[gtranslate]

बिहार की सियासत में पिछले दिनों जो कुछ घटा वह किसी से छिपा नहीं है। इस पूरे घटनाक्रम के बाद इस बात के कयास लगाए जाने लगे हैं कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार अब पीएम बनने का सपना देख रहे हैं। ऐसे में वह राज्य की सियासत को आरजेडी नेता तेजस्वी यादव के हवाले करने को तैयार हैं। राजनीतिक जानकार सवाल उठा रहे हैं कि क्या तेजस्वी यादव को नीतीश कुमार ने अपना राजनीतिक उतराधिकारी घोषित कर दिया है? राजनीतिक गलियारों में ये अटकलें तभी से जोर पकड़ रही हैं, जब से महागठबंधन सरकार बनी है। लेकिन नालंदा में एक दंत (डेंटल) मेडिकल कॉलेज के उद्घाटन के बाद भाषण में नीतीश कुमार ने दो बार तेजस्वी के संबंध में जैसे बोला उससे ये अटकलें और तेज हो गई हैं कि इशारों-इशारों में नीतीश ने तेजस्वी को अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया है। दरअसल, अपने भाषण में नीतीश कुमार ने राज्य के भविष्य की ओर इशारा करते हुए कहा कि आगे भी जो कुछ काम होगा उसे तेजस्वी यादव पूरा करते रहेंगे और करवाते भी रहेंगे और किसी तरह की दिक्कत नहीं आएगी। वहीं जो लोग आपस में झंझट कराना चाहे तो मत करना, जब कोई आपस में विवाद कराने की कोशिश करें तो उससे भी बचिएगा, सबको मिलकर एक साथ काम करना है और एकजुटता दिखानी है। इस बयान से उनके पीएम और तेजस्वी के मुख्यमंत्री बनने की बात कही जा रही है। नीतीश कुमार ने भागनबिगहा में कहा कि तेजस्वी यादव को आगे बढ़ा रहे हैं, इनके लिए अभी जितना करना था, वह तो कर दिया हूं इनको अभी और आगे बढ़ाना है। साथ ही कहा कि जब तेजस्वी मेरे कार्यों को आगे बढ़ाएंगे तब वह और सक्रिय हो जाएंगे।

 

You may also like

MERA DDDD DDD DD