sport

महाष्टमी पर  महाजीत का तोहफा, साउथ अफ्रीका को 203 रनों से हराया

जहां एक ओर देश  में दुर्गा पूजा की धूम है ,महाष्टमी के मौके पर टीम इंडिया ने देशवासियों को महाजीत का तोहफा दिया है।  विशाखापत्तनम टेस्ट के पांचवें दिन विराट ब्रिगेड ने साउथ अफ्रीका को 203 रनों से करारी शिकस्त दी है। 395 रनों के बड़े लक्ष्य का पीछा करते हुए अफ्रीकी टीम लंच के बाद 191 रनों पर सिमट गई, इस जीत के साथ ही भारत ने तीन टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला मैच 203 के जीत के साथ 1-0 की बढ़त हासिल कर ली ,सीरीज का दूसरा टेस्ट पुणे में 10 अक्टूबर से खेला जाएगा।

इस मैच में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए टीम इंडिया ने 7 विकेट गंवाकर 502 रन बनाए और अपनी पहली पारी घोषित कर दी. जवाब में दक्षिण अफ्रीका अपनी पहली पारी में 431 रनों पर ऑलआउट हो गई,पहली पारी के आधार पर भारत को 71 रनों की बढ़त मिली,दूसरी पारी में भारत ने 4 विकेट पर 323 रन बनाकर पारी घोषित की और दक्षिण अफ्रीका के सामने  395 रनों का विशाल लक्ष्य रखा,  लक्ष्य का पीछा करते हुए दक्षिण अफ्रीका 191 रनों पर ढेर हो गई और भारत ने यह मुकाबल 203 रनों से जीत लिया है।

दूसरी पारी में दक्षिण अफ्रीकी टीम जडेजा और शमी की घातक गेंदबाजी के आगे नियमित अंतराल पर विकेट गंवाती चली गई. मेहमान टीम ने 60 रन तक अपने पांच विकेट गंवा दिए थे. तब  ऐसा लग रहा था कि टीम इसके बाद इन झटकों से उबर जाएगी. लेकिन 70 रन के स्कोर पर ही उसने तीन लगातार तीन विकेट खो दिए, जिससे टीम विकेटों का पतन जारी रहा। दूसरी पारी में भारतीय गेंदबाज शमी ने 5 और जडेजा में 4 जबकि अश्विन ने 1 विकेट लिया।

  रविचंद्रन अश्विन का कारनामा

रविचंद्रन अश्विन ने दूसरी पारी में थ्यूनिस डी ब्रुइन को आउट कर सबसे तेज 350 टेस्ट विकेट लेने के मामले में पूर्व श्रीलंकाई स्पिन गेंदबाज मुथैया मुरलीधरन के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है. वहीं अश्विन सबसे तेज 350 टेस्ट विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाज बन गए हैं. अश्विन ने अपने टेस्ट करियर के 66वें मुकाबले में 350 विकेट लेने का कारनामा किया है. अब वह मुरलीधरन के साथ संयुक्त रूप से सबसे तेज 350 टेस्ट विकेट लेने वाले गेंदबाज बन गए हैं. मुरलीधरन ने भी अपने 66वें टेस्ट में बांग्लादेश के खिलाफ 2001 में 350 टेस्ट विकेट पूरे किए थे. मुरलीधरन टेस्ट में 800 विकेट का आंकड़ा छूने वाले दुनिया के इकलौते गेंदबाज हैं।

भारत के लिए दूसरी पारी में रोहित शर्मा ने 127 रन बनाए.  रोहित शर्मा ऐसे पहले बल्लेबाज बन गए हैं, जिन्होंने ओपनर के तौर पर डेब्यू करते हुए एक ही टेस्ट मैच की दोनों ही पारियों में शतक जड़ दिया है। रोहित शर्मा ने 149 गेंदों का सामना किया और 10 चौके तथा सात छक्कों की मदद से इस मैच में अपना दूसरा शतक जमाया. उनके अलावा चेतेश्वर पुजारा ने 148 गेंदों पर 81 रन बनाए।

दक्षिण अफ्रीका अपनी पहली पारी में 431 रनों पर ऑलआउट हो गई. पहली पारी के आधार पर भारत को 71 रनों की बढ़त मिली. दक्षिण अफ्रीका को यहां तक पहुंचाने में डीन एल्गर और क्विंटन डी कॉक का अहम योगदान रहा है. एल्गर ने 160 रन बनाए. तो डि कॉक ने 163 गेंदों पर 16 चौके और दो छक्कों की मदद से 111 रन बनाए. इन दोनों के बीच छठे विकेट के लिए 164 रनों की पार्टनरशिप हुई. इन दोनों के अलावा कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने 55 रनों का योगदान दिया।पहली पारी में रविचंद्रन अश्विन ने मौके का पूरा फायदा उठाते हुए दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहली पारी में 7 विकेट झटके. तो  रवींद्र जडेजा ने दो सफलताएं अर्जित कीं.वहीँ  ईशांत शर्मा के हिस्से एक विकेट आया।

