गत चैंपियन भारत एशिया कप क्रिकेट टूर्नामेंट में 19 सितंबर को चिरप्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान से भिड़ेगा, जबकि इससे एक दिन पहले टीम अपने अभियान की शुरुआत क्वालीफायर के खिलाफ करेगी। वर्ष 2017 की चैंपियंस ट्रॉफी के बाद यह दूसरा मौका होगा, जब भारत-पाकिस्तान आमने- सामने होंगे। चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल मुकाबले में भारत-पाकिस्तान के बीच मुकाबला हुआ था। जिसमें पाकिस्तान ने भारत को 180 रनों से करारी मात दी थी। उस मुकाबले के बाद अब 19 सितंबर 2018 को भारत-पाकिस्तान एक बार फिर से आमने- सामने नजर आएंगे।

एशिया कप 2018 में भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका, बांग्लादेश और अफगानिस्तान का टूर्नामेंट में खेलना तय है। अब तक टूर्नामेंट में भाग लेने वाली पांच टीमों के नाम सामने आ चुके हैं। जिसमें दो ग्रुप बनाए गए हैं। भारत और पाकिस्तान के साथ ग्रुप में अभी तीसरी टीम आनी बाकी है। जसके लिए 29 अगस्त से यूएई, सिंगापुर, ओमान, नेपाल, मलेशिया और हॉन्गकॉन्ग के बीच दावेदारी के लिए जंग होगी।

भारत और पाकिस्तान के बीच कोई भी मैच हो, वह हमेशा हाईवोल्टेज ही होता है। 2017 की चैंपियंस ट्रॉफी में भारत को हार का सामना करना पड़ा था। इस मैच में फखर जमां ने जसप्रीत बुमराह से मिले जीवनदान के बाद शानदार शतकीय पारी खेली थी। वहीं, भारत इस मैच में बल्ले और गेंद दोनों से ही फ्लॉप रहा था। अब 19 सितंबर को भारत-पाकिस्तान फिर आमने-सामने होंगे और भारत के पास पिछली हार का बदला लेने का एक बेहतरीन मौका भी होगा। 2016 में एशिया कप के फाइनल में भारत ने बांग्लादेश को 8 विकेट से हराकर खिताब जीता था। यह टूर्नामेंट टी-20 फॉर्मेट में खेला गया था।

आईसीसी के जारी एशिया कप 2018 के मैचों को फिर से री-शेड्यूल करने पर विचार किया जा रहा है। बीसीसीआई ने शेड्यूल पर नाराजगी जताते हुए टूर्नामेंट ऑर्गेनाइजर्स से इसमें बदलाव करने की मांग की है। बीसीसीआई ने 19 सितंबर को पाकिस्तान के साथ भारत के मैच को ध्यान में रखते हुए इस बदलाव की मांग की है। गौरतलब है कि आईसीसी ने हाल ही में एशिया कप 2018 का शेड्यूल जारी किया था। इस शेड्यूल के अनुसार टीम इंडिया को दो मैच लगातार खेलने थे। टीम इंडिया का पहला मैच 18 सितंबर को क्वालीफायर टीम के साथ रखा गया था, जबकि अगले ही दिन यानी 19 सिंतबर को उसका सामना पाकिस्तान के साथ था।

क्रिकेट दिग्गजों का मानना है कि डिफेंडिंग चैंपियन भारत के लिए यह शेड्यूल बिलकुल सही नहीं है। टीम इंडिया के खिलाड़ियों की थकावट का पाकिस्तान को पूरा फायदा मिलेगा। इस वजह से आईसीसी अब इस शेड्यूल में थोड़ा बदलाव कर सकती है। ऐसा माना जा रहा है कि अब भारत का मैच पाकिस्तान से 19 सितंबर की बजाए 20 सितंबर को हो सकता है। हालांकि आईसीसी के लिए सबसे बड़ी सिरदर्दी यह है कि 20 सितंबर को बांग्लादेश का सामना अफगानिस्तान से होगा। ऐसे में एक ही दिन में लगातार दो मैच कराने के लिए आईसीसी को काफी सक्रिय रहना होगा। इस शेड्यूल को लेकर टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी वीरेंद्र सहवाग ने भी मोर्चा खोला है।

शेड्यूल के खिलाफ बोलते हुए सहवाग ने कहा था, ‘आज के समय कौन सा देश एक के बाद एक लगातार दो मैच खेलता है। एक खिलाड़ी को मैच के बाद रिकवर होने के लिए कम से कम 48 घंटे का वक्त चाहिए होता है।’ साथ ही सहवाग ने कहा कि टीम इंडिया की थकावट का पूरा फायदा पाकिस्तान को मिलेगा। भारतीय टीम का पहला मैच 18 सितंबर को क्वालीफायर जीतकर आने वाली टीम से होगा। उसके बाद अगले दिन 19 सितंबर को भारत और पाकिस्तान के बीच दुबई में मुकाबला होगा। ग्रुप चरण के बाद दोनों ग्रुपों से टॉप 2-2 टीमें सुपर 4 में जाएगी। वहां तीन-तीन मुकाबले होने के बाद टॉप 2 टीमों के बीच 28 सितंबर को फाइनल मुकाबला खेला जाएगा।

एशिया कप क्वालीफायर में मेजबान मलेशिया के अलावा यूएई, नेपाल, हॉन्गकांग, ओमान और सिंगापुर की टीमें 29 अगस्त से 6 सितंबर तक तीन अलग-अलग जगहों पर मैच खेलेंगी। यह मुकाबले किनरारा ओवल, बेयुमास ओवल और यूकेएम क्रिकेट ओवल में खेले जाएंगे। एशिया कप क्वालीफायर में फाइनल से पहले राउंड रॉबिन के आधार पर सभी टीमें एक दूसरे के खिलाफ एक-एक मैच खेलेगी और टॉप दो टीमों के बीच 6 सितंबर को खेला जाएगा और इसकी विजेता टीम एशिया कप के लिए
क्वालीफाई कर जाएगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like