Editorial

साधुवाद मुख्यमंत्री जी!

इस अखबार के पाठकों और मेरे अधिकांश मित्रों की एक शिकायत हमेशा से रही है कि हमारा फोकस हमेशा नकारात्मक समाचारों पर ही रहता है। सरकारों के घोटालों को तो हम प्रमुखता से प्रकाशित करते हैं लेकिन उनके अच्छे कामों पर हमारी चुप्पी बनी रहती है। अपने ऐसे शुभेच्छुओं की राय पर मैंने यदा-कदा अमल करने का प्रयास भी किया। हमारी कोशिश लगातार रही है कि हम ऐसे समाचारों को सामने ला सकें जो सकारात्मकता की ऊर्जा स्वयं में समेटे हुए हों। यह भी प्रयास हम पूरी सद्इच्छा से करते हैं कि हमारे समाचारों में निजी राग-द्वेष, मित्रता अथवा लाभ-हानि का प्रभाव न पड़े। इस सबके बावजूद समय-समय पर हमारी नीयत पर शक लगातार किया जाता रहा है। यह स्वाभाविक भी है। जिस प्रकार के समय और समाज में हम रह रहे हैं, वहां ऐसा होना तय है। योगगुरु और आज के सफल उद्योगपति रामदेव की संस्था ‘पतंजलि’ में मजदूरों के शोषण का समाचार हो या फिर आचार्य बालकृष्ण की नागरिकता का प्रश्न हो, चाहे ऋषिकेश स्थित सिटुरजिया कंपनी की बहुमूल्य जमीन का प्रकरण हो, अवैध खनन पर हमारी खोजी रपटें, गिरधारी लाल साहू के काले कारनामों का भंडाफोड़ आदि, हम पर लगातार निगेटिव रिपोर्टिंग और ब्लैकमेलर होने के आरोप लगते आए हैं। समस्या यह है कि जब चारों तरफ घना कुहासा छाया हो तब सकारात्मकता कहां से तलाशें। विशेषकर सरकारी तंत्र में तो हालात इतने खराब हो चले हैं कि बहुत खोज करने पर भी कुछ उल्लेखनीय हाथ नहीं लगता। ऐसे हालात में यदि कुछ भी ठीक-ठाक सा होते नजर आता है तो उसके सहारे ही आस के दीपक को जलाने का प्रयास तो किया ही जा सकता है ताकि अपने लोकतंत्र पर तेजी से दरक रहा विश्वास थोड़ा कायम रखा जा सके।
तो चलिए उत्तराखण्ड की वर्तमान त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार के भ्रष्टाचार विरोधी जीरो टॉलरेंस नीति पर कुछ मंथन किया जाए। सरकार के ताजा कुछ कदमों की चर्चा की जाए जिससे थोड़ी आस बंधी है कि हमारे निर्वाचित प्रतिनिधि भ्रष्टाचार के दलदल में गले तक धंसे चुके सिस्टम को सुधारने का कुछ तो प्रयास कर रहे हैं। मैं त्रिवेंद्र सरकार के हालिया दो कदमों की बात कर रहा हूं। पहला है नेशनल हाइवे 74 के चौड़ीकरण में हुए खरबों के भूमि घोटाले में दो आईएएस अफसरों का निलंबन और दूसरा मसूरी-देहरादून विकास प्राधिकरण के कामकाज का विस्तृत ऑडिट कराया जाना है। एन-74 घोटाला अपने आप में जीता-जागता प्रमाण है कि किस प्रकार राज्य सरकार के वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों, राजनेताओं राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण प्राधिकरण और भूमाफियाओं के गठजोड़ ने न केवल कृषि उपयोग की भूमि का फर्जी तरीकों से भू उपयोग बदल उसे अकृषक घोषित किया ताकि भू-मालिकों को बढ़ी दर पर जमीन का मुआवजा मिल सके। हद तो यह कि इस गठजोड़ ने बड़े स्तर पर सरकारी जमीन की भी बंदरबांट इस खेल में कर डाली। जब से यह घोटाला उजागर हुआ, हम लगातार ऐसे बड़े नापाक गठजोड़ की तरफ इशारा करते आए हैं। जब हमने रुद्रपुर की एक महिला बिल्डर प्रिया शर्मा से संबंधित मामलों की तह में जानना शुरू किया तभी यह बात हमारे सामने स्पष्ट हो चली थी कि प्रिया शर्मा मात्र एक छोटा प्यादा है जिसके सहारे कुछ कथित बड़े लोग अपनी बिसात बिछा इस खेल को चला रहे हैं। प्रिया शर्मा के खिलाफ जिस तेजी से रुद्रपुर पुलिस ने आपराधिक मामले दर्ज करने शुरू किए, वह तेजी हमें खटकी, क्योंकि यह वही पुलिस है जिसने उत्तर प्रदेश के घोषित हिस्ट्रीशीटर गिरधारी लाल साहू द्वारा ठगे गए जनपदवासियों की शिकायत पर कोई कार्यवाही करना उचित नहीं समझा। गिरधारी लाल साहू जो वर्तमान त्रिवेंद्र रावत सरकार की एक मंत्री का पति है। अपनी बदकारी और बदनीयत के बावजूद रुद्रपुर की पुलिस को कभी खटका नहीं, दूसरी तरफ राज्य के मंत्रियों, मुख्यमंत्री और मीडिया की आंखों का तारा रही एक महिला उधमी पर पुलिस का कहर टूट पड़ा। देव भूमि पुलिस की इसी सक्रियता के चलते हम मामले को खंगालने बैठे तो स्पष्ट हो गया कि प्रिया शर्मा को आगे कर इस जांच की दिशा को बदलने का खेल हो रहा है। एनएच-74 घोटाले को समझना कोई टेढ़ी खीर नहीं है। न ही इस घोटाले के असली खिलाड़ियों को बेनकाब करना, यदि जांच ईमानदारी और बगैर किसी दबाव के हो। पूरे मामले में एनएच प्राधिकरण, रुद्रपुर के जिलाधिकारी, एडीएम, एसडीएम, भूमि अध्यिप्ति अधिकारी, निश्चित तौर पर कुछ स्थानीय शक्तिशाली राजनेता और बिचौलिये शामिल