भारत ने 502/7 रनों पर घोषित की पहली पारी

टीम इंडिया ने अपनी पहली पारी सात विकेट के नुकसान पर 502 रनों पर घोषित कर दी. भारत के लिए मयंक अग्रवाल ने सबसे ज्यादा 215 और रोहित शर्मा ने 176 रनों की पारियां खेलीं. मयंक ने अपनी पारी में 371 गेंदों का सामना किया तो वहीं रोहित ने 244 गेंदों का सामना किया. दोनों ने अपनी पारी में 23-23 चौके और छह-छह छक्के लगाए.  मयंक अग्रवाल ने अपने टेस्ट करियर का पहला दोहरा शतक लगाया।

चेतेश्वर पुजारा 6, विराट कोहली 20, अजिंक्य रहाणे 15, हनुमा विहारी 10 और ऋद्धिमान साहा 21 रन बनाकर आउट हुए. मयंक-रोहित ने पहले विकेट के लिए 317 रन की साझेदारी की. रवींद्र जडेजा 30 और रविचंद्रन अश्विन 1 रन बनाकर नाबाद रहे. दक्षिण अफ्रीका के लिए केशव महाराज ने तीन विकेट लिए. वर्नोन फिलेंडर, सुनेयुर मुथुसामी, डीन एल्गर ने एक-एक विकेट लिए। 317 रन के स्कोर पर भारत को पहला झटका लगा. रोहित शर्मा दोहरे शतक से चूक गए और 176 रनों के निजी स्कोर पर आउट हुए. रोहित ने मयंक के साथ पहले विकेट के लिए 317 रनों की साझेदारी की. यह भारत के लिए टेस्ट में पहले विकेट के लिए तीसरी सबसे बड़ी साझेदारी है. पुजारा 17 गेंदों का सामना कर सिर्फ 6 रन बनाकर आउट हो गए. इसके बाद कप्तान विराट कोहली भी 20 रन बनाकर आउट हो गए. मयंक अग्रवाल 215 रन और अजिंक्य रहाणे 15 रन बनाकर पवेलियन लौट गए।

मयंक अग्रवाल का टेस्ट में पहला दोहरा शतक

मयंक अग्रवाल ने अपने टेस्ट करियर का पहला दोहरा शतक जड़ दिया है. मयंक अग्रवाल ने 215 रनों की पारी खेली इस दौरान उन्होंने 23 चौके और 6 छक्के लगाए. बता दें कि मयंक अग्रवाल भारत में अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे हैं. मयंक अग्रवाल ने भारत में पहली ही टेस्ट पारी में दोहरा शतक जड़ दिया. इससे पहले अग्रवाल ने अपना शतक 204 गेंदों में पूरा किया था, जिसे उन्होंने अपने दोहरे शतक में बदल दिया। मयंक ने पिछले साल दिसंबर में मेलबर्न में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ डेब्यू किया था जिसमें उन्होंने शानदार 76 रन की पारी खेली थी.इसके बाद भी उनके बल्ले से अर्धशतक निकले लेकिन वह उसे शतक में नहीं बदल सके. मयंक अग्रवाल इससे पहले तीन अर्धशतक जड़ चुके हैं. अपने डेब्यू मैच में उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 76 रन की पारी खेली थी. वहीं, दूसरे मैच में भी मयंक अग्रवाल 77 रन बनाकर आउट हुए थे।

मयंक अपने पहले ही टेस्ट शतक को दोहरे में तब्दील करने में सफल रहे हैं. मयंक इसी के साथ पहले टेस्ट शतक को दोहरे में तब्दील करने वाले भारत के चौथे बल्लेबाज बन गए हैं. उनसे पहले करुण नायर, विनोद कांबली और दिलीप सरदेसाई ने यह उपलब्धि हासिल की थी. नायर ने तो अपने पहले टेस्ट शतक को तिहरे में तब्दील किया था. सबसे पहले सरदेसाई ने ऐसा किया था।

भारतीय बल्लेबाज जिन्होंने अपने पहले शतक को दोहरे या तिहरे शतक में बदला

दिलीप सरदेसाई 200* रन, विरुद्ध न्यूजीलैंड, 1965

विनोद कांबली 224 रन, विरुद्ध इंग्लैंड, 1993

मयंक अग्रवाल 215 रन, विरुद्ध साउथ अफ्रीका, 2019

करुण नायर 303* रन विरुद्ध इंग्लैंड, 2016

ओपनिंग डेब्यू में रोहित ने ठोके 176 रन

रोहित शर्मा ने ओपनिंग करते हुए टेस्ट में अपना पहला शतक ठोक दिया. रोहित  रोहित के टेस्ट करियर का यह चौथा शतक था. और दूसरी पारी में भी शानदार 127 रनो की पारी खेली इस पारी के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया।

ओपनर के तौर पर पहली ही पारी में शतक बनाने वाले भारतीय बल्लेबाज

187 शिखर धवन बनाम ऑस्ट्रेलिया, मोहाली 2012/13

176 रोहित शर्मा बनाम साउथ अफ्रीका, विशाखापत्तनम 2019/20

110 केएल राहुल बनाम ऑस्ट्रेलिया, सिडनी 2014/15

134 पृथ्वी शॉ बनाम वेस्टइंडीज, राजकोट 2018/19

You may also like