैन्स को जश्न में डुबो दिया था।’

इस ट्वीट का जवाब देते हुए गंभीर ने लिखा था, ‘क्रिकइंफो आपको याद दिलाना चाहूंगा कि विश्व कप जीतने में पूरे भारत, टीम इंडिया और सपोर्ट स्टाफ का हाथ था। बहुत हुआ एक छक्के के लिए ही आपका इतना प्यार।’ युवराज सिंह प्लेयर ऑफ द सीरीज रहे थे।
दूसरी तरफ भारत से सबसे सफल कप्तानों में शुमार महेंद्र सिंह धोनी भले ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले चुके हैं, लेकिन उनका फैन बेस कम नहीं हुआ है। वह आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स की कप्तानी संभालते हैं। धोनी ने अपने करियर में कई खिलाड़ियों को मौके दिए लेकिन कुछ लोग हैं जो आज भी इरफान पठान जैसे स्टार का करियर खत्म करने के लिए उन्हें जिम्मेदार ठहराते हैं। इस बीच इरफान ने ऐसे ही एक ट्वीट पर अपनी राय रखी है।

दरअसल एक प्रशंसक ने हाल में पठान को लेकर ट्वीट किया था कि ‘जब भी मैं इन लीग में इरफान पठान को देखता हूं, मैं एमएस (धोनी) और उनके मैनेजमेंट को और कोसता हूं। भरोसा नहीं हो रहा है कि इरफान ने सिर्फ 29 साल की उम्र में सीमित ओवर के फॉर्मेट का अपना आखिरी मैच खेल लिया था। यह कतई सही नहीं। सातवें नंबर के लिए कोई भी टीम इरफान पठान को लेना चाहेगी, लेकिन भारत ने जड्डू (रवींद्र जडेजा), यहां तक कि बिन्नी (स्टुअर्ट) को उनसे ऊपर मौका दिया।

जब इरफान पठान की नजर इस ट्वीट पर पड़ी तो उन्होंने अपने मन की बात लिखी। पठान ने इस पर रिप्लाई किया, ‘किसी को भी इसके लिए कसूरवार मत ठहराइए। आपके प्यार के लिए शुक्रिया।’ पठान ने इस तरह कई फैंस का दिल भी जीत लिया। गौरतलब है कि इरफान पठान एक वक्त भारत के सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडर माने जाते थे। उनकी स्विंग और पेस का तो जलवा था ही, वह बल्ले से भी कमाल दिखाते थे। इतना ही नहीं उनकी तुलना कपिल देव तक से होने लगी थी। हालांकि बाद में वह टीम से ऐसे बाहर हुए कि फिर जगह ही नहीं मिल पाई। बड़ौदा के लिए घरेलू क्रिकेट खेलने वाले इरफान पठान ने भी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है और वह फिलहाल लीजेंड्स क्रिकेट लीग में खेल रहे हैं। इरफान का करियर करीब 9 साल का रहा। इस दौरान उन्होंने तीनों फॉर्मेट में देश का प्रतिनिधित्व किया है।

पूर्व क्रिकेटर इरपफान पठान

इरफान के करियर की बात करें तो उन्होंने 29 टेस्ट, 120 वनडे और 24 टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं। टेस्ट में उन्होंने एक शतक और छह अर्धशतक जड़े और कुल 1105 रन बनाए हैं। वहीं, वनडे में पांच अर्धशतकों की मदद से कुल 1544 रन बनाए। टेस्ट में उन्होंने 100 और वनडे में कुल 173 विकेट अपने नाम किए हैं। टी-20 अंतरराष्ट्रीय फॉर्मेट में उन्होंने 172 रन बनाए और कुल 28 विकेट लिए हैं। इरफान ने टेस्ट के जरिए दिसंबर 2003 में अंतरराष्ट्रीय डेब्यू किया था।

You may also like

MERA DDDD DDD DD