हैं। राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपनी सद्नीयत का परिचय देते हुए इस घोटाले की जांच सीबीआई से कराने का प्रयास किया लेकिन केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के कड़े विरोध के चलते वह ऐसा न करा सके। इस घोटाले की जांच के लिए एक एसआईटी यानी स्पेशल इन्वेस्टिगेटिव टीम का गठन पूर्ववर्ती मुख्यमंत्री हरीश रावत कर गए थे। वहीं एसआईटी पूरे मामले की जांच कर रही है। शुरुआती दौर में ऐसे संकेत मिल रहे थे कि चंद पीएसीएस सेवा के अफसरों और कुछ बिचौलियों को बलि का बकरा बना जांच की खानापूर्ति हो जाएगी। अब लेकिन विश्वास थोड़ा सा जमा है त्रिवेंद्र रावत की जीरो टॉलरेंस नीति पर जब दो आईएसएस अफसरों का निलंबन आदेश सरकार ने जारी किया। मैंने इस आदेश को गौर से पढ़ा तो एसआईटी की जांच को सराहने की इच्छा हुई। इस आदेश में स्पष्ट लिखा गया है कि इन दो अफसरों ने ऊधमसिंह नगर जनपद का जिलाधिकारी रहते सरकारी भूमि को निजी भूमि दर्शाने, अवैध कब्जेदारों को करोड़ों का मुआवजा देने का काम किया है। स्पष्ट है पंकज कुमार पाण्डेय और चंद्रेश यादव की इस पूरे घोटाले में सहभागिता के प्रमाण सरकार को इस एसआईटी जांच के चलते मिल चुके हैं। त्रिवेंद्र सिंह रावत पर निश्चित ही राज्य के नौकरशाहों का भारी दबाव रहा होगा। उन्हें आला नौकरशाहों ने सलाह अवश्य दी होगी कि आईएएस अफसरों का निलंबन करने पर अफसरशाही का मनोबल गिरेगा, उनके निर्णय लेने की क्षमता प्रभावित होगी, इत्यादि। इस सबके बावजूद मुख्यमंत्री का कड़ा रुख बना रहा तो निश्चित ही वे साधुवाद के पात्र हैं। इस पूरे प्रकरण में एक बात और उभर रही है जो किसी बड़े खेल की तरफ इशारा करती है। बहुत संभव है कि इस जांच के घेरे में राज्य के एक बड़े राजनेता का नाम भी भविष्य में सामने आए। साथ ही राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के प्रोजेक्ट डायरेक्टर की भूमिका पर भी शायद यह जांच रिपोर्ट कुछ प्रकाश डाल सके। यदि ऐसा होता है तो बहुत संभव है कि मामला राज्य के किसी बड़े राजनेता से आगे बढ़ केंद्र के बड़े नेता तक पहुंच जाए। हालांकि इसकी संभावना कम है, क्योंकि यदि ऐसा होगा तो इसके राजनीतिक निहितार्थ सत्तारूढ़ दल के लिए बड़े संकट का कारण भी बन सकते हैं। राज्य सरकार का एक अन्य निर्णय देहरादून-मसूरी विकास प्राधिकरण के पिछले पांच सालों की ऑडिट कराए जाने का है। इससे भी राज्य की नौकरशाही खफा और भयभीत बताई जा रही है। समाचार मिल रहे हैं कि राज्य के आईएएस अफसरों ने अब निर्णय न लेने की नीति पर अमल करना शुरू कर दिया है। एक प्रकार का दबाव राज्य सरकार पर बनाया जा रहा है ताकि सरकार भ्रष्ट अफसरों को चिन्ह करने, उन्हें दंडित करने की अपनी मुहिम को रोक दे।
उत्तराखण्ड की नौकरशाही पूरी तरह बेलगाम और भ्रष्ट है। यह मेरा कथन नहीं, बल्कि निशंक सरकार के दौरान हुए सिटुरजिया भूमि घोटाले में दायर हमारी जनहित याचिका पर कोर्ट की टिप्पणी है। उच्च न्यायालय नैनीताल ने हमारी याचिका पर दिए अपने आदेश में अरबों की बहुमूल्य जमीन को राज्य सरकार में निहित करने का फैसला सुनाते हुए राज्य की नौकरशाही पर कठोर टिप्पणी की थी। तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश जस्टिस बारेन घोष ने अपने निर्णय ने लिखा  “The manner in which the matter has been dealt with by the officers of the State, including the mis-representations made to the Hon’ble CM, appears to us, is fraudulent, mischievous and contrary to the interest of the people of the State.”
कुल मिलाकर डेढ़ बरस की त्रिवेंद्र रावत सरकार के इन दो निर्णयों की मैं खुलेमन से सराहना करता हूं। हालांकि इन डेढ़ वर्षों में हमें यह सरकार हर मोर्चे पर मात खाती नजर आई है और मुख्यमंत्री नौकरशाहों के एक समूह के चंगुल में फंसे नजर आते हैं। सरकार जनता के प्रति संवेदनहीन प्रतीत होती है। प्रचंड बहुमत के बावजूद मुख्यमंत्री का इस प्रकार असहाय, असंवेदनशील और अनिर्णय की स्थिति में दिखना स्वयं उनके लिए और उनकी सरकार के लिए गलत संदेश देता है। अब लेकिन उनके ये दो निर्णय न केवल त्रिवेंद्र रावत की छवि को निखारने, बल्कि जनता के मन में तंत्र के प्रति विश्वास कायम करने का काम करेंगे। उम्मीद की जानी चाहिए कि त्रिवेंद्र रावत बेनामी संपत्तियों के जिन मामलों को हम सामने लाए थे, उन पर भी एक विशेष जांच दल बना दूध का दूध, पानी का पानी करने का निर्णय लेंगे।
15 Comments
  1. 漾白 10 months ago
    Reply

