[gtranslate]
Sargosian / Chuckles

‘भारत जोड़ो यात्रा’ पर लगेगा ग्रहण!

कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ अपने अंतिम चरण में है। लेकिन समापन से पहले यात्रा पर ग्रहण लगता दिख रहा है। यह संयोग है कि उनकी यात्रा दिल्ली पहुंचे उससे पहले एक बार फिर कोरोना का संकट खड़ा हो गया है। हालांकि भारत में अभी कोरोना के मामले नहीं बढ़ रहे हैं लेकिन चीन सहित दुनिया के कई देशों में कोरोना तेजी से अपने पैर पसारने लगे हैं। इसका एक नया वैरिएंट आया है, जो बेहद घातक और संक्रामक बताया जा रहा है। कोरोना का यह संकट अपनी जगह है लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि केंद्र सरकार इस आपदा को अवसर में बदल कर कांग्रेस की यात्रा बाधित कर सकती है। दरअसल यह अनायास नहीं था कि जैसे ही दुनिया में कोरोना के मामले बढ़ने की खबर आई वैसे ही केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया ने राहुल गांधी को चिट्ठी लिख दी और कोरोना के ऐसे प्रोटोकॉल का पालन करने को कह डाला।साथ ही उन्होंने राहुल को उनकी जिम्मेदारी का अहसास भी दिलाया। इसके बाद के घटनाक्रम को देख चर्चा है कि यह मामला तूल पकड़ेगा। कांग्रेस ने कह दिया है कि सरकार प्रोटोकॉल लागू करे तो कांग्रेस उसका पालन करेगी। लेकिन अगर मीडिया में कोरोना के संकट का हल्ला मचा रहता है और कांग्रेस की यात्रा पर सवाल उठते हैं तो प्रोटोकॉल लागू होने से पहले ही कांग्रेस को इस बारे में विचार करना होगा। गौरतलब है कि भारत में चीन के वैरिएंट बीएफ-7 के मरीज मिल चुके हैं। राहुल की यात्रा में शामिल हुए हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। केंद्र सरकार ने राज्यों को चिट्ठी लिख कर सारे पॉजिटिव सैंपल का जीनोम सिक्वेसिंग कराने को कहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने वरिष्ठ अधिकारियों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों के साथ बैठक की, जिसमें लोगों से मास्क लगाने की अपील की गई है। साथ ही हवाई अड्डों पर रैंडम टेस्टिंग का फैसला हुआ। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना की समीक्षा बैठक की। इस तरह पिछली बार के मुकाबले इस बार केंद्र सरकार ज्यादा फुर्ती दिखा रही है और संक्रमण फैलने से पहले उसे नियंत्रित करने के उपाय कर रही है। ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि इससे कांग्रेस के ऊपर दबाव बढ़ेगा। दरअसल कांग्रेस की यात्रा ब्रेक लेने वाली है। क्रिसमस यानी 25 दिसंबर से 2 जनवरी तक यात्रा स्थगित रहेगी। लेकिन अगर इन 10 दिनों में देश में कोरोना के मामले बढ़ते हैं और सरकार कुछ और प्रोटोकॉल लागू करती है तो क्या होगा? राजनीतिक रैलियों और यात्राओं पर पूरी पाबंदी नहीं भी हो तो उसके लिए दिशा-निर्देश जारी हो सकते हैं, जिससे यात्रियों की संख्या बहुत सीमित हो सकती है। अगर ऐसा होता है तो यात्रा के चरम पर पहुंचने यानी श्रीनगर पहुंचने के समय कांग्रेस जो माहौल बनाना चाह रही है वह नहीं बन पाएगा।

You may also like

MERA DDDD DDD DD