Positive news

प्रतिभाओं को तराश रही हैं डीएम

सीमांत चमोली जिले की डीएम स्वाति एस. भदौरिया ने युवाओं को प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए तैयार करने की अच्छी बात की है। निःशुल्क प्रेरणा सेंटर खोलकर वे प्रतिभाओं को प्रशिक्षण दे रही हैं। इसके उत्साहजनक नतीजे आने लगे हैं। कुछ महीने के भीतर ही 10 युवक -युवतियों ने प्रतियोगिता परीक्षाओं में सफलता हासिल की है

 

सीमांत चमोली जिले में जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने युवा प्रतिभाओं के लिए निःशुल्क कोचिंग सेंटर शुरू किया है। जिलाधिकारी की इस अभिनव पहल की हर कोई प्रशंसा कर रहा है। इस कोचिंग सेंटर से अब तक 10 छात्र-छात्राओं को विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओं में सफला मिली है।

जिले में युवाओं के लिए सिविल सर्विस व अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए कोचिंग सेंटर न होने के चलते उन्हें देहरादून व अन्य प्रदेशों के लिए रुख करना पड़ता है। पलायन की समस्या अलग से है। इसे देखते हुए जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय गोपेश्वर में सिविल सर्विस के साथ ही अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए निःशुल्क प्ररेणा कोचिंग सेंटर शुरू किया। कुछ महीने पहले शुरू किए गए इस सेंटर का लाभ बच्चों को मिल रहा है। पहले बैच की कोचिंग पूरी हो चुकी है। अब दूसरे बैच की कोचिंग के लिए 304 युवाओं ने टेस्ट दिया था जिसमें 100 युवाओं का दूसरे बैच में कोचिंग के लिए चयन हुआ है। जिलाधिकारी ने कोचिंग के लिए प्रवेश परीक्षा पास करने वाले युवाओं को आत्म विश्वास व पूरी लगन के साथ तैयारी करने को कहा है। उन्होंने कहा कि सफलता के लिए एकाग्रता और परिश्रम बहुत जरूरी है। किसी भी प्रतियोगिता परीक्षा को पास करने के लिए सही दिशा में सही विषयों को पढ़ना जरूरी है। उन्होंने कहा कि अपने लक्ष्य को स्मरण रखते हुए ही प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करें।


जिलाधिकारी ने कहा कि सीमांत जिलों में प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए कोचिंग जैसी सुविधा न होने के कारण यहां रह रहे मेधावी युवाआें को आगे आने के कम अवसर मिल पाते हैं। बच्चों के लिए दिल्ली से भी एक अच्छे कोचिंग टीचर की व्यवस्था की जाएगी। जिले में कार्यरत आईएएस व पीसीएस अधिकारियों के माध्यम से भी समय-समय पर प्रेरणा लेक्चर दिए जाएंगे। उन्होंने कोचिंग के लिए प्रवेश परीक्षा में सफल सभी युवाओं को उनके अच्छे भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी। कोचिंग कक्षाओं में अनुशासन के साथ पढ़ने और पढ़ाने के निर्दिश दिए। साथ ही हिदायत दी की कोचिंग कक्षा में अनुपस्थित न रहें। जो युवा पांच दिन तक अनुपस्थिति पाया गया, उसे हटाकर उसके स्थान पर दूसरे को मौका दिया जाएगा।

प्रेरणा कोचिंग सेंटर से कोचिंग ले चुके पहले बैच के 100 युवाओं में से 10 युवा विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओं में सफल हो चुके हैं। इनमें हिमांशु थपलियाल ने नेट, अंकित राणा ने एफसीआई, अंकित कुमार कोहली ने आईबीपीएस बैंक पीओ, सुनीता व कुसुम लता ने यूटीईटी परीक्षा में सफला हासिल की। जबकि मनीष बिष्ट ने एयरमैन, राकेश पुरोहित ने नेट संस्कृत, जयदीप सिंह नेगी ने पीजीटी जवाहर नवोदय विद्यालय गैरसैंण तथा महेश व सुनील कुमार प्रवक्ता के पदों पर चयन हुए। सीमांत की प्रतिभाओं के लिए चमोली डीएम द्वारा संचालित किया जा रहे निःशुल्क कोचिंग सेंटर की हर कोई प्रशंसा कर रहा है।

You may also like