    有關雷射、雷射除刺青、斑、曬斑、老人斑、太田母斑、顴骨母斑、點痣、疤痕等一些術前術後、詳細敘述比較。

  2. Jurlique 茱莉蔻 【植萃活齡系列】植萃活齡眼霜的商品介紹 Jurlique 茱莉蔻,植萃活齡系列,植萃活齡眼霜

  3. 體驗真正網上 Personal Loan 批核,隨時提款話咁易! TPF 團隊撐您,現金即時到手!自訂還款期,短期周轉首選!立即申請,特快私人貸款。 特快網上批核 | 還款計算機.

  4. THREE 【舒活精萃系列(AC)】舒活洗髮露(修護) THREE SCALP & HAIR SHAMPOO AC的商品介紹 THREE,舒活精萃系列(AC),舒活洗髮露(修護) THREE SCALP & HAIR SHAMPOO AC

  5. 關于Ion Magnum技術: 它的作用是加快脂肪代謝而轉化成肌肉。專業設計的微電流模擬大腦到肌肉的正常神經傳導。乙醯膽鹼及ATP(産生能量的物質)都是由神經末梢釋放的。神經元共振導致神經末梢持續不斷的釋放ATP,甚至能達到正常釋放量的500。 Ion Magnum應用的是世界定級的神經生理學技術,它加快脂肪燃燒的速度,增强肌肉收縮,提高基礎代謝率(指的是你靜息狀態下消耗卡路里的速率)。複雜的微電流包含2000次與正常生理過程的相互作用,由此達到人體自然狀態下所不能達到的效果。它可以加快能量的轉化,增强體力和運動能力。 Ion Magnum目前由位於英國的創新科學研究中心開發、製造,該中心是由歐盟提供資金支持的。該設備及其組件均是由英國頂級的科學家手工製作的。該産品有CE標志,CE標志是歐洲共同市場的安全標志。 Ion Magnum基於最新的起搏器技術。

