[gtranslate]

बॉलीवुड और कंट्रोवर्सी का साथ बेहद पुराना है। इन विवादों से कई फिल्में चर्चा का विषय बन जाती हैं और इसका फायदा भी मिलता है। वहीं कुछ फिल्में ऐसी होती हैं जिनका रिलीज हो पाना मुश्किल हो जाता है। सुपरस्टार शाहरूख खान और दीपिका पादुकोण की फिल्म ‘पठान’ का भी कुछ ऐसा ही हाल है। पठान फिल्म के गाने ‘बेशर्म रंग’ पर शुरू हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। गाने पर विवाद से यशराज प्रोडक्शन की इस फिल्म पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं।

दरअसल, इस फिल्म के गाने ‘बेशर्म रंग’ में दीपिका पादुकोण ने भगवा रंग की बिकनी पहनी है। विवाद गाने के रिलीज होने से शुरू हुआ लेकिन अब फिल्म को बैन करने तक की मांग पर अटक गया है। विवादित गाने को लेकर कई हिंदूवादी संगठनों का कहना है कि यह उनके धर्म का अपमान है। कुछ संगठन दीपिका- शाहरूख पर अश्लीलता को बढ़ावा देने का भी आरोप लगा रहे हैं। जिसके चलते रिलीज से पहले ही फिल्म का भविष्य अधर में लटका नजर आ रहा है। गाने से उपजे विवाद का आलम यह है कि इसकी गूंज संसद तक पहुंच गई है।

देश की संसद में भी इस मुद्दे पर जमकर हंगामा हुआ। बहुजन समाज पार्टी के नेता दानिश अली ने लोकसभा में ‘पठान’ फिल्म के गाने के मुद्दे को उठाते हुए कहा, ‘यह नया चलन है, सरकार में बैठे लोग फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की मांग कर रहे हैं। उलेमा बोर्ड के एक व्यक्ति ने भी शाहरूख और दीपिका पादुकोण की फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है। और आगे उन्होंने यह भी कहा, ‘क्या सनातन धर्म इतना कमजोर है कि एक रंग से खतरे में पड़ जाएगा?’ इस्लाम भी इतना कमजोर नहीं है कि ‘कोई फिल्म उसे चोट पंहुचा दे। सरकार को यह देखना चाहिए कि सेंसर बोर्ड फिल्म को मंजूरी देने का काम करे।’

नरोत्तम मिश्रा समेत कई नेताओं ने की फिल्म पर बैन की मांग मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा और विश्व हिंदू परिषद के प्रवक्ता विनोद बंसल पठान फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की मांग करने वालों में शामिल हैं। मध्य प्रदेश में उलेमा बोर्ड ने भी इस्लाम की गलत व्याख्या के लि (भाजपा) की चर्चित नेता और भोपाल की सांसद साध्वी प्रज्ञा ने तो यहां तक कहा है कि इस फिल्म का बहिष्कार करें कोई भी इसे देखने न जाए। उनके द्वारा कहा गया कि यह फिल्म हिंदू भावनाओं को आहत करती है। अगर उनके बयान को गौर से सुनें तो साफ झलक रहा है कि शायद उन्होंने गाना भी नहीं देखा है। वहीं अयोध्या के महंत राजू दास का एक वीडियो वायरल है जिसमें वह कहते नजर आ रहे हैं कि यह फिल्म जिस थिएटर में लगे उसे आग के हवाले कर दो। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि ऐसे तीखे बयानों और उग्र प्रदर्शनों के बाद भी यह फिल्म रिलीज हो पाएगी या नहीं?
क्यों ‘बेशर्म रंग’ गाने पर हो रहा है विवाद?

