[gtranslate]

राजस्थान में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीति गरमा गई है। प्रदेश के प्रमुख दल कांग्रेस और भाजपा के बड़े नेता चुनाव प्रचार में लगे हुए हैं, लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की अभी ज्यादा सक्रियता नजर नहीं आ रही है। राजे अभी भाजपा की परिवर्तन यात्रा से भी नदारद रहीं। वसुंधरा राजे की भूमिका पर अभी सस्पेंस बना हुआ है। वहीं पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे कहां है इस सवाल का जवाब किसी के पास नहीं है। भाजपा ने पूर्व सीएम राजे को चुनाव से दूर कर रखा है या वह खुद ही चुनाव से दूर हैं। इस संबंध में कई प्रकार के कयास लगाए जा रहे हैं कि क्या वसुंधरा राजे पार्टी से नाराज है? राजस्थान में चुनाव प्रबंधन समिति के मुखिया नारायण पंचारिया ने राजे की सक्रियता को लेकर कहा कि वसुंधरा भी राष्ट्रीय स्तर की नेता हैं और बड़े चुनाव प्रचार में आएंगी। माना जा रहा है कि वसुंधरा राजे टिकटों की सूची देखकर किसी प्रकार का फैसला ले सकती हैं। राजनीतिक पंडितों का कहना है कि पूर्व सीएम वसुंधरा राजे हथियार डालने के लिए तैयार नहीं है। राजे को लेकर बीजेपी आलाकमान पशोपेश में है। बगावत के डर से ही बीजेपी ने किसी स्थानीय नेता को आगे नहीं किया है। माना जा रहा है कि बीजेपी सत्ता में आती है तो वसुंधरा राजे की नाराजगी बीजेपी को वैसी ही भारी पड़ सकती है, जैसे कांग्रेस को सचिन पायलट की पड़ी थी। वसुंधरा राजे ने धार्मिक यात्राओं के जरिए इशारों में इसके संकेत भी दे दिए हैं। आगामी दिनों में वसुंधरा राजे का नया रूप देखने को मिल सकता है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD