[gtranslate]
Country entertainment

नसीरुद्दीन शाह ने कहा ‘जोकर’ तो ‘नशेड़ी’ कहकर अनुपम खेर ने किया पलटवार

नसीरुद्दीन शाह ने कहा 'जोकर' तो 'नशेड़ी' कहकर अनुपम खेर ने किया पलटवार

नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) लागू होने से देशभर में प्रोटेस्ट चल रहा है। देश ही नहीं विदेशों में भी इसके खिलाफ धरना-प्रदर्शन चल रहे हैं। आम जनता से लेकर बॉलीवुड तक के कई नामी चेहरे खुलकर इस पर विरोध दर्ज कराया है। अब इस राजनीतिक मामले पर फ़िल्म अभिनेता नसीरुद्दीन शाह और अनुपम खेर के बीच जुबानी जंग शुरू हो गई है।

एक तरफ नसीरुद्दीन शाह ने अनुपम खेर को ‘चापलूस’ और ‘जोकर’ कह को संबोधित किया है वहीं अनुपम खेर में उन्हें ‘नशेड़ी’ कहकर पलट वार किया है। नसरुद्दीन शाह पर पलटवार करते हुए अनुपम खेर ने बुधवार शाम को एक वीडियो ट्वीट किया। वीडियो में उन्होंने लिखा कि जनाब नसीरुद्दीन शाह साहब के लिए मेरा प्यार भरा पैग़ाम! वो मुझसे बड़े हैं। उम्र में भी और तजुर्बे में भी। मैं हमेशा से उनकी कला की इज्जत करता आया हूं और करता रहूंगा। पर कभी-कभी कुछ बातों का दो टूक जवाब देना जरूरी होता है। ये है मेरा जवाब।”

https://twitter.com/AnupamPKher/status/1219973369564626946

इसके बाद उन्होंने वीडियो में कहा, “मैं आपको और आपकी बातों को बिल्कुल भी गंभीरता से नहीं लेता। मैंने कभी भी आपकी बुराई नहीं की। आपको बुरा भला नहीं कहा। पर अब ज़रूर कहना चाहूंगा कि आपने अपनी पूरी ज़िंदगी, इतनी कामयाबी मिलने के बावजूद, कुंठा में गुजारी है। आप दिलीप कुमार, अमिताभ बच्चन, राजेश खन्ना, शाहरुख खान, विराट कोहली को दोषपूर्ण बता सकते हैं, उनकी आलोचना कर सकते हैं, तो मुझे विश्वास है कि मैं बढ़िया लोगों में शामिल हूं।”

अनुपम खैर इतने में नहीं रुके वो बहुत ही तीखे शब्दों में कहा, “इनमें से किसी ने भी आपकी टिप्पणियों को गंभीरता से नहीं लिया। क्योंकि ये सभी जानते हैं कि जिन ‘पदार्थों’ का सेवन आप करते हैं, उनकी वजह से क्या सही है और क्या ग़लत है, आपको इसका अंतर ही नहीं पता लगता। मेरी बुराई करके अगर आप एक-दो दिन के लिए सुर्खियों में आते हैं तो मैं आपको ये खुशी भेंट करता हूं।

अनुपम इसके आगे कहा, “भगवान आपको खुश रखे। आपका शुभचिंतक, अनुपम। और आप जानते हैं कि मेरे खुन में क्या है? मेरे ख़ून में है हिन्दुस्तान। इसको समझ जाइए बस। जय हो!”

पूरा मामला क्या है?

नसीरुद्दीन शाह ने हाल ही में ‘द वायर’ को एक इंटरव्यू दिया था जिसमें उन्होंने अनुपम खैर की आलोचना की। इंटरव्यू में जब नसीर से पूछा गया कि देश की विभाजनकारी राजनीति पर फिल्म जगत के लोग प्रतिक्रिया कर रहे हैं और उनमें ऐसे भी हैं जो सरकार की नीतियों के समर्थक हैं। इसका जवाब देते हुए नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि समर्थन करने वालों की संख्या विरोध करने वाले लोगों से काफी कम है।

उसके बाद पत्रकार ने फिर से सवाल किया कि ऐसे लोग खुलकर अपनी बात रख भी रहे हैं, तो नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि ऐसे लोग ट्विटर पर काफी बोलते हैं, मैं ट्विटर पर नहीं हूं। और मैं चाहता हूं कि ये लोग तय कर लें कि वो किस चीज में यकीन रखते हैं।

फिर उन्होंने अपने जवाब में अनुपम खेर का नाम लेते हुए कहा, “ट्विटर पर बोलने वाले लोगों में अनुपम खेर जैसे लोग भी शामिल हैं। और मुझे लगता है उनके जैसे लोगों को गंभीरता से नहीं लिया जाना चाहिए। वो एक मसखरा हैं। और उनके एनएसडी और एफटीटीआई के सहपाठी उनकी चापलूसी करने की प्रकृति की गवाही दे सकते हैं। ये उनके खून में है। इसमें वो कुछ नहीं कर सकते।”

उसके बाद नसरुद्दीन ने आगे कहा कि ऐसे लोग जो विरोध कर रहे हैं, उन्हें तय करना चाहिए कि वो क्या कहना चाहते हैं। और हमें हमारी जिम्मेदारियां न बताएं, हमें पता है कि हमारी जिम्मेदारियां क्या हैं।

You may also like