sport

भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच आज होगा कड़ा मुकाबला

भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच आज होगा कड़ा मुकाबला

भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच तीन वनडे मैचों की सीरीज की शुरुआत आज जब मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में होगी। टीम इंडिया आज जब खेलने उतेगी तो उसके दिमाग में मार्च 2019 में भारतीय सरजमीन पर खेले गए पांच मैचों की वनडे सीरीज की हार जरूर रहेगी। साउथ अफ्रीका, बांग्लादेश, वेस्टइंडीज और श्रीलंका के खिलाफ घरेलू सीरीज में जीत हासिल के बाद टीम इंडिया के सामने अब ऑस्ट्रेलिया की मजबूत चुनौती है।

दोनों के बीच तीन वनडे मैचों की सीरीज खेली जानी है, जिसका पहला मुकाबला आज 14 जनवरी को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेला जाएगा। भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली की अगुआई वाली टीम की नजर विजयी आगाज पर होगी। दोनों ही टीमें दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीम हैं और वानखेड़े में क्रिकेट फैंस को एक शानदार मुकाबला देखने को मिलेगा। बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फील्डिंग तक में कोई भी किसी से कम नहीं है।

जहां मेहमान टीम के पास डेविड वॉर्नर, स्टीव ‌स्मिथ, मार्नस लबुशेन जैसे बल्लेबाज हैं, वहीं भारत के पास हिट मैन रोहित शर्मा, विराट कोहली, केएल राहुल और शिखर धवन जैसे विस्फोटक बल्लेबाज मौजूद हैं। ऑस्ट्रेलिया ने जब 2019 में भारत को हराया था, तब वह बुरे दौर से गुजर रही थी।

तब प्रतिबंध के कारण उसके दो स्टार खिलाड़ी वार्नर और स्टीव स्मिथ टीम में नहीं थे। लेकिन भारत से सीरीज जीतने के बाद जैसे उसे संजीवनी मिल गई और वह फिलहाल विजय रथ पर सवार है। इसके अलावा विश्व कप तक उसकी टीम में ये दोनों खिलाड़ी भी वापस आ गए और इस बीच एक और शानदार खिलाड़ी मार्नस लाबुशाने का भी उदय हो चुका है।

इस लिहाज से देखें तो ऑस्ट्रेलिया से सीरीज जीतना भारत के लिए बड़ी चुनौती होगी। लेकिन दूसरी तरफ टीम इंडिया के तेवर भी बदले हैं और विश्व कप के बाद वह एक भी सीरीज नहीं हारी है। टीम इंडिया भारत में ऑस्ट्रेलिया को हराने में सक्षम है। इस बात को तो ऑस्ट्रेलियाई टीम समेत उसके कप्तान फिंच भी मानते हैं। इसलिए उन्होंने खुद को अंडरडॉग बताया है। जबकि भारत को सीरीज जीतने का दावेदार माना है।

इस बार मामला उलट है। ऑस्ट्रेलिया की टीम काफी मजबूत दिखाई दे रही है। हाल में कंगारुओं ने अपने घर में न्यूजीलैंड और पाकिस्तान का सूपड़ा साफ किया है। इंग्लैंड में खेले गए विश्व कप में वह सेमीफाइनल तक पहुंची थी। इसके अलावा इंग्लैंड में खेली गई टेस्ट सीरीज को बराबर कर एशेज अपने पास रखने में कामयाबी हासिल की है।

वहीं विश्व कप के बाद टीम इंडिया के लिए ऑस्ट्रेलिया के रूप में यह सबसे बड़ी चुनौती है। निश्चित रूप से टीम इंडिया को घर में खेलने का एडवांटेज है। लेकिन यह याद रखना होगा कि अपने घर में ही टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया से पिछली सीरीज हारी थी।

विश्व कप के बाद भारत ने विंडीज को उनके घर में और फिर अपनी सरजमीन पर मात दी है। इसके अलावा बांग्लादेश और श्रीलंका की चुनौती ध्वस्त की है, पर यह याद रखना होगा कि ऑस्ट्रेलिया इन टीमों जैसी नहीं है।

