[gtranslate]
sport

युवाओं के लिए सुनहरा मौका 

भारतीय महिला हॉकी टीम स्पेन रवाना हो चुकी है। कप्तान रानी रामपाल का मानना है कि स्पेन दौरा युवा खिलाडियों के लिए हॉकी विश्व कप टीम में जगह बनाने का अच्छा मौका है। और दौरे के जरिए टीम नए तकनीकी बदलावों को भी परख सकती है। स्पेन रवाना होने वाली भारतीय टीम 20 सदस्यीय है। भारतीय टीम स्पेन के खिलाफ पांच मैच खेलेगी जिसका आगाज 12 जून से होगा। युवाओं ने एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी में अच्छा प्रदर्शन किया है। यदि स्पेन में उस लक्ष्य को कायम रखते सके हैं तो लंदन में होने वाले विश्व कप के लिए टीम में जगह बना सकते हैं। जुलाई में विश्व कप के बाद अगस्त में एशियाई खेल होने हैं और रानी ने कहा कि अपने खेल में नए बदलावों पर अमल करने का यह आखिरी मौका है।  हम आठ साल बाद विश्व कप खेल रहे हैं। सभी के लिए यह बड़ा मौका है। कइयों के लिए पहला अनुभव भी होगा। राष्ट्रमंडल खेलों में अच्छे प्रदर्शन के बाद हम अंडरडॉग की तरह नहीं जाना चाहते। विश्व कप में हमारे प्रदर्शन का असर एशियाई खेलों में प्रदर्शन पर पड़ेगा। स्पेन दौरा तमाम प्रयोगों के लिए आखिरी मौका है। विश्व कप से पहले तरोताजा रहना जरूरी है।
क्षेत्री ने महान फुटबॉलर के गोल की बराबरी की
इंटरकांटिनेंटल फुटबॉल कप टूर्नामेंट के फाइनल मुकाबले में भारत ने केन्या को 2-0 से हराकर खिताब जीत लिया। इसके साथ ही भारतीय कप्तान सुनील क्षेत्री सर्वाधिक अंतरराष्ट्रीय गोल करने वाले खिलाड़ियों की सूची में अर्जेंटीना के महान फुटबॉलर लियोनल मेसी के बराबर पहुंच गए हैं। इन दोनों खिलाड़ियों के नाम पर अब तक 64 अंतरराष्ट्रीय गोल दर्ज हैं। यहां तक पहुंचने में सुनील क्षेत्री ने 102 मैच खेले हैं तो मेसी ने 124 मैचों में यह कारनामा किया है। भारत ने 2019 में यूएई में होने वाले एशिया कप की तैयारियों के मकसद से यह आयोजन किया था। इस प्रतियोगिता में भारत ने खिताब जीतकर यह दिखा दिया कि भारतीय टीम सही राह पर है।
अनु कुमार ने जीता गोल्ड
एशियन जूनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप में उत्तराखण्ड के अनुकमार ने गोल्ड मेडल जीत भारत का नाम विदेशी धरती पर रोशन किया है। उत्तराखण्ड से अब विश्व फलक पर ऐसी-ऐसी खेल प्रतिभाएं आ रही हैं जो वास्तव में अपना दमखम दिखा रही है। हर क्षेत्र में उत्तराखण्ड के सपूत आगे बढ़ रहे हैं। कुछ ऐसा ही अनु कुमार ने भी कर दिखाया है। अनु कुमार देहरादून महाराणा प्रताप एकेडमी का छात्र है। मूल रूप से धनपुरा गांव के रहने वाले अनु कुमार ने जपान में एशियन जूनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल हासिल किया है। अनु कुमार ने 800 मीटर की दौड़ मात्र एक मिनट ग्यारह माइक्रो सेकेंड में पूरी कर रिकॉर्ड भी बनाया। अनु कुमार गरीब परिवार से हैं। इनके पिता गैस एजेंसी में सिलेंडरों की डिलीवरी का काम करते हैं। अनु कुमार के खेल को देखकर दिग्गज खिलाड़ियों का कहना है कि आने वाले वक्त में वो ओलंपिक में भारत के मजबूत दावेदार हो सकते हैं। इससे पहले अनु विदेश में अपना देखल दिखा चुके हैं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD