Latest news Positive news

स्वच्छ सर्वेक्षण 2020, इंदौर शहर ने चौथी बार मारी बाजी 

स्वच्छ सर्वेक्षण 2020, इंदौर शहर ने चौथी बार मारी बाजी 

देश भर में ‘स्वच्छ सर्वेक्षण 2020’ चार जनवरी से शुरू हो चुका है जो 31 जनवरी तक चलेगा। इंदौर ने इससे पहले ही सफाई के इस सालाना मुकाबले में बढ़त बना ली है।

मध्यप्रदेश का यह सबसे बड़ा शहर इस सर्वेक्षण की दो आरंभिक लीगों की रैंकिंग में देश भर में अव्वल रहा है। आवास और शहरी मामलों के केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने दो स्वच्छ सर्वेक्षण लीगों (अप्रैल से जून और जुलाई से सितंबर) के ये तिमाही आधारित नतीजे 31 दिसंबर को नयी दिल्ली में घोषित किए थे।

देश का सबसे स्वच्छ शहर इंदौर कूड़ा-कचरे के बेहतर इस्तेमाल से सालाना चार करोड़ रुपये की कमाई कर रहा है। यह जानकारी रविवार को एक अधिकारी ने दी।

मध्य प्रदेश का इंदौर पिछले तीन बार से देश का सबसे स्वच्छ शहर घोषित हो रहा है। चौथी बार भी यह खिताब हासिल करने के लिए जोर लगा रहे इंदौर में कचरा अब ‘कीमती’ चीज बन गया है।

इसके अलावा, नये निर्माण किए जाने और पुराने निर्माण ढहाए जाने के दौरान निकलने वाले मलबे से ईंटें, इंटरलॉकिंग टाइल्स और अन्य निर्माण सामग्री बनायी जा रही है। इन सभी उत्पादों की बिक्री से शहरी निकाय को कुल 2.5 करोड़ रुपये की सालाना कमाई हो रही है।

35 लाख की आबादी वाले इंदौर में हर रोज तकरीबन 1,200 टन कचरे का अलग-अलग तरीकों से सुरक्षित निपटारा किया जाता है। इसमें 550 टन गीला कचरा और 650 टन सूखा कचरा शामिल है।

 

 

You may also like