[gtranslate]
Sargosian / Chuckles

‘बंगाल में बंगाली’ का मास्टर स्ट्रोक

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी प्रदेश में भाजपा के बढ़ते प्रभाव को अब ‘बंगाल में बंगाली का राज’ के जरिए रोकने में जुट गई है। विगत् लोकसभा चुनाव में भाजपा को 18 सीटें मिली थीं और तृणमूल कांग्रेस 12 सीटों से हाथ धो बैठी थी। उसे मात्र 22 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। ममता बनर्जी के लिए भाजपा का 18 सीटें जीतना एक बड़े खतरे की घंटी समान है। अगले वर्ष अप्रैल में राज्य के विधानसभा चुनाव होंगे। यानी ममता सरकार अब अपने इस टर्म के अंतिम चरण में प्रवेश कर चुकी हैं। ऐसे में भाजपा को मात देने की नीयत से अब ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के गुजराती मूल को टारगेट में रख एक नई बहस छेड़ दी है। बनर्जी ने बंगाल में ‘बंगालियों का राज’ की बात कह राज्य की जनता को स्पष्ट इशारा कर दिया है कि यदि भाजपा की सरकार बनेगी तो प्रदेश का राजकाज दिल्ली से चलने लगेगा। ममता ने खुलकर कह डाला है कि दो गुजराती बंगाल पर कब्जा करना चाह रहे हैं। दरअसल, बंगाल भाजपा के पास ममता समान कोई कद्दावर चेहरा नहीं है। ऐसे में चुनाव मोदी के नाम पर ही लड़ना पार्टी की मजबूरी है। ममता भाजपा की इस मजबूरी को भलीभांति समझ रही हैं। यही कारण है कि उन्होंने अपनी संस्कृति और भाषा पर गर्व करने वाले बंगाली समाज की अस्मिता को झकझोरने का मास्टर स्ट्रोक खेल दिया है। अब देखना यह है कि चुनाव यह स्ट्रोक कितना कामगार होता है और भाजपा इसकी काट कैसे कर पाती है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD