[gtranslate]
Positive news Uttarakhand

कोरोना महामारी में योद्धा बना देवभूमि जनसेवा ग्रुप

प्रदेश में कोरोना महामारी के दौरान अनेक समाजसेवी संस्थाओं और संगठनां द्वारा कई तरह से राहत देने का काम कर रहे हैं। गरीब ओैर असहाय लोगों को खाद्यान्न का मामला हो या दवा आदी की जरूरत हो इसके लिए बहुत से संगठन अपना काम बेहतरी से कर रहे हैं। इन्हीं संगठनों के बीच ‘देवभूमि जनसेवा ग्रुप’ अपने आप में ही एक अलग तरह का संगठन बनकर उभरा है। प्रदेश के हर स्थानों के लिए सेवाभाव के लिए संगठन ने अपने-अपने ग्रुप से अनेक युवाओं और समाज सेवियों को जोड़ा हुआ है जिसके चलते यह ग्रुप सहायता देने के लिए हर संभव प्रयास करता रहा है।

मूलतः अल्मोड़ा जिले के रहने वाले राजेंद्र नेगी द्वारा अपनी कर्मभूमि देहरादून में ‘देवभूमि जनसेवा ग्रुप’ का गठन किया था। शुरुआती दौर में यह संगठन देहरादून नगर की कई समस्याओं को दूर करने में सफल रहा। कई ऐसे कार्य जिनको नगर निगम या प्रशासन की अनदेखी के चलते नागरिकों को समस्याएं आ रही थी उनके निराकरण के लिए ‘देवभूमि जनसेवा ग्रुप’ ने सबसे पहले एक पहल की और इसका बड़ा असर यह हुआ कि नगर निगम के अलावा जिला तहसील प्रशासन ने शिकायतों का निराकरण कर जनता को बड़ी राहत दी।

यही नहीं राजेंद्र नेगी ने अपने ‘देवभूमि जनसेवा ग्रुप’ के चलते भ्रष्टाचार और अनियमितताओं को उजागर करने और उसके निराकरण के लिए बेहतर काम किए। कई ऐसे बड़े मामले सामने आए जिनमें भारी अनियमितताएं बरती गई। जैसे सड़कों के निर्माण, नगर में बिजली के पोल या गिरासु औेर खतरनाक हो चुके पेड़ों को हटवाने के लिए ‘देवभूमि जनसेवा ग्रुप’ ने बेहतर काम किए।

स्मार्ट सिटी के नाम पर निर्माण कार्यों में भ्रष्टाचार और अनियमिताओं को आरटीआई के जरिए जानकारी हासिल कर शासन-प्रशासन तक मामले को पंहुचाने का काम किया। कई मामलों मे कार्यवाही करवाने में भी यह ग्रुप कामयाब रहा। ‘दि संडे पोस्ट’ ने देहरादून नगर में निर्माणाधीन नगर सैंदर्यीकरण योजना में भी अनियमिताओं खुलासा किया गया था जिसके प्रमाण भी ‘देवभूमि जनसेवा ग्रुप’ के राजेंद्र नेगी द्वारा ‘दि संडे पोस्ट’ को उपलबध करवाए गए थे। यही नहीं समय-समय पर शासन-प्रशासन से जारी किए गए आदेशों की अवहेलना के मामले तक इस ग्रुप द्वारा उजागर किए जाते रहे हैं।

हालांकि इसके लिए राजेंद्र नेगी को कई बार परेशानियां भी उठानी पड़ी है। आरटीआई और अपीलों में खर्च की कमी से भी जूझना पड़ा है। लेकिन अपनी ही धुन में लगे रहने के चलते नेगी सफल होते रहे हैं। कई ऐसे मामले जिनमें मानव अधिकारों तक का उल्लंघन किया गया। मानवाधिकार आयोग में शिकायत कर उनका निराकरण करने में भी नेगी पीछे नहीं रहे।

अपनी इस जनसेवा के चलते नेगी का ‘देवभूमि जनसेवा ग्रुप’ आज कई युवाओं के जुड़ने से एक बड़ा ग्रुप बन चुका है। अपने व्हाट्सएप ग्रुप से राजेंद्र नेगी द्वारा प्रदेश के कई जिलों-तहसीलों के युवाओं को अपने साथ जोड़कर एक बड़ी लंबी चैन बना कर आज कोरोना महामारी के दौरान हर किसी की सहायता करने में सफल हो रहे हैं।
‘देवभूमि जनसेवा ग्रुप’ की लोकप्रियता को इस बात से समझा जा सकता है कि कोरोना महामारी के दौरान जब राज्य सरकार नागरिकों के सहायता के लिए टेलीफोन नंबर दिए हैं लेकिन अपनी समस्याओं के लिए नागरिक ‘देवभूमि जनसेवा ग्रुप’ को ही फोन करके अपनी समस्या बता रहे हैं। प्रवासी उत्तराखण्डियों को उत्तराखण्ड में वापस लाए जाने के निर्णय के बाद ग्रुप को हर दिन दर्जनों टेलीफोन आ रहे हैं और वे इसके लिए सहायता मागने की बात कर रहे हैं।

कोरोना महामारी में तकरीबन प्रदेश के हर जिलों, स्थानों में ‘देवभूमि जनसेवा ग्रुप’ द्वारा जरूरतमंद को दवाई और राशन आदी मुहैया करवाए जाने का काम किया जा रहा है। आज भी ग्रुप में चाहे किसी भी जिले या स्थान का नागरिक हो वह ग्रुप में अपनी समस्या लिखकर भेज देता है और ग्रुप उसी जिले या स्थान में ग्रुप से जुड़े लोगों को उस समस्या को दूर करने के लिए काम करने लगता है। हैरानी की बात यह है कि समस्याओं का निराकरण भी आसानी से हो जाता है। यह अपने आप में बड़ी बात है।

राजेंद्र नेगी बताते हे कि ग्रुप में कोई भी आदमी जुड़ सकता है बशर्ते वह समाज की सेवा करना चाहता हो। कोरोना संकट के दौरान उनके ग्रुप के युवा हर जगह पर अपना काम कर रहे हैं। व्हाटसएप पर जैसे ही कोई व्यक्ति अपनी बात रखता है या कोई समस्या है या फिर उसे लॉकडाउन में किसी तरह की जरूरत है जेसे राशन दवा आदी तो हमारे ग्रुप के लोग उसकी सहायता करते हैं। इसके लिए किसी तरह का शुल्क नहीं लिया जाता। ग्रुप के ही लोग अपनी जेब से खर्च करते हैं, अगर खर्च ज्याद है तो कई समाजसेवी दानदाता हैं जो ग्रुप की सहायता कर देते हैं। हम अपने आप कोई न तो खरीद करते हैं और न ही किसी से पैसा लेते हैं। जो आदमी किसी की मदद करना चाहता है उसे उसका पता दे देते हैं जिससे उसकी मदद हो जाती है।

वास्तव में राजेंद्र नगी द्वारा स्थापित किया गया देवभूमि जनसेवा ग्रुप आप देहादून ही नहीं उत्तराखण्ड का एक बड़ा ग्रुप बन चुका है। कोरोना महामारी के दौरान इस ग्रुप द्वारा किए गए कार्यों के चलते इतना तो कहा जा सकता है कि ‘देवभूमि जनसेवा ग्रुप’ अपने आप में एक अलग तरह का ऐसा ग्रुप बनकर उभरा है जो हर वक्त समाज सेवा का काम कर रहा है और इसके लिए किसी जिले या स्थान की अनिवार्यता नहीं रह गई है।

You may also like