sport

खेलो इंडिया गेम्स प्रतियोगिता नहीं, अभियान है

खेलो इंडिया गेम्स प्रतियोगिता नहीं, अभियान है

खेलो इंडिया यूथ गेम्स प्रोग्राम का आगाज दस जनवरी से हो चुका है। इस महत्वपूर्ण कदम से ओलंपिक में भी भारत की रैंकिंग सुधारने की कोशिश की जा रही है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण इलाकों के खिलाड़ियों को प्रोत्साहन एवं सुविधाओं की कमी को पूरा करना है। भारत खेल के क्षेत्र में एक बहुप्रतिभाशाली देश है, लेकिन क्रिकेट और हॉकी के अतिरिक्त अन्य खेलों में अभी तक उच्च स्थान प्राप्त करने में भारत को सफलता हाथ नहीं लगी है।

हालांकि, हमारे देश में प्रतिभा की कमी नहीं है, परंतु खिलाड़ियों को उचित सुविधाओं के अभाव में अच्छा प्रदर्शन करना काफी चुनौतियों भरा होता है। विश्वस्तरीय प्रतियोगिताओं में उच्च श्रेणी हासिल करने में असफल साबित हो जाते हैं। इन सब समस्याओं के बावजूद कई भारतीय एथलीट काफी बेहतरीन प्रदर्शन करते हैं।

तृतीय यूथ खेलो इंडिया गेम का आयोजन 9 जनवरी से 22 जनवरी तक आसाम के गुवाहाटी शहर में होगा। 14 दिन तक चलने वाले इन खेलों में देशभर के सर्वोच्च एथलीट अपना शानदार प्रदर्शन कर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करेंगे। इसमें देवकली के आकाश यादव का चयन अंडर 17 बालक वर्ग एथलेटिक्स के शॉट-पुट इवेंट में किया गया है।

आकाश यादव वर्तमान में ‘आर्मी स्पोर्ट्स इंस्टीट्यूट’ पुणे में कोच सूबेदार राकेश रावत की देख-रेख में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। आकाश यादव मूल रूप से गाजीपुर जिले में देवकली के निवासी हैं। हाल ही में संपन्न हुई जूनियर राष्ट्रीय एथलेटिक मीट में आकाश यादव को अंडर 17 बालक वर्ग में शॉट-पुट इवेंट में चौथा स्थान प्राप्त हुआ था।

आकाश यादव अपने वर्ग में देश के बेहतरीन थ्रोअर हैं। उनका लक्ष्य ओलंपिक खेलों में गोल्ड मेडल प्राप्त कर अपने देश के गौरव को बढ़ाना है। खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा है कि भारत सरकार ने खेलो इंडिया खेलों को राष्ट्रीय महत्व की प्रतियोगिता घोषित किया है। यह खेलो इंडिया खेलों का तीसरा सत्र है। माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि खेलो इंडिया खेल सिर्फ एक प्रतियोगिता नहीं है, यह एक अभियान है।

युवाओं के बीच खेल और फिटनेस को बढ़ावा देना और माता-पिता को संवेदनशील बनाना कि वे युवा खिलाड़ियों को प्रेरित करें, वे खेल में करिअर बनाने का सपना देखें, यह भारत को खेलों की महाशक्ति बनाने की दिशा में पहला कदम है। उन्होंने कहा, “मुझे यकीन है कि यह कदम अधिक युवाओं को खेलों से गंभीरता से जुड़ने के लिए प्रेरित करेगा। इन खेलों के तीसरे सत्र में लगभग 6800 खिलाड़ियों के हिस्सा लेने की उम्मीद है।”

You may also like