[gtranslate]
Sargosian / Chuckles

तो क्या गडकरी, योगी से नाराज हैं पीएम

राजनीति में हरेक संदेश के पीछे कई संदेश छिपे होते हैं। छोटी से छोटी बात के कई अर्थ यहां निकाले जाते हैं। पांच जून को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का जन्मदिन था।

 

उन्हें सुबह से ही बधाई के संदेश भेजे जा रहे थे। सोशल मीडिया में तो उन्हें मुबारकबाद देने वालों का तांता लगा हुआ था लेकिन सबकी निगाहें एक ऐसे व्यक्ति के संदेश पर टिकी थी जो आया ही नहीं। फिर क्या था? कयासबाजियों का बाजार गर्म हो चला। यह संदेश जो नहीं आया वह पीएम मोदी का आना था। मोदी हरेक बड़े-छोटे नेता को बधाई देने वालों में सबसे पहले रहते हैं। उनका ट्वीट सबसे पहले आता है। योगी को लेकिन ऐसा कोई ट्वीट पीएम की तरफ से नहीं आया। पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृहमंत्री अमित शाह ने भी ट्वीट के जरिए योगी को बधाई नहीं भेजी। हालांकि शाम होते-होते भाजपा की तरफ से स्पष्टीकरण आ गया कि कोराना संक्रमण की दूसरी लहर से व्यथित पीएम मोदी किसी को भी जन्मदिन की बधाई नहीं दे रहे हैं। सच यह कि पीएम बधाई सरीखे संदेश अन्य मामलों में लगातार दे रहे हैं।

पांच राज्यों के चुनाव नतीजों बाद उन्होंने ममता बनर्जी समेत हरेक राज्य के विजयी नेताओं को बधाई ट्वीट भेजा। और फिर पीएम की बात मान भी ली जाए तो शाह-नड्डा की योगी को लेकर खामोशी का क्या अर्थ निकाला जाए? ये दोनों ही नेता लगातार जन्मदिन पर बधाई ट्वीट इन दिनों भी भेज रहे हैं। 18 मई को केंद्रीय मंत्री थावरचंद्र गहलोत का जन्मदिन था। अमित शाह ने बकायदा ट्वीट कर उन्हें बधाई दी थी। हालांकि 27 मई को गडकरी के जन्मदिन पर मोदी-शाह का कोई ट्वीट नहीं आया था लेकिन नड्डा ने तब गडकरी को बजरिए ट्वीट बधाई दी थी। पार्टी सूत्रों की मानें तो भाजपा आलाकमान की गडकरी-योगी संग खास पटरी खाती नहीं। गडकरी अपने मंत्रालय में पीएम और उनके नौकरशाहों की नहीं चलने देते हैं तो योगी उत्तर प्रदेश में अपने मन की करते हैं। इसलिए एक मामूली ट्वीट के न आने पर नाना प्रकार की चर्चाओं ने जन्म तो लेना ही था।

You may also like

MERA DDDD DDD DD