[gtranslate]
sport

उत्तराखण्ड का शानदार आगाज

सलामी बल्लेबाज करणवीर कौशल की शानदार शतकीय पारी और तेज गेंदबाजों के दम पर उत्तराखण्ड ने विजय हजारे ट्रॉफी में मिजोरम को 152 रन से करारी शिकस्त दी। रनों के लिहाज से उत्तराखण्ड की यह सबसे बड़ी जीत है

पहली बार विजय हजारे ट्रॉफी में पर्दापण कर रही उत्तराखण्ड की क्रिकेट टीम ने अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए छठे मुकाबले में मिजोरम को हराकर लगातार पांचवी जीत हासिल की है। उत्तराखण्ड ने पहले खेलते हुए करणवीर कौशल के शतक और सौरभ रावत के अर्द्धशतक की बदौलत 321 रन बनाए। इस प्रतियोगिता में करणवीर का यह दूसरा शतक है। गेंदबाजी में भी वैभव पंवार, दीपक धपोला और मयंक मिश्रा की शानदार गेंदबाजी के दम पर मिजोरम को 169 रनों पर समेटकर उत्तराखंड ने 152 रनों के विशाल अंतर से जीत दर्ज की। इस प्रतियोगिता में रनों के लिहाज से उत्तराखण्ड की यह सबसे बड़ी जीत भी है।

विजय हजारे ट्रॉफी के अपने पहले मुकाबले में उत्तराखण्ड की टीम को भले ही शिकस्त झेलनी पड़ी हो, लेकिन यह दिन प्रदेश के हर क्रिकेट प्रेमी के जेहन में लंबे समय तक याद रहेगा। इस दिन का सपना प्रदेश के लाखों लोगों ने देखा था। हालांकि चारों एसोसिएशनों के झगड़े के चलते राज्य के लिए यह शुभ मौका 18 साल बाद आया है। राज्य गठन के बाद से ही प्रदेश को बीसीसीआई की मान्यता दिलाने के प्रयास हुए। हालांकि राज्य में कार्यरत चारों क्रिकेट एसोसिएशनों ने आपसी झगड़े के चलते कभी इस ओर नहीं सोचा। पिछले डेढ़ सालों के दौरान मान्यता के प्रयासों में तेजी आई।

मौजूदा खेल मंत्री अरविंद पांडेय ने व्यक्तिगत तौर पर दिलचस्पी लेते हुए सभी संघों को एकजुट करने का प्रयास किया। हालांकि कुछ संघ पदाधिकारियों की हठधर्मिता के चलते उनका प्रयास सफल नहीं हो पाया। इसी दौरान सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप के चलते उत्तराखण्ड समेत कई राज्यों को पहली बार घरेलू सत्र की प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेने का मौका मिला है।

राज्य को बीसीसीआई की मान्यता न होने के चलते क्रिकेटरों को दूसरे राज्यों की खाक छाननी पड़ी थी। प्रदेश की प्रतिभाओं ने अपने शानदार खेल से उन राज्यों की टीमों में भी जगह बनाई। प्रदेश के कई खिलाड़ी भारतीय टीम में भी जगह बनाने में कामयाब हुए। इसके अलावा कई राज्यों की टीमों में भी उत्तराखण्ड के खिलाड़ी शामिल हैं।पहली बार मैदान में उतर रही उत्तराखण्ड की टीम को कई बीसीसीआई अधिकारियों ने भी शुभकामनाएं दी। भारतीय टीम के मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने भी खिलाड़ियों और टीम प्रबंधन को शुभकामनाएं दी। वहीं, क्रिकेट ऑपरेशन जीएम सबा करीम ने भी खिलाड़ियों से बातचीत की।

गुजरात के मोतीबाग क्रिकेट ग्राउंड में खेले गए इस मुकाबले में मिजोरम ने टॉस जीतकर उत्तराखण्ड को पहले बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया। ओपनर करणवीर कौशल और विनीत सक्सेना ने टीम को शानदार शुरुआत दिलाई और 10.5 ओवर में 67 रन जोड़ दिए। विनीत के आउट होने के बाद युवा आर्य सेठी मैदान में उतरे और आर्य और वैभव पंवार के जल्दी-जल्दी आउट होने के बाद कप्तान रजत भाटिया बल्लेबाजी के लिए आए। करणवीर के साथ 71रनों की शानदार साझेदारी की। इसी दौरान करणवीर ने अपना शतक पूरा किया।