मध्य प्रदेश गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा

पठान का ‘बेशर्म रंग’ सॉन्ग 12 दिसंबर को रिलीज हुआ था। गाने में शाहरूख साथ नजर आ रहे हैं। इस गाने में दीपिका अलग-अलग रंग की बिकनी पहनी हैं और वह कई डांस मूव्स करती नजर आ रही हैं। गाने के अंत में वह ऑरेंज कलर (भगवा) की बिकनी में नजर आती हैं। इसी सीन पर हिंदू संगठनों को ऐतराज है। वे चाहते हैं कि ये सीन हटा दिए जाएं, क्योंकि भगवा रंग हिंदू धर्म का प्रतीक है और इससे उनकी धार्मिक भावना आहत हो रही है। करणी सेना, हिंदू महासभा, बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद जैसे संगठनों ने इस फिल्म की रिलीज रोकने की मांग की है।
सिर्फ हिंदू नहीं, मुस्लिम संगठन भी शाहरूख से नाराज, वजह है अश्लीलता हिंदू संगठन तो फिल्म को बैन करने की मांग कर ही रहे हैं, वहीं मुस्लिम संगठन भी ऐतराज जताते नजर आ रहे हैं। मध्य प्रदेश के उलेमा बोर्ड की मांग है कि इस फिल्म को लोग न देखे, यह रिलीज न होने पाए। मामले को लेकर एमपी उलेमा बोर्ड के अध्यक्ष सैय्यद अनस अली का कहना है कि फिल्म में इस्लाम का गलत प्रचार प्रसार किया गया है। उन्होंने कहा, ‘हमारे पास पठान को लेकर कई फोन आ चुके हैं। लोग फोन पर शिकायतें कर रहे हैं कि इस फिल्म के जरिए अश्लीलता फैलाई जा रही है और इसमें इस्लाम का गलत प्रचार- प्रसार किया गया है।’
किन राज्यों में हो रहा है विरोध?
दीपिका पादुकोण के भगवा बिकनी वाले सीन पर कई लोगों को ऐतराज है और कई लोगों को नहीं। विवाद के बढ़ने के बाद कई राज्यों में इस फिल्म पर बैन लगाने की मांग जोर पकड़ रही है। इस गाने पर उत्तर प्रदेश के बीजेपी सांसद रविंद्र कुशवाहा, विधायक शलभ मणि त्रिपाठी ने भी ऐतराज जाहिर किया है। दोनों नेताओं ने कहा है कि भगवा पवित्रता का प्रतीक माना जाता है, उसे अपमानित किया जा रहा है। सरकार सख्त ऐक्शन लेगी। देवरिया, अयोध्या, वाराणसी और मथुरा जैसे शहरों में इस गाने का जमकर विरोध हो रहा है।
मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा पहले ही पठान को लेकर कह चुके हैं कि अगर फिल्म के कुछ सीन हटाए नहीं जाएंगे तो वह राज्य में इसे रिलीज नहीं होने देंगे। देश के कई राज्यों में फिल्म को लेकर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए हैं। विरोध करने वाले राज्यों में अब तक
राजस्थान और छत्तीसगढ़ शामिल हैं। यहां के हिंदू संगठनों ने फिल्म बैन को लेकर सड़कों पर उतरकर अपना विरोध जताया है। यहां मांग की जा रही है कि ‘बेशर्म रंग’ गाने को ही फिल्म से हटा दिया जाए। इसी तरह गुजरात में भी ‘पठान’ का विरोध किया जा रहा है। ठीक उसी तरह की स्थिति महाराष्ट्र में भी है। बीजेपी के दिग्गज नेता राम कदम मेकर्स से सफाई मांग रहे हैं।
विरोध करने वालों को भूपेश बघेल का जवाब  छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने फिल्म का विरोध करने वालों को करारा जवाब दिया है। उन्होंने ‘पठान’ फिल्म के गाने ‘बेशर्म रंग’ को भगवा रंग से जोड़े जाने पर ऐतराज जताया है। बघेल ने साफ कहा कि यह कोई विवाद का मुद्दा ही नहीं है। कोई भी किसी भी रंग का कपड़ा पहन ले तो उसकी पहचान नहीं बदल जाती। साधु जब जीवन में सब कुछ त्याग कर देते हैं तो भगवा रंग धारण कर लेते हैं, लेकिन भगवा पहनकर घूम रहे ये बजरंगी गुंडे जनता के लिए क्या त्याग कर गए हैं? इसके बजाय वे जबरन वसूली की कोशिश कर रहे हैं। बघेल के बयान के बाद राज्य में इस मुद्दे पर सियासत और तेज हो गई है।
कुछ अभिनेता समर्थन में तो कुछ ने जताया विरोध  इस विवाद से सोशल मीडिया भी दो धड़ों में बंट गया है। सोशल मीडिया पर एक वर्ग रुइवलबवजजचंजींद ट्रेंड शुरू करते हुए ‘अश्लीलता’ दिखाने के लिए निर्माताओं को आड़े हाथों ले रहा है। दूसरे वर्ग एमपी के मंत्री नरोत्तम मिश्रा के बयान पर उनकी खिंचाई करता नजर आ रहा है। अभिनेता प्रकाश राज पठान फिल्म के समर्थन में उतर आए हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ‘घृणित . . . हम कब तक इन्हें सहन करें . . . रु।दकीठींज, रुश्रनेजेंपदह टीएमसी सांसद और अभिनेत्री नुसरत ने भी इस फिल्म का समर्थन करते हुए ट्वीट किया, ‘उन्हें हर चीज से परेशानी है। उन्हें औरतों के हिजाब पहनने से परेशानी है, उन्हें औरतों के बिकनी पहनने से भी दिक्कत है ये वही लोग हैं जो नए जमाने की औरतों को सीखा रहे हैं कि उन्हें क्या पहनना चाहिए।

