[gtranslate]
Sargosian / Chuckles

मंत्रिमंडल विस्तार बाद भी संकट में येदियुरप्पा

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने गत् 13 जनवरी को अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया तो प्रदेश भाजपा में बढ़ रहे असंतोष को थामने की नियत से था लेकिन बेचारे इस विस्तार के चलते ज्यादा भारी संकट में जा फंसे हैं। इस विस्तार में मंत्री पद पाए नेताओं में दो कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए विधान परिषद सदस्य हैं तो एक विधान परिषद के वह सदस्य हैं जो 2018 का चुनाव हार गए थे। इन तीनों को मंत्री बनाए जाने से उन भाजपा विधायकों का पारा खासा गर्म बताया जा रहा है जिन्हें चुनाव जीतने के बाद भी मंत्री पद नहीं मिल पाया है। सबसे ज्यादा नाराजगी खांटी भाजपाईयों की 33 सदस्यीय मंत्रिमंडल में 12 पद कांग्रेस और जद(सेक्युलर) छोड़ कर आएं नेताओं को मंत्री बनाए जाने के चलते है। हालात इतने खराब हो चुके हैं कि अनुशासन की परवाह न करते हुए एक विधायक ने तो जल्द ही सरकार गिरने तक की बात कह डाली है। विजयपुरा सीट से भाजपा विधायक बलवराज पाटिल ने सीधे मुख्यमंत्री येदियुरप्पा और उनके बेटे विजेन्द्र पर भाजपा आलाकमान को ब्लैकमेल करने तक का आरोप मढ़ डाला है। पार्टी में तेजी से फैल रही बगावत चलते मुख्यमंत्री येदियुरप्पा नए मंत्रियों को विभाग तक नहीं आवंटित कर पा रहे हैं। बैंगलुरु के सत्ता गलियारों में चर्चा गर्म है कि 10 से 12 भाजपा विधायक येदियुरप्पा को सबक सिखाने के लिए पार्टी छोड़ने की हद तक जाने को तैयार हो चुके है। अब सबकी निगाहें केंन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर टिकी हैं जो 16 और 17 जनवरी को दो दिवसीय कर्नाटक दौरे पर रहनें वाले हैं। येदियुरप्पा समर्थकों का मानना है कि शाह से बात करने के बाद सभी बागी विधायक लाईन पर आ जाऐंगे।

You may also like

MERA DDDD DDD DD