पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह को लेकर नाना प्रकार की अफवाहों का बाजार इन दिनों गर्म है। दरअसल पिछले कुछ अर्से से आलाकमान और अमरिंदर के बीच मतभेद की खबरों को तब बल मिलता दिखा जब पार्टी के बड़े कार्यक्रमों में वे नदारद दिखे। राजघाट में हुए धरने में सोनिया और राहुल-प्रियंका के संग सभी बड़े कांग्रेसी नेता शामिल हुए। कांग्रेस के मुख्यमंत्रियों में अशोक गहलोत, भूपेश बघेल, कमलनाथ नजर आए, लेकिन अमरिंदर ने इस बड़े कार्यक्रम से दूरी बनाए रखी। खबर है कि अमरिंदर सिंह पर पार्टी आलाकमान का नवजोत सिंह सिद्धू को उपमुख्यमंत्री बनाए जाने का भारी दबाव है। अमरिंदर लेकिन किसी भी सूरतेहाल में सिद्धू की अपने मंत्रिमंडल में वापसी के लिए तैयार नहीं। यही कारण है कि पार्टी के कार्यक्रमों में वे खराब स्वस्थ्य का बहाना लगा दूर रह रहे हैं। खबर यह भी है कि अमरिंदर खेमा पार्टी नेतृत्व को यह संकेत दे चुका है कि यदि सिद्धू को लेकर ज्यादा दबाव बनाया गया तो अमरिंदर पार्टी छोड़ सकते हैं।

You may also like