Sargosian / Chuckles

मोदी के नक्शे कदम पर फडणवीस

महाराष्ट्र के सीएम देवेन्द्र फडणवीस इस समय फुल फॉर्म में बैटिंग करते नजर आ रहे हैं। राज्य के सभी पुराने दिग्गज भाजपाई हाशिए में डाल दिए गए हैं और सरकार के साथ-साथ पार्टी संगठन पर भी पूरी तरह फडणवीस काबिज हो चुके हैं। जब पांच बरस पूर्व भाजपा महाराष्ट्र में सरकार बनाने की तैयारी कर रही थी तब फडणवीस के साथ-साथ सीएम पद की दावेदारी ठोकने वालों की लंबी लिस्ट थी। पंकजा मुंडे और सुधीर मुनगंटीवार रेस में शामिल थे। एकनाथ खड़से जो राज्य विधानसभा में नेता विपक्ष थे, सीएम पद की दौड़ में सबसे आगे माने जा रहे थे। बाजी लेकिन मोदी-शाह के करीबी फडणवीस के हाथ लगी। अपने नेता के पदचिन्हों पर चल फडणवीस ने न केवल सभी मंत्रालयों पर सीधी पकड़ बनाई बल्कि पंकजा मुंडे और एकनाथ खड़से जैसे असंतुष्टों को भी साइड लाइन कर डाला। फडणवीस का जलवा इस माह होने जा रहे विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा उम्मीदवारों की चयन प्रक्रिया में साफ झलकता है। खड़से बेचारे खुद का टिकट भी न पा सके। 14 सिटिंग एमएलए चुनाव मैदान से पार्टी ने बाहर कर दिए हैं। इनमें ज्यादातर वे विधायक शामिल हैं जिन्हें फडणवीस विरोधी माना जाता रहा है। स्मरण रहे गुजरात का सीएम बनने के बाद नरेंद्र मोदी ने भी एक-एक कर सभी दिग्गज भाजपाइयों को ठिकाने लगाने का काम किया था। मोदी के निशाने पर पूर्व सीएम सुरेश मेहता, हरेन पान्डया, काशीराम राणा आदि रहे थे। अब यही फॉर्मूला देवेंद्र फडणवीस महाराष्ट्र में लागू कर अपनी अगली पार्टी की तैयारी में जुट गए हैं।

You may also like