[gtranslate]
sport

भारतीय बल्लेबाजों की गलतियों से हावी हुआ ऑस्ट्रेलिया 

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सिडनी में चल रहे तीसरे टेस्ट मैच का तीसरा दिन पूरी तरह  मेजबान टीम का रहा। जिससे वह मैच में मजबूत स्थिति में है। पहली पारी में 338 रन बनाने वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम ने भारतीय टीम को पहली पारी में 244 रन पर ही समेट दिया और तीसरे दिन के अंत में 197 रन की विशाल बढ़त बना ली। भारतीय बल्लेबाजों ने खूब गलतियां की और ऑस्ट्रेलिया को हावी होने का मौका दिया।

पहली पारी के खेल में भारत के तीन खिलाड़ी रन आउट होकर पवेलियन लौटे। इसमें ऑस्ट्रेलियाई फील्डिंग से ज्यादा योगदान भारतीय खिलाड़ियों की खुद की गलती का रहा। मेहमान टीम की तरफ से सबसे पहले हनुमा विहारी रन आउट हुए, इसके बाद अश्विन और फिर बुमराह भी इसी तरह पवेलियन लौट गए। यह 2008 के बाद पहला मौका है जब भारत ने किसी पारी में अपने तीन विकेट रन आउट से गंवा दिए। इससे पहले साल 2008 में इंग्लैंड के खिलाफ वीरेंद्र सहवाग, वीवीएस लक्ष्मण और युवराज सिंह रन आउट थे और वह मैच ड्रॉ रहा था।

भारतीय क्रिकेट टीम के लिए सिडनी में चल रहा तीसरा टेस्ट मैच अच्छा साबित नहीं हो रहा। तीसरे दिन जहां पूरी भारतीय टीम पहली पारी में 244 रनों पर ही सिमट गई, वहीं उसके दो अहम खिलाड़ी चोटिल हो गए। फिलहाल टीम के स्टार ऑलराउंडर रविंद्र जडेजा को अंगूठे में चोट की वजह से मैच के बीच में ही अस्पताल जाना पड़ा है। बीसीसीआई की तरफ से इस संबंध में ट्वीट कर कहा गया कि बल्लेबाजी करते वक्त जडेजा को बाएं अंगूठे में चोट लगी, उसे स्कैन के लिए ले जाया गया है।

दरअसल जडेजा को बल्लेबाजी के दौरान स्टार्क की तेज गेंद अंगूठे में लगी, हालांकि इसके बावजूद उन्होंने बल्लेबाजी जारी रखी। वह 37 गेंदों में 28 रन बनाकर नाबाद रहे। लेकिन पहली पारी के बाद वह असहज नजर आए और फील्डिंग करने नहीं उतरे। उनकी जगह पर मयंक अग्रवाल सब्स्टीट्यूट खिलाड़ी के तौर पर मैदान में उतरे। गौरतलब है कि जडेजा ने पहली पारी में शानदार गेंदबाजी करते हुए ऑस्ट्रेलिया के चार खिलाड़ियों को आउट किया था। इसके अलावा स्मिथ को रन आउट करने में भी उनका योगदान रहा।

उधर जडेजा से पहले विकेटकीपर ऋषभ पंत को भी बाईं कोहनी में चोट लगने की वजह से अस्पताल भेजा गया, जिसके बाद उनकी जगह ऋद्विमान साहा को विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी सौंपी गई। पंत को भी बल्लेबाजी के दौरान ही कमिंस की तेज गेंद कोहनी में लगी थी।

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सिडनी में चल रहे तीसरे टेस्ट मैच में एक नया विवाद सामने आया है। तीसरे दिन का खेल खत्म होने के कुछ समय बाद ही भारतीय टीम प्रबंधन ने जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद सिराज की तरफ से नस्लभेदी टिप्पणी को लेकर शिकायत दर्ज करवाई है। भारतीय टीम की तरफ से कहा गया है कि सिडनी में चल रहे टेस्ट मैच के दूसरे और तीसरे दिन सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर भीड़ ने दोनों क्रिकेटरों के साथ दुर्व्यवहार किया और उनपर नस्लीय टिप्पणी की।

द टेलीग्राफ में छपी खबर के मुताबिक, यह सब तब हुआ जब तीसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद कप्तान अजिंक्य रहाणे, रविचंद्रन अश्विन समेत टीम के कुछ सीनियर खिलाड़ी दोनों अंपायरों पॉल रिफेल और पॉल विल्सन से मिले और उन्हें बताया कि उनके दो खिलाड़ियों के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

इसके बाद दोनों अंपायरों, आईसीसी के सुरक्षा अधिकारियों और दोनों खिलाड़ियों के बीच पांच मिनट तक इसे लेकर बातचीत हुई। इसके बाद भारतीय टीम ड्रेसिंग रूम में चली गई। फिलहाल मामला आईसीसी के पास पहुंच गया है।

बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब भारत के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर नस्लभेदी टिप्पणी हुई है। आज से ठीक 13 साल पहले भी सिडनी में ही नस्लीय दुर्व्यवहार की एक मामले ने क्रिकेट की दुनिया को हिलाकर रख दिया था। तब एंड्र्यू साइमंड्स और हरभजन सिंह के बीच यह विवाद हुआ था जिसमें वहां की अदालत, दोनों क्रिकेट बोर्ड, मीडिया समेत हर कोई शामिल हो गया था। बाद में हरभजन सिंह पर तीन टेस्ट का बैन भी लगाया गया जिसे फिर हटा लिया गया।

You may also like

MERA DDDD DDD DD