[gtranslate]
Sargosian / Chuckles

प्रकाश अध्यक्ष, रावत सीएम फेस

उत्तराखण्ड में भी चुनावी माहौल गरमाने लगा है। राज्य में 2022 के शुरुआती महीनों में चुनाव प्रस्तावित हैं। ऐसे में भाजपा, कांग्रेस और आप ने अपनी सक्रियता तेज कर दी है। प्रदेश भाजपा का एक धड़ा जहां चुनाव से ठीक पहले राज्य सरकार में नेतृत्व परिवर्तन के लिए जमकर प्रयास कर रहा है तो विपक्षी कांग्रेस में भी प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह को हटाए जाने के प्रयास तेजी पकड़ने लगे हैं। पार्टी सूत्रों का कहना है कि कभी राहुल गांधी की पसंद रहे प्रीतम सिंह अब पार्टी आलाकमान का विश्वास खो चुके हैं। इन सूत्रों की मानें तो प्रीतम सिंह का कद पार्टी आलाकमान की नजरों में बढ़ाने का काम राहुल गांधी की कोर टीम के सदस्य प्रकाश जोशी ने किया था। अब लेकिन प्रीतम-प्रकाश की जोड़ी टूट चुकी है। प्रकाश जोशी समर्थक इसके लिए प्रदेश अध्यक्ष को दोष देते घूम रहे हैं। कारण है प्रीतम सिंह की नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश पर अत्यधिक आत्मनिर्भरता। प्रकाश जोशी को भारी मलाल है कि प्रदेश संगठन में उनके समर्थकों को प्रीतम सिंह ने हाशिए में डाल दिया है। जोशी के करीबी एक नेता का कहना है कि ऐसा नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश के इशारे पर किया गया। जले पर नमक छिड़कने का काम प्रकाश के धुर विरोधी नेता महेश शर्मा की पार्टी में एंट्री कराकर किया गया है। शर्मा इन दिनों हृदयेश के बेहद करीबी बताए जा रहे हैं। ऐसे में जोशी समर्थकों का दावा है कि राहुल गांधी के निर्देश पर प्रकाश जोशी प्रदेश की राजनीति में अपनी पकड़ मजबूत करने में जुट गए हैं। दिल्ली की राजनीति से विदा लेकर प्रकाश उत्तराखण्ड में पूरी तरह सक्रिय हो चले हैं। जानकारों का यह भी दावा है कि जोशी को प्रीतम के स्थान पर चुनावों से ठीक पहले प्रदेश की कमान सौंपी जा सकती है। खबर है कि पूर्व सीएम हरीश रावत का पूरा समर्थन प्रकाश को मिल रहा है। खबर यह भी है कि बिहार चुनाव के बाद रावत और जोशी मिलकर अपना एनालिसिस राहुल गांधी को सौंपने जा रहे हैं। राहुल ने इस एनालिसिस को तवज्जो दी तो हरीश रावत 2022 के चुनाव में पार्टी का सीएम फेस होंगे और पार्टी की कमान जोशी के हाथों में रहेगी।

You may also like

MERA DDDD DDD DD