[gtranslate]

क्रिकेट महाकुम्भ के इतिहास में यह बाहरवां क्रिकेट विश्व कप तेजी से अपनी मंजिल की ओर बढ़ रहा है। लगभग एक महीने के इस खेल में काफी क्रिकेट देखने को मिल चुका है और आगे अभी और देखने को मिलेगा। हालांकि इस बार के वर्ल्ड कप में बारिश और खिलाड़ियों की चोट ने टीमों को काफी निराश किया है। लेकिन कुछ खिलाड़ियों के चोटिल होने की वजह से टीम के साथी खिलाड़ियों की किस्मत भी खुली और वे वर्ल्ड कप का हिस्सा बन गए हैं।

ऐसा ही फिलहाल भारतीय टीम के साथ हुआ जब चोट की वजह से टीम के विस्फोटक सलामी बल्लेबाज शिखर धवन वर्ल्ड कप से बाहर हो गए और उनकी जगह युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत को वर्ल्ड कप में जगह मिल गई। ऐसे में ऋषभ पंत को अंतिम ग्यारह में जगह मिलेगी या नहीं ये तो वक्त बताएगा लेकिन टीम इंडिया के पास फिलहाल चार विकेटकीपर हो चुके हैं। टीम में फिलहाल विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी अनुभवी विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी के जिम्मे है जो टीम का अभिन्न हिस्सा हैं और उनकी प्लेइंग इलेवन में जगह तय है। उनके अलावा टीम के पास रिजर्व विकेटकीपर के रूप में विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक उपलब्ध हैं जिन्हें टीम में नंबर चार पर खिलाने का दावेदार भी कहा जा रहा है।

इनके अलावा केएल राहुल जो आईपीएक में पंजाब और बैंगलोर की तरफ से विकेटकीपिंग कर चुके हैं। वे धवन की गैरमौजूदगी में रोहित के साथ ओपनिंग की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। वहीं अभी चोटिल धवन की जगह पर टीम में शामिल हुए ऋषभ पंत भी एक विकेटकीपर बल्लेबाज हैं। वे आईपीएल में दिल्ली के लिए और टेस्ट मैच में टीम इंडिया की तरफ से विकेटकीपिंग कर चुके हैं। अगर किसी मैच में इन चारों को एक साथ प्लेइंग इलेवन में जगह मिलती है तो ये वर्ल्ड कप इतिहास में शायद पहली बार होगा जब किसी टीम में चार विकेटकीपर खेलेंगे।

शिखर की चोट के चलते उनकी जगह दो दिन बाद 11 जून को भारतीय टीम में बतौर बल्लेबाज ऋषभ पंत को बुलाया गया। तब तक यही उम्मीद थी कि शिखर ठीक हो जाएंगे। बदकिस्मती से शिखर का अंगूठा जुलाई तक ठीक नहीं हो पाएगा और इस कारण वह अब आगे इस विश्व कप से बाहर हो गए हैं। शिखर की जगह ऋषभ पंत को इस विश्व कप के बाकी मैचों के लिए भारतीय टीम में शामिल किया है।

ऋषभ पंत को इंग्लैंड में वन डे क्रिकेट विश्व कप में शिरकत करने गई भारतीय टीम में नहीं चुने जाने पर चयनकर्ताओं की खासी आलोचना हुई थी। बाद में ऋषभ पंत को अंबाती रायडू के साथ भारत के विश्व कप के लिए रिजर्व खिलाडियों में शामिल कर लिया गया।

इस विश्व कप में अफगानिस्तान के खिलाफ इंग्लैंड के कप्तान इयोन मॉर्गन की पारी ने क्रिकेट जगत में तहलका मचा दिया है। मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान पर मॉर्गन ने 71 गेंदों में 148 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली। उन्होंने अपनी पारी में 17 छक्के लगाए, इयोन मॉर्गन एक मैच में 17 छक्के ठोकने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज बन गए हैं। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि इंग्लैंड के कप्तान मॉर्गन ने इस विश्व कप में अकेले ही छह देशों से अधिक छक्के लगा डाले हैं।

इंग्लिश कप्तान मॉर्गन ने इस वर्ल्ड कप में अकेले ही 22 छक्के ठोक दिए हैं और उन्होंने पाकिस्तान, भारत, बांग्लादेश, दक्षिण अफ्रीका, श्रीलंका और न्यूजीलैंड जैसे देशों को छक्के लगाने के मामले में पछाड़ दिया है।

