[gtranslate]
sport

BCCI समेत क्रिकेट जगत के दिग्गजों ने दी राजिंदर गोयल को श्रद्धांजलि

BCCI समेत क्रिकेट जगत के दिग्गजों ने दी राजिंदर गोयल को श्रद्धांजलि

घरेलू क्रिकेट के गेंदबाज राजिंदर गोयल ने रविवार रात को अंतिम सांस ली। वे 77 वर्ष के थे। सोमवार को क्रिकेट जगत से जुड़े दिग्गजों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी राजिंदर गोयल का अभी भी रणजी ट्रॉफी में 637 विकेट का रिकॉर्ड कायम है। बीसीसीआई ने बयान जारी कर उनके निधन पर शोक जताया है।

बोर्ड अध्यक्ष गांगुली ने बीसीसीआई के बयान में कहा कि भारतीय क्रिकेट समुदाय ने घरेलू क्रिकेट की हस्ती को गंवा दिया। उनके शानदार रिकार्ड इसके गवाह हैं कि वह अपनी कला में कितने माहिर थे। उनका करियर 25 साल से अधिक समय तक चला और वह लगातार अच्छा प्रदर्शन करते रहे जिससे खेल के प्रति उनके समर्पण और प्रतिबद्धता का पता चलता है।

सचिन तेंदुलकर ने कहा, “रणजी ट्रॉफी में 600 से अधिक विकेट लेने वाले राजिंदर गोयल की मृत्यु के बारे में सुनकर दुखी हूं। उनकी आत्मा को शांति मिले।” तो वहीं भारत के कप्तान विराट कोहली ने ट्वीट किया, “हमने गोयल के रूप में एक महान खिलाड़ी को खो दिया। वह रणजी क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज थे। उनके परिवार के पास इस संकट से उबरने की ताकत है, यह भगवान की प्रार्थना है।”

मुंबई के पूर्व स्पिनर पद्माकर शिवलकर ने कहा, “यह अफ़सोस की बात है कि हम दोनों भारत के लिए नहीं खेल पाए। हमारे पास मैदान पर प्रतिद्वंद्वियों के रूप में दुश्मनी थी। लेकिन एक-दूसरे के लिए बहुत सम्मान था। उनकी गेंदबाजी शैली अलग थी। शायद वह मुझसे बेहतर गेंदबाज थे। उनके निधन की खबर सुनकर मैं स्तब्ध रह गया।”

वहीं बिशन बेदी ने ट्वीट किया, “मैं जितने लोगों को जानता हूं उनमें राजिंदर गोयल सबसे अधिक संतोषी इंसान थे। मैं अपने मुश्किल दिनों में संतोष की उनकी भावना से ईष्या करता था। ईश्वर आपकी आत्मा को शांति प्रदान करे गोयली। आपने रणजी ट्राफी को जीवंत रखने के लिए अपनी जी जान लगाई।”

गोयल ने अपने जीवन में कभी इसकी शिकायत नहीं की और बेदी ने भी उन्हें संतोषी व्यक्ति बताया बेदी ने ट्वीट किया, “मैं जितने लोगों को जानता हूं उनमें राजिंदर गोयल सबसे अधिक संतोषी इंसान थे। मैं अपने मुश्किल दिनों में संतोष की उनकी भावना से ईर्ष्या करता था। ईश्वर आपकी आत्मा को शांति प्रदान करे गोयली आपने रणजी ट्रॉफी को जीवंत रखने के लिए अपनी जी जान लगाई।”

You may also like