भारत की मध्यक्रम की कमजोरी ऑस्ट्रेलिया और विश्व कप समेत तमाम सीरीज में उभर कर सामने आई है। हालांकि, श्रेयस अय्यर के आने के बाद कुछ हद तक यह समस्या कम जरूर हुई है, पर खत्म नहीं हुई है।

यही कारण है कि विराट अपना क्रम तीसरे से खिसकाकर चौथे पर लाना चाहते हैं। उन्होंने मैच से एक दिन पूर्व यह संकेत दिया है कि वह शिखर, रोहित और राहुल तीनों को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अंतिम एकादश में देखना चाहते हैं।

ऋषभ पंत के लिए भी यह सीरीज काफी अहम होने जा रही है। उन्हें श्रेष्ठ आक्रमण के सामने बल्ले से रन बनाने ही होंगे। लेकिन उन पर भरोसा करना मुश्किल लगता है। वह अपने लापरवाह शॉट चयन के कारण जमने के बाद भी विकेट फेक देते हैं। ऐसे में पैट कमिस, मिशेल स्टार्क, जोश हेजलवुड और केन रिचर्डसन के सामने ऋषभ समेत अन्य बल्लेबाजों को भी डटकर खेलना होगा।

भारतीय गेंदबाजी के धुरी भुवनेश्वर कुमार है हालांकि वो चोटिल हैं। इसके बावजूद जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी के रूप में टीम इंडिया के पास दो बेहद खतरनाक तेज गेंदबाज मौजूद हैं। तीसरे गेंदबाज के रूप में नवदीप सैनी और शार्दुल ठाकुर में से जिसे मौका मिलता है, उन्हें खुद को साबित करना होगा।

सैनी अपनी तेजी से ऑस्ट्रेलिया को चौंका सकते हैं। कंगारुओं के लिए वह कितनी समस्या पैदा कर पाएंगे। इसका टेस्ट होना अभी बाकी है। स्पिन विभाग में भी टीम इंडिया के लिए ज्यादा चिंता की बात नहीं है। रविंद्र जडेजा, कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल तीनों दिग्गज गेंदबाज हैं और वह कंगारुओं के लिए परेशानी खड़ी कर सकते हैं।

भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच आमने-सामने के रिकॉर्ड की बात करें तो इन दोनों ने अभी तक 137 वनडे मैच खेले हैं। इनमें से सिर्फ 50 में भारत को जीत मिली है। जबकि ऑस्ट्रेलिया ने 77 मुकाबलों में जीत दर्ज की है। इन दोनों के बीच 10 मैच बेनतीजा रहे हैं। वहीं भारत में दोनों देशों के बीच 61 मुकाबले हुए हैं। इसमें भी ऑस्ट्रेलिया को बढ़त हासिल है। उसने 29 तो भारत ने 27 मैचों में जीत हासिल की है। पांच मैच बेनतीजा रहे हैं।

दोनों संभावित टीम
भारत: विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा (उपकप्तान), जसप्रीत बुमराह, युजवेंद्र चहल, शिखर धवन, शिवम दुबे, श्रेयस अय्यर, रविंद्र जडेजा, केदार जाधव, कुलदीप यादव, मोहम्मद शमी, मनीष पांडेय, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), लोकेश राहुल, नवदीप सैनी और शार्दुल ठाकुर।

ऑस्ट्रेलिया: एरॉन फिंच (कप्तान), डेविड वार्नर, स्टीव स्मिथ, मार्नस लाबुशाने, एलेक्स कैरी, पैट कमिंस, एश्टन एगर, पीटर हैंड्सकॉम्ब, जोश हेजलवुड, केन रिचर्डसन, डी आर्ची शॉर्ट, मिशेल स्टार्क, एश्टन टर्नर और एडम जम्पा।

You may also like