उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने पिछले दिनों मुख्यमंत्री के जनता दरबार में एक महिला शिक्षिका संग हुए बर्ताव पर सोशल मीडिया के जरिए सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत पर तीखे प्रहार किए थे। हरीश रावत वन मैन आर्मी बन सत्तारूढ़ भाजपा सरकार को चौतरफा घेरने में इन दिनों जुटे रहते हैं। दूसरी तरफ वे आम-ककड़ी पार्टी के बहाने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत संग अपने प्रगाढ़ संबंधों का प्रदर्शन भी करने से नहीं चूकते। पिछले दिनों हरीश रावत द्वारा आयोजित इस पार्टी में शामिल हो सीएम ने सभी को चकित कर डाला। सोशल मीडिया में वाइरल इस पार्टी के वीडियो में दोनों नेता एक-दूसरे की कंपनी का भरपूर आनंद लेते दिखाई दे रहे हैं। खास बात यह कि इस पार्टी से कांग्रेस के दिगगज नेताओं ने दूरी बनाए रखी। सोशल मीडिया में हरीश रावत की इस पार्टी को लेकर भारी घमासान मचा है। एक बड़े वर्ग का मानना है कि शिक्षिका उत्तरा बहुगुणा एपिसोड और पौड़ी में हुई भीषण बस दुर्घटना के तुरंत बाद इस प्रकार की पार्टी का आयोजन राजनेताओं की संवेदनहीनता का परिचायक है। साथ ही इस बात पर भी चुटकी ली जा रही है कि पूर्व और वर्तमान मुख्यमंत्री की निकटता के पीछे दोनों का जात भाई होना एक प्रमुख कारण है।

You may also like