[gtranslate]
sport

 अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया के बाद ब्रिटेन और कनाडा ने भी किया बीजिंग ओलंपिक का बहिष्कार 

अगले साल यानी कुछ ही महीनों में चीन में होने वाले शीतकालीन ओलंपिक खेल खेलों के लिहाज से महत्वपूर्ण हैं, जिनमें अधिकांश प्रतियोगिताएं बर्फ पर खेले जाने वाले खेलों की स्पर्धा होती है। इन खेलों को लेकर अब कूटनीतिक जंग चरम पर पहुंच चुकी है। दरअसल , दो दिन पहले अमेरिका ने ऐलान किया था कि वह अगले साल चीन में खेले जाने वाले शीतकालीन ओलंपिक खेलों का कूटनीतिक रूप से बहिष्कार करेगा। अमेरिका के इस एलान के बाद अब इन खेलों का राजनयिक बहिष्कार करने वाले देशों की संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है । दरअसल , शीतकालीन (विंटर) ओलंपिक से पहले चीन को एक और झटका लगा है। अमेरिका,  ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के बाद अब कनाडा ने भी बीजिंग विंटर ओलंपिक के राजनयिक बहिष्कार का एलान किया है। इसे लेकर अब ड्रैगन की तरफ से भी गुस्सा जाहिर किया गया है। चीन ने कहा कि जिन चार देशों ने बीजिंग विंटर ओलंपिक का बहिष्कार किया है, उन्हें कीमत चुकानी पड़ेगी।

 


कनाडा ने किया शीतकालीन (विंटर) ओलंपिक का बहिष्कार
अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया ने पहले ही बहिष्कार का एलान किया था। वहीं, ग्रेट ब्रिटेन और कनाडा ने  इसकी घोषणा की है। कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से इसकी जानकारी दी। ट्रूडो ने कहा कि चीन में लगातार हो रहे मानवाधिकार के उल्लंघन से कनाडा काफी चिंतित है। इसके विरोध में हम विंटर गेम्स में किसी भी राजनयिक प्रतिनिधि को नहीं भेजेंगे।

ब्रिटेन, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया भी कर चुके हैं एलान

कनाडा से पहले ब्रिटेन ने भी बहिष्कार का एलान किया था। उन्होंने कहा था कि हमारे देश से कोई भी राजनयिक चीन नहीं जाएंगे। ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉन्सन ने साथ ही यह भी कहा कि मुझे नहीं लगता कि खेलों का बहिष्कार करना समझदारी है और यह सरकार की नीति है।
इससे पहले ऑस्ट्रेलिया और इससे पहले अमेरिका भी बीजिंग में होने जा रहे शीतकालीन ओलंपिक के बहिष्कार का एलान कर चुके हैं। इसके पीछे उन्होंने चीन के शिनजियांग प्रांत में उइगर मुस्लिमों पर अत्याचार और अन्य कई मानवाधिकार उल्लंघनों का हवाला दिया है। हालांकि, चारों देश ओलंपिक में भाग ले रहे अपने खिलाड़ियों का समर्थन करते दिखेंगे।

कई और देश कर सकते हैं बहिष्कार

बीजिंग विंटर गेम्स का कई और देश बहिष्कार कर सकते हैं। इससे पहले भी कई ओलंपिक खेलों में ऐसा हो चुका है। कई देशों को अन्य देशों का बहिष्कार झेलना पड़ा है। 1956 मेलबर्न, 1964 टोक्यो, 1976 मॉन्ट्रियल, 1980 मॉस्को, 1984 लॉस एंजिल्स और 1988 सियोल में युद्ध, आक्रमण और रंगभेद जैसे कारणों से विभिन्न देशों ने ओलंपिक खेलों का बहिष्कार किया था।

You may also like

MERA DDDD DDD DD