Positive news

लाल चुनरी में विदा हुई बेटियां

गरीब बेटियों के सामूहिक विवाह समारोह आयोजित कर श्रीश्री बालाजी सेवा समिति दहेज प्रथा के खिलाफ एक अनूठा अमिभयान चलाए हुए है

 

आज के समय में जहां एक ओर दहेज प्रथा विकराल सामाजिक बुराई का रूप ले चुकी हैं, वहीं कुछ ऐसी संस्थाएं भी हैं जो इसे चुनौती देते हुए गरीब लड़कियों का सामूहिक विवाह कराती हैं। श्री श्री बालाजी सेवा समिति एक ऐसी ही संस्था है। समिति की ओर से पिछले कई वर्षों से शुरू की गई अनूठी पहल के तहत निर्धन कन्याओं के सामूहिक विवाह समारोह आयोजित किए जाते हैं। हाल में ही देहरादून में भी हिन्दू वैदिक रीति रिवाज से 31 निर्धन कन्याओं का सामूहिक विवाह कराया गया। खुशियां के आंसू और लाल चुनरिया ओढ़े 31 बेटियों को विदा किया गया। रविवार 30 जून की सुबह दर्शनलाल चौक स्थित पंचायती मंदिर से जब 31 दूल्हों की एक साथ बारात निकली तो सब देखते रह गए। एक के बाद एक दूसरा दूल्हा कतार में देख लोग रास्ते में खड़े होकर बारात का आनंद उठाने लगे और जब तक बारात उनकी आंखों से दूर न हुई तब तक दूल्हों को देखते रहे।

घोसी गली स्थित पंचायती मंदिर से पल्टन बाजार, धामावाला बाजार, सहारनपुर चौक, पटेलनगर होते हुए बारात कारगी रोड़ स्थित वेडिंग प्वाइंट पहुंची जहां समिति के पदाधिकारियों, बेटियों के परिजनों और मेहमानों ने बारातियों की जोरदार अगवानी की तथा वैवाहिक आयोजनों की रस्में पूरी की। विवाह कार्यक्रम में समिति के सेवादारों के अलावा समाज के हर तबके के लोगों ने पूरे मनोयोग से विवाह स्थल पर पहुंचे बारातियों और मेहमानों की सेवा की। समिति द्वारा दूल्हों की जरूरतों और बारातियों की आवभगत का पूरा ध्यान रखा गया। बारात पहुंचने के बाद विवाह स्थल पर वरमाला से लेकर फेरों तक पंडाल गढ़वाली मांगल गीतों से गुंजायमान रहा। बालाजी सेवा समिति के मीडिया प्रभारी मनमोहन लखेड़ा के मुताबिक वर-वधुओं को आशीर्वाद देने के लिए विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचन्द अग्रवाल, देहरादून के मेयर सुनील उनियाल गामा, विधायक गणेश जोशी, भाजपा नेता नरेश बंसल, रविन्द्र कटारिया एवं बाज क्षेत्र से भाजपा की क्षेत्रीय सह संयोजक नीतू चौधरी सहित तमाम सामाजिक-धार्मिक संगठनों से जुड़े लोग उपस्थित रहे। वहीं समिति की ओर से संरक्षक आरके गुप्ता, श्रवण वर्मा, कुलभूषण अग्रवाल, समिति के अध्यक्ष अखिलेश अग्रवाल, सचिव मनोज खण्डेलवाल के अलावा ओपी गुप्ता, चंद्रेश अरोड़ा, उमाशंकर रघुवंशी, मनमोहन लखेड़ा, संजय शर्मा, विजय बिष्ट, पंकज चांदना, देवेन्द्र साहनी, राजेश चौरसिया, दीपक अग्रवाल, अन्य पदाधिकारी व सैकड़ों सेवादार उपस्थित रहे। बनारस से आये यूके सिंह ने पानी, फ्रूटी और जलजीरे से जहां बारातियों की प्यास बुझायी वहीं आगरा से आये विक्रम अरोड़ा, कार्तिकजी और उनके पूरे परिवार ने तमाम अतिथियों को बारात विदा होने तक आगरा के मीठे पैठे से मुंह मिष्ठान कराया।शाम करीब साढ़े छह बजे समिति ने घर-गृहस्थी के तमाम साजो-सामान के साथ कन्याओं को भावभीनी विदाई दी। इससे पहले समिति के अध्यक्ष ने कहा कि ‘कन्यादान महादान’ है यह कार्य सभी के सहयोग से पूरा हो सका है। इसके लिए समिति तमाम दानदाताओं और सहयोगकर्ताओं का हृदय से आभार व्यक्त करती है।

You may also like