  6. 期間限定!米芝蓮名廚呈獻意國美饌 – STYLE-TIPS.COM 想品嚐正宗的意國風味,不一定要坐飛機去彼邦,事關Cucina餐廳邀請了米芝蓮星級…

  7. tsaio 上山採藥 【水透立方系列】小分子玻尿酸保濕凝露的商品介紹 tsaio 上山採藥,水透立方系列,小分子玻尿酸保濕凝露

  8. ▌保養+底妝 ▌Giorgio Armarni 設計師粉底霜&訂製光保濕彈潤精華♥讓肌膚穿上高級訂製服~用設計師粉底霜打造完美清透妝感! @ 潮流、美妝、消費 創造個人化風格的女性社群 PIXstyleMe ▌保養+底妝 ▌Giorgio Armarni 設計師粉底霜&訂製光保濕彈潤精華♥讓肌膚穿上高級訂製服~用設計師粉底霜打造完美清透妝感!

  9. 全「身」趨勢!LSD真空無痛技術,無需使用冷凍啫喱,比傳統激光脫毛更安全,更舒適,更快捷。腿部背部永久脫毛,只需15分鐘!最快激光脫毛科技 配以22x35mm 及 9x9mm 治療機頭,比其他品牌之24mm為大,覆蓋肌膚範圍更廣。 因而更能縮短療程時間及次數。專為亞洲皮膚而設 因應不同膚色設定不同能量,無論膚色較深或較白均適用 最舒適及最有效的激光脫毛體驗 (與755nm及1064nm作比較) 設真空脫毛技術 LUMENIS LightSheer® Desire 激光脫毛儀備有真空脫毛技術,令激光能量更集中聚焦,達至更快及更有效之療程效果。

  10. 獨家IELLIOS療程 10 months ago
    Reply

    9合1升級保護,提升全面防護!!! 相比之前四合一的疫苗只能預防四種hpv病毒,70的相關癌症。 九合一可以預防9種hpv病毒,可預防高達90以上的子宮頸癌、外陰癌、陰道癌和肛門癌及癌前病變等。 HPV9合1子宮頸癌疫苗 Gardasil 功效 100 預防高危致癌的 HPV 16、18、31、33、45、52 及 58 型號 (可減低 90 患子宮頸癌、、90-95 肛門癌、85-90 外陰癌、80-85 陰道癌及相關癌前病變的風險) 100 減低引致生殖器官濕疣 (俗稱「椰菜花」) 的 HPV 6、11 型的感染 (可減低超過 90 患生殖器官濕疣的風險) 男性方面,能減低患上肛門癌、生殖器官濕疣 (俗稱「椰菜花」) 及傳播 HPV 病毒的風險 注射位置紅腫及痛、輕微發燒和頭痛,至今未有嚴重副作用記錄

  11. 流行時尚: 瘦小的女性也能透過水滴型隆乳,輕鬆擁有水滴型美胸 流行時尚: 瘦小的女性也能透過水滴型隆乳,輕鬆擁有水滴型美胸

  12. SIMON JONES: The Premier League club are expected to announce the departure of Remi Garde in the next 24 hours with former Leicester boss Nigel Pearson being considered. Aston Villa to consider Anderlecht coach Besnik Hasi as Remi Garde nears exit

  13. ADRIAN DURHAM: It took an uncomfortable motivational speech from a few fans at Stoke railway station to knock Arsenal into some kind of shape. It did a job Arsene Wenger seems incapable of. Arsene Wenger should quit if Arsenal lose to Monaco in Champions League (but Alex Oxlade-Chamberlain has been his leader)

  14. gamefly 4 months ago
    Reply

    What’s up, the whole thing is going perfectly here and ofcourse every one is sharing facts, that’s truly excellent, keep up writing.

  15. free minecraft 3 months ago
    Reply

    I’m really impressed together with your writing talents and also with the structure
    in your weblog. Is this a paid theme or did you customize it
    yourself? Either way keep up the nice high quality writing, it is uncommon to look
    a nice weblog like this one nowadays..

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like