भारत ने अबतक खेले अपने मैचों में 16 छक्के लगाए हैं और बांग्लादेश ने भी 12 छक्के लगाए हैं। पाकिस्तान की टीम इस वर्ल्ड कप में अबतक 19 छक्के लगा पाई है। दक्षिण अफ्रीका ने 11, श्रीलंका ने 8 और न्यूजीलैंड की टीम सात ही छक्के लगा पाई है। भारत से विश्व कप में मिली करारी शिकस्त से निराश पाकिस्तान के एक प्रशंसक ने गुजरांवाला अदालत में याचिका दायर कर टीम पर प्रतिबंध लगाने के साथ चयन समिति को बर्खास्त करने की मांग की है।

16 जून को मैनचेस्टर में पाक को भारत के हाथों 89 रन से हार मिली थी। ये विश्व कप के इतिहास में पाकिस्तान की भारत के हाथों रिकॉर्ड सातवीं शिकस्त थी। इसके बाद से पाक क्रिकेटरों को प्रशंसकों और पूर्व खिलाड़ियों से कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। कोर्ट में दायर याचिका में याचिकाकर्ता ने क्रिकेट टीम पर प्रतिबंध के साथ मुख्य चयनकर्ता इंजमाम उल हक की अगुआई वाली चयन समिति को भंग करने की मांग की है। याचिकाकर्ता के बारे में पता नहीं चल पाया है।


याचिका के जवाब में गुजरांवाला अदालत ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के अधिकारियों को तलब किया है। इस बीच यह भी खबरें हैं कि पीसीबी संचालन मंडल की लाहौर में होने वाली बैठक में कोच और चयनकर्ताओं के साथ प्रबंधन के कुछ अन्य सदस्यों की छुट्टी करने पर फैसला हो सकता है। जिन लोगों की छुट्टी होने की संभावना है उनमें टीम के मैनेजर तलत अली, गेंदबाजी कोच अजहर महमूद और पूरी चयन समिति शामिल है। इसके साथ ही कोच मिकी अर्थर के कार्यकाल को नहीं बढ़ाया जाएगा।

दूसरी ओर आईसीसी वनडे रैंकिंग में दुनिया के तीसरे नंबर के गेंदबाज और वर्ल्ड नंबर 1 स्पिनर अफगानिस्तान के राशिद खान के नाम कई अनचाहे रिकॉर्ड दर्ज हो गए हैं। इंग्लैंड के खिलाफ ओल्ड ट्रैफर्ड ग्राउंड में खेले गए आईसीसी क्रिकेट विश्व कप 2019 के मैच में राशिद शान ने अपने 9 ओवरों में 110 रन लुटाए। यह क्रिकेट विश्व कप के 44 वर्षों के इतिहास में किसी गेंदबाज का सबसे महंगा स्पेल है। राशिद खान ने पिछले साल ही सबसे कम उम्र में आईसीसी वनडे रैंकिंग में दुनिया का नंबर 1 गेंदबाज बनने का गौरव हासिल किया था।

उन्होंने न्यूजीलैंड के माइकल स्नेडन का रिकॉर्ड तोड़ दिया, जिन्होंने 1983 वर्ल्ड कप में अपने 12 ओवर में 105 रन दिए थे। वेस्ट इंडीज के जेसन होल्डर ने भी साल 2015 में 104 और अफगानिस्तान के ही दौलत जादरान ने 101 रन दिए थे। राशिद खान दुनिया के पहले ऐसे स्पिनर हैं जिसने वनडे मैच में 100 से ज्यादा रन दिए हैं। इससे पहले ये अनचाहा रिकॉर्ड तेज गेंदबाजों के नाम ही दर्ज था। राशिद खान अगर एक ओवर और फेंकते तो शायद वह अंतरराष्ट्रीय वनडे क्रिकेट मैच में सबसे ज्यादा रन लुटाने वाले गेंदबाज बन जाते।

विश्वकप क्रिकेट में पाकिस्तान और श्रीलंका से आगे निकल चुका बांग्लादेश की टीम बांकी देशों को भी कड़ी चुनौती देने को तैयार है। टीम के बल्लेबाज और गेंदबाज फार्म में हैं। एशिया महाद्वीप में बांग्लादेश ने पाकिस्तान और श्रीलंका को पीछे छोड़ते हुए क्रिकेट में बड़ी शक्ति के रूप में उभरा है।

पाकिस्तान से 1971 में अलग होकर बने इस देश ने विश्व विजेता रहे वेस्टइंडीज और मजबूत साउथ अफ्रीका को धूल चटा अंक तालिका में पांचवे स्थान पर काबिज है। जिस तरह से बांग्लादेश लगातार बेहतर प्रदर्शन कर रहा है, इसे देखकर यह कहा जा सकता है कि भारत के बाद एशिया में क्रिकेट में दूसरी सबसे बड़ी शक्ति बांग्लादेश होगा।

