बॉलीवुड अभिनेता सन्नी देओल को राजनीति में कदम रखने के साथ ही नाना प्रकार की मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है। चुनाव आयोग द्वारा तय चुनाव खर्च की सीमा का उल्लंघन करने के चलते उन पर चुनाव आयोग की तलवार लटक रही है। जिला निर्वाचन अधिकारी गुरुदासपुर को सौंपी अपनी रिपोर्ट में तय सीमा से आठ लाख अधिक खर्च का ब्यौरा सौंपा है। राज्य निर्वाचन आयोग इस पर अपनी टिप्पणी के साथ केंद्रीय चुनाव आयोग को रिपोर्ट भेजेगा। यदि केंद्रीय आयोग इस रिपोर्ट को स्वीकारता है तो नियमानुसार सन्नी देओल अयोग्य घोषित हो जायेंगे। ऐसे में उन्हें उपचुनाव के जरिए दोबारा संसद में जाने का मार्ग चुनना होगा। इस बीच गुरुदासपुर से गायब सन्नी द्वारा जनता के बीच अपना एक प्रतिनिधि नामित करना भी उनकी आलोचना का कारण बना है। दरअसल सन्नी मुंबई में रहकर अपने बेटे की पहली फिल्म को फाइनल रूप देने में जुटे हैं, ऐसे में गुरुदासपुर की जनता के लिए उनके पास वक्त की भारी कमी है।

You may also like