[gtranslate]
sport

कोरोना महामारी पर नियंत्रण के बाद BCCI तय करेगी आगे कैसे और कब होगा क्रिकेट

कोरोना महामारी पर नियंत्रण के बाद BCCI तय करेगी आगे कैसे और कब होगा क्रिकेट

कोरोना महामारी के वजह से सभी खेलो को स्थगित कर दिया गया है। ऐसे में इस साल होने वाले आईपीएल को भी अनिश्चितकाल तक के लिए टाल दिया गया है। ऐसे में बीसीसीआई ने कोविड-19 महामारी से बनी स्थिति पर कहा कि क्रिकेट के फिर से शुरू होने पर कुछ कहना अभी जल्दबाजी होगी। इस बात की संभावना अधिक है कि इस साल के आखिर में भारतीय टीम का ऑस्ट्रेलिया दौरा होना है।

इस दौरे के समय पर शुरू होने के बारे में कोषाध्यक्ष अरुण धूमल ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया पहुंचने के बाद भारतीय खिलाड़ियों को अलग रहना पड़ सकता है, लेकिन यह हर विदेशी दौरे से पहले संभव नहीं होगा। अरुणधूमल ने पीटीआई से बातचीत में कहा, “उस समय क्या स्थिति होगी, आप उस पर कुछ अंदाजा नहीं लगा सकते। फिलहाल के लिए ऑस्ट्रेलियाई दौरे की संभावना है, क्योंकि किसी ने उसे रद्द नहीं किया है। टी-20 वर्ल्ड कप के लिए भी यही स्थिति है।”

धूमल ने आगे कहा कि ऑस्ट्रेलिया दौरे से पहले खिलाड़ियों को क्वारनटीन पर जाने की जरूरत तभी होगी, जब उससे पहले प्रस्तावित टी-20 वर्ल्ड कप नहीं होगा। वर्ल्ड कप हुआ तो खिलाड़ी पहले ही क्वारनटीन पूरा कर लेंगे। यह क्वारेनटीन सिर्फ एक बार होगा। अगर हर दौरे से पहले अलगाव जरूरी हुआ तो मैचों का आयोजन करना काफी मुश्किल होगा। ऑस्ट्रेलिया में अक्टूबर-नवंबर में होने वाला टी20 विश्व कप का आयोजन लॉजिस्टिक तौर पर ज्यादा चुनौतीपूर्ण होगा।

अरुण धूमल ने कहा, “भारतीय टीम का ऑस्ट्रेलिया दौरा होने की संभावना अधिक है क्योंकि इसमें अभी समय है और लॉजिस्टिक तौर पर इसे करना आसान है। हमें यह देखना होगा कि उस समय सरकार के दिशा-निर्देश क्या होंगे। दोनों देशों के उपर भी निर्भर करता है। टीम यात्रा कैसे करेगी? अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर कोई स्पष्टता नहीं है और क्या हमें कोई छूट मिलेगी। हमें इन सब के बारे में अभी कुछ नहीं पता। तस्वीर इतनी धुंधली है कि हम अभी कुछ भी तय नहीं कर सकते हैं।”

साथ ही उन्होंने सवाल किया, “क्या ऑस्ट्रेलिया के लिए यह संभव होगा कि इतनी सारी टीमों के खिलाड़ियों को दो हफ्ते के लिए क्वारनटीन पर रख सके। खिलाड़ी दो सप्ताह तक ‘पृथकवास’ पर रहने के बाद क्या सीधे टी20 विश्व कप खेलने के लिए तैयार होंगे। इस पर अभी कुछ भी साफ नहीं है।” आगे उन्होंने कहा कि एक बार जब स्थिति में सुधार होगा और लॉकडाउन खत्म होगा तब हम अपने खिलाड़ियों की सुरक्षा और स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए देखेंगे क्या करना है।

खिलाड़ियों का स्वास्थ्य सर्वोपरि है। वहां भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया दौरे पर चार टेस्ट खेलने हैं। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया हालांकि एक और टेस्ट खेलना चाहता है। धूमल के मुताबिक पांच टेस्ट मैचों की सीरीज के बारे में लॉकडाउन से पहले चर्चा की गई थी। जब क्रिकेट फिर से शुरू होगा तो हम देखेंगे कि क्या वह एक अतिरिक्त टेस्ट की मेजबानी करना चाहेगा या उसके स्थान पर दो टी 20 खेलेगा, जिससे अधिक राजस्व की संभावना है।

अगर भारतीय दौरा नहीं होता है तो क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को भारी करीब 300 मिलियन डॉलर का नुकसान हो सकता है। साथ ही धूमल ने कहा कि अगर इंडियन प्रीमियर लीग नहीं हुआ तो बोर्ड को 4000 करोड़ रुपये का नुकसान होगा। अगर हम घरेलू सत्र कराने में नाकाम रहे तो यह काफी बड़ी रकम हो जाएगा। बीसीसीआई को भी भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। अगर आईपीएल नहीं होता है तो हम बहुत बड़ी समस्या में फंस जाएंगे।

You may also like