करणवीर ने 86 गेंदों में 118 रन की तेजतर्रार पारी खेली। इसके बाद विकेटकीपर सौरभ रावत ने 61 रनों की अर्द्धशतकीय पारी खेली और मलोलन रंगराजन के साथ 61 की साझेदारी की। मयंक मिश्रा ने अंत में ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए 28 गेंदों में 41 और दीपक धपोला ने 18 रन बनाकर टीम का स्कोर 300 के पार पहुंचाया। मिजोरम के तरुवर कोहली ने 65 रन देकर छह विकेट चटकाए। सिनन, ललबिकवेला, जोरिनलियाना एवं अखिल राजपूत ने एक-एक विकेट चटकाया। उत्तराखण्ड ने निर्धारित 50 ओवर में सभी विकेट खोकर 321 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया। मिजोरम के लिए तरुवर कोहली सबसे सफल गेंदबाज रहे। उन्होंने 65 रन देकर छह विकेट चटकाए।

बड़े लक्ष्य के दबाव में मिजोरम शुरुआत में ही बिखर गई और एक छोर से लगातार विकेट गिरते रहे। उत्तराखण्ड के गेंदबाजों ने नियमित अंतराल पर विकेट चटकाकर मिजोरम की पारी को 48.4 ओवर में 169 रनों पर समेट दिया। मिजोरम की टीम 322 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी और शुरुआती झटकों से उबर नहीं सकी। ओपनर अमातिया और तरुवार कोहली तेज गेंदबाज दीपक धपोला की अंदर आती गेंद पर क्लीन बोल्ड हो गए। सिनान ने नाबाद 73 रनों की अर्द्धशतकीय पारी खेलकर थोड़ा संघर्ष तो किया। लेकिन अपनी टीम को हार से नहीं बचा सके। मिजोरम की पूरी टीम 48.4 ओवर में 169 रन पर ढेर हो गई। उत्तराखण्ड की ओर से वैभव पंवार ने तीन, दीपक धपोला, मयंक मिश्रा ने दो-दो और सन्नी राणा, मलोलन रंगराजन और रजत भाटिया ने एक-एक विकेट झटका। सलामी बल्लेबाज करणवीर कौशल की शानदार शतकीय पारी की बदौलत उत्तराखण्ड ने विजय हजारे ट्रॉफी में प्लेट ग्रुप के मुकाबले में मिजोरम को 152 रन से करारी शिकस्त दी। रनों के लिहाज से उत्तराखण्ड की यह सबसे बड़ी जीत है।

अपना पहला मुकाबला हारने के बाद प्लेट ग्रुप में उत्तराखण्ड की टीम दूसरे स्थान पर बनी हुई है। लगातार पांचवीं जीत के साथ उत्तराखण्ड ने प्लेट ग्रुप की अंक तालिका में अपना दूसरा स्थान बकरार रखा है। बिहार और उत्तराखंड दोनों ने ही छह में से पांच मुकाबले जीते हैं। हालांकि नेट रन रेट बेहतर होने के कारण बिहार पहले स्थान पर बना हुआ है। उत्तराखण्ड को अपने पहले मुकाबले में बिहार के हाथों हार झेलनी पड़ी थी। प्लेट ग्रुप में उत्तराखण्ड की टीम दूसरे स्थान पर बनी हुई है। लगातार पांचवीं जीत के साथ उत्तराखण्ड ने प्लेट ग्रुप की अंक तालिका में अपना दूसरा स्थान बकरार रखा है। बिहार और उत्तराखण्ड दोनों ने ही छह में से पांच मुकाबले जीते हैं। हालांकि नेट रन रेट बेहतर होने के कारण बिहार पहले स्थान पर बना हुआ है। उत्तराखण्ड का सातवां मुकाबला 6 अक्टूबर को सिक्कम और आठ अक्टूबर को अरुणाचल प्रदेश से अपना आठवां मुकाबला खेलेगा।

You may also like

MERA DDDD DDD DD