सदी के महानायक अमिताभ बच्चन संवेदनशील मुद्दों पर बेहद सोच-समझकर अपनी राय रखते हैं। वह सोशल मीडिया पर भी एक्टिव रहते हैं। हाल ही में हुए कोलकाता फिल्म फेस्टिवल में उन्होंने जो कहा उससे बॉलीवुड में एक नई बहस छिड़ गई है। उनकी इस बात को पठान फिल्म से भी जोड़कर देखा जा रहा है। कोलकाता फिल्म फेस्टिवल में अमिताभ बच्चन ने कहा कि सिल्वर स्क्रीन (फिल्मी पर्दा) राजनीतिक विचारधारा का युद्धक्षेत्र बनती जा रही है। आजादी के इतने साल बाद भी नागरिकों की स्वतंत्रता और अभिव्यक्ति की आजादी पर सवाल उठाए जा रहे हैं।

इस कोलकाता फिल्म फेस्टिवल में अमिताभ बच्चन के साथ शाहरूख खान भी मौजूद थे। किंग खान फिल्म को हो रहे विरोध को लेकर कहा कि ‘दुनिया नॉर्मल हो गई है। हम सब खुश हैं। मैं सबसे ज्यादा खुश हूं और यह बात बताने में मुझे बिल्कुल भी आपत्ति नहीं है कि दुनिया कुछ भी कर ले मैं, आप लोग और जितने भी पॉजिटिव लोग हैं, सबके सब जिंदा हैं।’
कानूनी पचड़े में भी फंसी फिल्म
कहते हैं स्टारडम कभी भारी भी पड़ जाता है। बस शाहरूख खान के साथ भी वही होता दिख रहा है। बिहार के मुजफ्फरनगर में एडवोकेट सुधीर कुमार ओझा ने पठान फिल्म के खिलाफ याचिका दायर की है। उनके निशाने पर जॉन अब्राहम, दीपिका पादुकोण, डायरेक्टर सिद्धार्थ आनंद, प्रोड्यूसर आदित्य चोपड़ा भी हैं। इस केस की सुनवाई 3 जनवरी 2023 को होगी।
क्या रिलीज हो पाएगी फिल्म?
गौरतलब है कि ‘पठान’ फिल्म साल 2023 की सबसे चर्चित फिल्म मानी जा रही है। जिसकी वजह रिलीज होने के एक महीने पहले से ही फिल्म पर विवाद है। सिद्धार्थ आनंद के निर्देशन में बनने वाली यह फिल्म रिलीज होने से बहुत पहले ही हाइप क्रिएट कर चुकी है। फिलहाल इस फिल्म को 25 जनवरी 2023 में रिलीज करने का फैसला किया गया है। लेकिन जिस तरह से देशभर में ‘पठान’ के खिलाफ विरोध चल रहा है, फिल्म की रिलीज पर संकट के काले बादल मंडराते नजर दिख रहे हैं। विरोध करने वाले विरोध कर रहे हैं लेकिन ‘पठान’ का यह गाना यूट्यूब पर धमाल मचाए हुए है। अभी तक 82 मिलियन लोग इस गाने को देख चुके हैं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD