[gtranslate]
sport

अब वनडे सीरीज पर है भारत की निगाहें , आज होगा पहला मुकाबला 

टेस्ट और टी-20 में पलटवार के साथ सीरीज कब्जे में करने वाली भारतीय टीम की निगाह अब एकदिवसीय सीरीज जीतने पर लगी है। भारत और इंग्लैंड के बीच तीन एकदिवसीय मैचों की सीरीज खेली जानी है। इस सीरीज का  पहला मुकाबला आज खेला जाएगा । दोनों टीमों के बीच ये मैच महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम पुणे में खेला जाएगा। इंग्लैंड की टीम वनडे सीरीज जीतने के इरादे से उतरेगी। लेकिन भारत ने इंग्लैंड को जिस तरह पिछली दो सीरीज में पछाड़ा है उसे देखते हुए इंग्लैड को जीतना मुश्किल लग रहा है। भारत और इंग्लैंड के बीच  जब कभी वनडे मैच हुए तो टीम इंडिया के कुछ बल्लेबाजों ने हमेशा कमाल की बल्लेबाजी की।
विश्व चैंपियन इंग्लैंड के खिलाफ तीन मैचों की सीरीज की पहली भिड़ंत में इस बार भारतीय टीम जीत से खाता खोलना चाहेगी। भारत में कोविड-19 के मामले फिर से बढ़ने के कारण यह मैच खाली स्टेडियम में खेला जाएगा। इंग्लैंड की टीम ने टेस्ट और टी-20 में जीत से शुरुआत की थी लेकिन इन दोनों प्रारूपों में वह लय बरकरार रखने में नाकाम रही। अब इयोन मोर्गन की अगुवाई वाली टीम अपनी इन कमियों को दूर करके दौरे का सकारात्मक अंत करना चाहेगी।
भारतीय सलामी बल्लेबाज शिखर धवन के लिए विशेषकर यह शृंखला काफी महत्वपूर्ण है। यह 35 वर्षीय सलामी बल्लेबाज अहमदाबाद में पहले टी-20 मुकाबले  में प्रभाव छोड़ने में नाकाम रहा जिसके बाद उन्हें अन्य मैचों में मौका नहीं दिया गया। भारत के पास शीर्षक्रम में कई विकल्प मौजूद हैं। शुभमन गिल अभी टीम में हैं जबकि पृथ्वी शॉ और देवदत्त पडिक्कल भी अपना दावा पेश कर रहे हैं और ऐसे में धवन के लिए यह मैच अग्नि परीक्षा से कम नहीं होगा। संभावना तो यही लग रही है कि हिटमैन रोहित शर्मा के साथ धवन पारी की शुरुआत करेंगे। रोहित ने टी-20 में शानदार प्रदर्शन किया था और वह अपनी इस फॉर्म को बरकरार रखने की कोशिश करेंगे। वनडे प्रारूप में धवन को अपनी पारी को संवारने का समय मिल जाता है और ऐसे में दिल्ली का यह अनुभवी बल्लेबाज आज होने वाले मुकाबले  से  फॉर्म में वापसी करने की कोशिश करेगा।
विराट को शतक का इंतजार 
जहां तक भारतीय टीम का सवाल है तो वह इस साल के आखिर में होने वाले टी-20 विश्व कप की अपनी तैयारियों को ही आगे बढ़ाएगी क्योंकि इस वर्ष 50 ओवरों के प्रारूप में कोई बड़ा टूर्नामेंट नहीं खेला जाना है। कप्तान विराट कोहली ने इंग्लैंड के खिलाफ टी-20 शृंखला में अच्छी पारियां खेली और वनडे में भी वह बड़ी पारियां खेलने की कोशिश करेंगे क्योंकि उन्होंने वनडे में अपना आखिरी और 43वां शतक अगस्त 2019 में वेस्टइंडीज के खिलाफ पोर्ट ऑफ स्पेन में लगाया था। कोहली शतक का इंतजार यहां समाप्त करना चाहेंगे।
मध्यक्रम में कड़ी होड़ 