बांग्लादेश के बल्लेबाज और गेंदबाज फार्म में है। इस लिहाज से बांग्लादेश उलटफेर कर सकता है। शाकिब अल हसन दो शतक और दो अर्धशतक जड़कर अपने इरादे स्पष्ट कर चुके हैं। मुश्तफिकुर रहीम भी अच्छी बल्लेबाजी कर रहे हैं। लिटन दास ने वेस्टइंडीज के खिलाफ अपने विश्वकप के पहले मैच में 95 रनों की नाबाद पारी खेल अपनी प्रतिभा दिखा चुके हैं। वहीं गेंदबाजी में मोहम्मद सैफुद्दीन मुस्तफिजुर रहमान शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं। शाकिब अल हासिल अबतक इस विश्वकप में सबसे अधिक रन जड़नेवाले खिलाड़ी हैं। वहीं सैफुद्दीन 9 विकेट लेकर टॉप 5 गेंदबाज में काबिज हैं। इनके अलावा भी कई क्रिकेटर अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। ऐसे में और जीत दर्ज कर सेमीफाइनल में प्रवेश की संभावनाओं को बनाए रखना चाहेगी। बांग्लादेश की टीम अनुभवी खिलाड़ियों से भरा हुआ है। शाकिब अल हसन ने 198 वनडे खेले हैं। मुश्तफिकुर और मुर्तुजा को 200 से अधिक वनडे खेलने का अनुभव है। तमीम इकबाल 193 और मोहम्मदुल्लाह 175 वनडे खेल चुके हैं। इस अनुभव का लाभ भी इस टीम को विश्वकप में मिल रहा है।

अगर पाकिस्तान से बांग्लादेश की तुलना करें तो बांग्लादेश इस वर्ष काफी आगे है। इस साल बाग्लादेश ने 11 वनडे में 6 में जीत दर्ज की है। वहीं पाकिस्तान को 3 में जीत और 15 में हार मिली है। विश्वकप में बांग्लादेश ने 5 मैच में 2 में जीत हासिल की है। दक्षिण अफ्रीका जैसी टीम को 21 और विश्व विजेता रहे वेस्टइंडीज को एकतरफा मुकाबले में सात विकेट से रौंदा है। वहीं पाकिस्तान विश्वकप के पांच मैच में से महज एक मैच जीत पाया है और इस टूर्नामेंट से बाहर होने के कगार पर है। एशिया की एक और क्रिकेट शक्ति श्रीलंका छठे स्थान पर है। जबकि बांग्लादेश इससे ऊपर।

पाकिस्तान 1975 से विश्वकप खेल रहा है, जबकि बांग्लादेश ने 1999 में पहला विश्वकप खेला। पहले विश्वकप में पाकिस्तान और स्कॉटलैंड को हराया था, लेकिन सुपर सिक्स में नहीं जा पाया था। पाकिस्तान इस वर्ल्ड कप का उपविजेता बना था। 2003 में बांग्लादेश एक भी मैच नहीं जीत पाया था। 2007 में यह टीम सुपर आठ में गई और इसमें भी एक मैच में जीत मिली। जबकि भारत सुपर आठ में नहीं जा पाया था। 2011 में 6 में से तीन में जीत मिली। इसमे इंग्लैंड से जीत भी शामिल है। 2015 के वर्ल्ड कप के क्वार्टर फाइनल में बांग्लादेश पहुंचा। इस बार इनके प्रदर्शन को देखते हुए अंतिम चार में जाने की संभावना बढ़ गई है।

श्रीलंका इस साल खेले गए 12 में से 2 वनडे ही जीत पाया है। ऐसे में इस वर्ष श्रीलंका की स्थिति का पता लगाया जा सकता है। श्रीलंका के साथ विश्वकप में बांग्लादेश का मैच रद्द हो गया था। श्रीलंका 5 मैच में 1 जीत 2 हार और इतने ही रद्द मैच के साथ छठे स्थान पर है। विश्वकप में इस देश की आगे की राह कांटों भरा है। अब बांग्लादेश के पाकिस्तान के साथ पांच जुलाई को होने वाला मुकाबला काफी अहम माना जा रहा है। दोनों टीमें जीत दर्ज कर एशिया में भारत के बाद मजबूत टीम में नाम दर्ज कराने के लिए भी भिड़ेंगीं। वहीं 2 जुलाई को भारत के साथ भी मुकाबला रोचक होने की उम्मीद है।

You may also like