[gtranslate]
भारतीय जनता पार्टी ने 2019 के आम चुनाव की तैयारियां एक बरस पूर्व से ही शुरू कर डाली थी। चाहे चुनाव में बूथ स्तर तक कार्यकर्ताओं की तैनाती का मसला हो या फिर स्टार प्रचारकों के लिए हेलीकाप्टर सेवाओं का, भाजपा का मैनेजमेंट बेहद सधा और सजग है। पार्टी ने देश के लगभग सभी प्रायवेट हवाई सेवा कंपनियों संग अरसा पहले ही करार कर उनके हेलीकॉप्टर बुक करा डाले थे। कांग्रेस समेत बाकी पार्टियां जब तक चेती मामला बिगड़ चुका था। अब चुनावी समर के दौरान इन पार्टियों के स्टार प्रचारकों को अपने लिए हेलीकाप्टर की व्यवस्था करनी भारी पड़ रही है। सुरक्षा नियमों के तहत दो इंजन वाले हेलीकॉप्टर मुख्यमंत्री के लिए जरूरी हैं। ऐसे में अशोक गहलोत, अमरिंदर सिंह समेत सभी बड़े कांग्रेसी परेशान हैं। उन्हें दो इंजन वाले तो दूर एक इंजन वाला हेलीकाप्टर भी नहीं मिल पा रहा है जिसका दुष्प्रभाव चुनाव प्रचार में देखने को मिल रहा है। पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी का हाल सबसे बेहाल है। बमुश्किल एक पुराना हेलीकाप्टर चुनाव प्रचार के लिए तृणमूल कांग्रेस के हाथ लगा जो गत् सप्ताह जलपाईगुड़ी में खराब हो गया। ममता का पारा सातवें आसमान पर पहुंचता देख उनके कार्यकर्ता हेलीकाप्टर को धक्का मार चलाने का प्रयास करते नजर आए। खबर है कि ममता ने अब तेलगुदेशम के चन्द्रबाबू नायडू से उनका हेलीकॉप्टर मांगा है ताकि वे अपने प्रत्याशियों का प्रचार कर सकें। दूसरी तरफ भाजपा के सभी स्टार प्रचारक मौज में हैं। उनके लिए ऐसी कोई समस्या पार्टी नेतृत्व की दूरदर्शिता के चलते नहीं आ रही है।

You may also like