केएल राहुल और ऋ षभ पंत दोनों के अंतिम एकादश में जगह बनाने की संभावना है। राहुल को हालांकि शीर्ष क्रम में नहीं बल्कि मध्यक्रम में उतारा जाएगा। वह पिछले साल से मध्यक्रम में ही खेल रहे हैं। पंत को विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी के साथ हार्दिक पंड्या के साथ निचले मध्यक्रम में अहम भूमिका निभानी होगी। ऐसी स्थिति में अंतिम एकादश में एक जगह के लिए मुंबई के श्रेयस अय्यर और सूर्यकुमार यादव के बीच प्रतिस्पर्धा होगी। सूर्यकुमार ने टी-20 शृंखला में अपने करारे शॉट से प्रभावित किया था, लेकिन अय्यर पिछले कुछ समय से मध्यक्रम में अच्छी भूमिका निभा रहे हैं।
चहल और सुंदर की स्पिन जोड़ी 
 टी-20 शृंखला में अच्छा प्रदर्शन करने वाले भुवनेश्वर कुमार गेंदबाजी विभाग की अगुवाई करेंगे। उनके साथ शार्दुल ठाकुर को नई गेंद का जिम्मा दिया जा सकता है। उन्होंने टी-20 शृंखला में आठ विकेट लिए थे। मोहम्मद सिराज और प्रसिद्ध कृष्णा भी टीम में हैं। कप्तान कोहली पहले ही कृष्णा की प्रशंसा कर चुके हैं। विजय हजारे ट्रॉफी में उन्होंने सात मैचों में 14 विकेट लिए थे। स्पिन विभाग में युजवेंद्र चहल और वाशिंगटन सुंदर को क्रुणाल पंड्या और कुलदीप यादव पर प्राथमिकता मिल सकती है। हार्दिक पंड्या अब फिट हैं और पांचवें गेंदबाज की भूमिका निभाएंगे लेकिन देखना यह होगा कि वह कितने ओवर कर सकते हैं।
बेहतर करने को बेताब मेहमान
इंग्लैंड भी जीत के साथ दौरे का अंत करने के लिए बेताब होगा क्योंकि उसने अच्छी शुरुआत करने के बावजूद टेस्ट शृंखला 1-3 से और टी-20 शृंखला 2-3 से गंवाई थी। इंग्लैंड के कप्तान मोर्गन, जोस बटलर, जैसन रॉय और ऑलराउंडर बेन स्टोक्स की फॉर्म काफी मायने रखेगी। उसके इन चारों प्रमुख बल्लेबाजों को निरंतर अच्छा प्रदर्शन करने की जरूरत है। इंग्लैंड के तेज गेंदबाज मार्क वुड ने अपनी तेजी से भारतीय बल्लेबाजों को परेशान किया था और जोफरा आर्चर के चोटिल होने के बाद क्रिस जोर्डन और युवा सैम कुरेन के साथ उनकी जिम्मेदारी बढ़ जाती है। मोईन अली और आदिल राशिद की स्पिन जोड़ी भारतीय बल्लेबाजों को खास परेशान नहीं कर पाई और यह देखना दिलचस्प होगा कि वनडे में उनकी रणनीति क्या होती है। मोईन टीम के लिए पिंच हिटर की भूमिका भी निभा सकते हैं।
इस प्रकार हैं टीमें
भारत: 
विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा (उप-कप्तान), शिखर धवन, शुभमन गिल, श्रेयस अय्यर, सूर्यकुमार यादव, हार्दिक पंड्या, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), केएल राहुल (विकेटकीपर), युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, क्रुणाल पंड्या, वाशिंगटन सुंदर, टी नटराजन, भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद सिराज, प्रसिद्ध कृष्णा, शार्दुल ठाकुर में से।
इंग्लैंड: 
इयोन मोर्गन (कप्तान), मोइन अली, जॉनी बेयरस्टो, सैम बिलिंग्स, जोस बटलर, सैम कुरेन, टॉम कुरेन, लियाम लिविंगस्टोन, मैट पार्किसन, आदिल राशिद, जैसन रॉय, बेन स्टोक्स, रीस टॉपले, मार्क वुड, जैक बॉल, क्रिस जॉर्डन, डेविड मलान ।

You may also like

MERA DDDD DDD DD