[gtranslate]
इसमें कोई संदेह नहीं कि एम एस धोनी क्रिकेट जगत के महानतम खिलाड़ियों में से एक हैं। अपने बल्ले और दस्तानों से लोहा मनवा चुके धोनी ने अपनी कप्तानी से क्रिकेट जगत में एक अलग पहचान बनाई है।
यकीनन सबसे महान भारतीय कप्तान होने के नाते, उन्होंने अपने धैर्य और कभी हार न मानने वाले रवैये के साथ क्रिकेट के क्षेत्र में चमत्कार किया है। धोनी ने अपने पांचवें अंतरराष्ट्रीय मैच से ही रिकॉर्ड बनाने शुरू कर दिए थे और आज तक यह विकेटकीपर बल्लेबाज 22 गज की क्रिकेट पिच पर हर बार नए मील के पत्थर बनाता आ रहा है। और अब इस महान क्रिकेटर ने क्रिकेट के अलावा भारतीय सेना में दिलचस्पी दिखाई है। और भारतीय सेना में अपनी ट्रेनिंग के बाद नई जिम्मेदारी निभाने को तैयार हैं। अब धोनी को ऑनरी कर्नल का ओहदा मिलेगा। धोनी अपनी इस तैनाती के लिए सेना के खास विमान से रवाना हो गए हैं। पूर्व कप्तान और सेना में (लेफ्टिनेंट कर्नल) ने (31 जुलाई) से तनावग्रस्त जम्मू-कश्मीर में बतौर लेफ्टिनेंट कर्नल अपनी गश्त सेवा शुरू कर दी है। सेना ने खुद इसकी जानकारी दी है। धोनी को एक पैराट्रपर की ट्रेनिंग दी गई है। जिसमे एयरक्राफ्ट से कूदने का प्रशिक्षण भी शामिल है। जो उनकी पूरी ट्रेनिंग का हिस्सा है। धोनी जैसी हस्ती जिनकी बड़ी ब्रांड वैल्यू सुरक्षा बालों और युवाओं में अपनी छवि मजबूत करने में मदद करती है।
धोनी दो महीने की ट्रेनिंग के लिए भारतीय सेना की पैराशूट रेजिमेंट के साथ जुड़े हैं। धोनी की ट्रेनिंग 31 जुलाई से 15 अगस्त तक होगी इसी के तहत उनकी तैनाती कश्मीर में हुई है। उनकी बटालियन विक्टर फोर्स के रूप में कश्मीर में स्थित है। वैसे तो भारतीय सेना में उन्हें ब्रिगेडियर की मानद उपाधि दी है लेकिन धोनी पैराशूट रेजिमेंट (106 पैरा टीए बटालियन) की प्रादेशिक सेना इकाई में मानद कर्नल यानी लेफ्टनेंट कर्नल हैं। धोनी 2015 में क्वालिफाइड पैराट्रपर बने थे। उन्होंने आगरा स्थित ट्रेनिंग कैंप में ट्रेनिंग के रूप में आर्मी के विमान से पांच बार पैराशूट के साथ जंप लगाई थी।
धोनी पैरा कमांडो की बटालियन में 15 दिन ड्यूटी करेंगे। 15 अगस्त का जश्न वहीं मनाने के बाद वह ट्रेनिंग के लिए  बेंगलुरु चले जाएंगे। आतंकवादी इलाके में धोनी 19 किलोग्राम सामान लेकर चलेंगे। पूर्व कप्तान लेफ्टिनेंट कर्नल महेंद्र सिंह धोनी पैरा कमांडो की जिस बटालियन में धोनी तैनात होंगे, वह मिले-जुले सैनिकों की यूनिट है। वहां देश के हर इलाके से आए करीब 700 सैनिक हैं। इनमें गोरखा, सिख, राजपूत, जाट जैसी सभी रेजीमेंट के सैनिक शामिल हैं। यहां धोनी को दिन-रात दोनों शिफ्टों में ड्यूटी करनी होगी। और धोनी ऑफिसर्स मैस की जगह 50-60 सैनिकों के साथ बैरक में ही रहेंगे। ऐसा धोनी खुद चाहते थे। स्वादिष्ट बटर चिकन के लिए जानी जाने वाली इस बटालियन में हफ्ते में तीन दिन धोनी को चिकन मिलेगा। धोनी को 2011 में सेना की टेरिटोरियल आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल की मानद रैंक मिली थी। इसी ट्रेनिंग का हिस्सा होने की वजह से उन्होंने बीसीसीआई को पहले ही लिख दिया था कि वह वेस्टइंडीज दौरे पर टीम का हिस्सा नहीं रहेंगे।
धोनी के इस कदम को देश ही नहीं विदेशों में भी काफी सराहना मिल रही है। भारतीय क्रिकेट खिलाड़ियों में पूर्व कप्तान कपिल देव और गौतम गंभीर खुलकर धोनी की तारीफ कर चुके हैं। वहीं वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज शेल्डन कार्टेल ने भी धोनी के इस कदम की तारीफ की है। कार्टेल खुद सेना में रह चुके हैं और विश्वकप में विकेट लेने के बाद सैल्यूट कर उसे सेलिब्रेट करने से फेमस हुए थे।
धोनी भले ही वेस्टइंडीज दौरे के लिए नहीं जा सके हो, लेकिन उम्मीद की जा रही है कि आगामी 15 सितंबर से भारतीय टीम में दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए चुने जा सकते हैं। धोनी ने हाल ही में खुद को तीन अगस्त से शुरू हो रहे टीम इंडिया के वेस्टइंडीज दौरे के लिए अनुपलब्ध बताया था। जब विश्वकप खत्म होने के बाद उनके रिटायरमेंट की घोषणा की अटकलें जोरों पर थी।
धोनी के 19 किलो वजन में क्या है?
सामान वजन
3 मैगजीन 5 किलो
वर्दी 3 किलो
जूते 2 किलो
3-6 ग्रेनेड 4 किलो
हेलमेट 1 किलो
बुलेटप्रूफ जैकेट 4 किलो
 ड्यूटी में क्या करेंगे धोनी
1. गश्तः श्रीनगर के बादामी बाग कैंट एरिया में धोनी 8-10 सैनिकों के दस्ते में गश्त करेंगे। उन्हें बुलेटप्रूफ जैकेट, एके-47 राइफल और 6 ग्रेनेड दिए जाएंगे। इस ड्यूटी का मकसद लोगों के साथ मेल- मिलाप और इलाके से खुफिया जानकारियां जुटाना होता है।
2. पोस्ट ड्यूटीः उन्हें बंकर में बिना पलक झपके खड़े रहना पड़ सकता है। ऐसा 2-2 घंटे की शिफ्ट में तीन बार होगा। यह ड्यूटी धोनी के धैर्य की परीक्षा लेगी। चुपचाप खड़े रहना और बिना हिले लगातार लोगों को आते- जाते देखते रहना पोस्ट ड्यूटी का सबसे अहम काम है।
गार्ड ड्यूटी रखवाली का काम धोनी को गार्ड यूनिट में रखवाली का काम मिलेगा। इसे चार-चार घंटे की दो शिफ्ट में करना होगा। यह ड्यूटी दिन और रात दोनों शिफ्ट में रहेगी। जब धोनी को दिन में ड्यूटी देनी होगी तब उन्हें सुबह चार बजे उठना होगा।

You may also like

MERA DDDD DDD DD