देशभर में इस समय ‘मी टू’ अभियान का जोर है। एक से एक ‘विभूतियां’ इसकी चपेट में आती जा रही है। ऐसे-ऐसे नामों पर आरोप लगाए जा रहे हैं जिन्हें हम अपना आदर्श मानते आए हैं। फिल्मी दुनिया के किरदारों से शुरू हुई इस मुहिम ने मानो पूरे समाज को अपनी जकड़ में ले लिया हो। जहां एक तरफ कई दिग्गज इस अभियान को अपना समर्थन देने की बात कह रहे हैं तो बहुत ऐसे भी हैं जो इसकी विश्वसनीयता पर ही प्रश्नचिन्ह खड़ा कर रहे हैं। सोशल मीडिया, जो इस कैम्पेन की कर्मस्थली है, में उन महिलाओं के चरित्र पर, उनकी इन्टीग्रिटी पर नाना प्रकार की टिप्पणियां कर रहे हैं जिन्होंने बरसों, दशकों बाद ही सही लेकिन अन्याय के खिलाफ आवाज उठाने का साहस तो किया। वह भी ऐसे समाज में जहां महिलाओं को भोग की वस्तु समझा जाता रहा हो। ऐसा समाज जो भले ही नारी को पूजने, उसे देवी का दर्जा देने का स्वांग रचता आया है, असल में पूरी तरह से विकøत मानसिकता से लबरेज है। यहां स्त्री चाहे कितनी भी सक्षम, विदुषी, कर्मठ क्यों न हो, कभी न कभी किसी की हवस का शिकार अवश्य ही बनती है। तो चलिए इस ‘मी टू’ अभियान पर कुछ विचार किया जाए ताकि हमारी-आपकी भूमिका, कायरता, कुंठित यौनिकता पर कुछ साहस कर आत्मलोकन कर सकें।
सबसे पहले मैं खुद की स्थिति स्पष्ट कर दूं। मैं पूरी तरह इस अभियान के पक्ष में खड़ा हूं। उन तमाम आशंकाओं के बावजूद कि जिन पर आरोप लगे हैं अथवा भविष्य में लगने की संभावना है, उसमें से बहुत बेबुनियाद हो सकते हैं, किसी कुंठा के चलते अथवा किसी राग-द्वेष के चलते लगाए गए हो सकते हैं, ‘मी टू’ के साथ हूं। इसका एक बड़ा कारण मेरा स्वयं इस कुंठित घृणित लिलिप्सा का शिकार होना रहा है। पर उस पर चर्चा बाद में। पहले इस अभियान के इतिहास पर कुछ बात।
‘मी टू’ यानी ‘मैं भी’ की शुरुआत वर्ष 2006 में अमेरिका से हुई। इस अभियान की बुनियाद में यौन शोषण है जिससे समय-समय पर महिलाओं को, युवतियों को, यहां तक कि अबोध बालक-बालिकाओं को गुजरना पड़ता है। अमेरिका की एक सामाजिक कार्यकर्ता तराना बुर्के ने इसकी शुरुआत नब्बे के दशक में एक संस्था ‘JUST BE INC’ बनाकर की जहां वे युवाओं को खुद के भीतर आत्मविश्वास पैदा करने और उन पर होने वाले अत्याचार के खिलाफ बोलने का हौसला देती थीं। उन्होंने अपने साथ हुए यौन शोषण की बातें साझा करने से इसकी शुरुआत की। 2006 में उन्होंने ही ‘मी टू’ की बुनियाद रखी जिसके चलते उन्हें ‘मी टू’ यानी मैं भी का जन्मदाता कहा जाता है। हालांकि यह अभियान ट्वीटर के जरिए तब दुनियाभर में फैला जब अमेरिका के प्रसिद्ध फिल्म निर्माता-निर्देशक हार्वे वीनस्टीन के खिलाफ 2017 में एक के बाद एक हॉलीवुड की नायिकाओं ने यौन शोषण के आरोप लगाने शुरू किए। अमेरिकी फिल्म एक्ट्रेस एलाइसा मिलानो ने इस प्रकार के ताकतवर लोगों की असलियत सामने लाने के लिए ट्वीटर पर ‘मी टू’ नाम से एक कैम्पेन की शुरुआत कर डाली। नतीजा यह कि हार्वे वीनस्टीन पर अस्सी मुकदमे दर्ज हुए, उसे यौन शोषण के आरोप में गिरफ्तार किया गया और यह अभियान अमेरिका से निकल पूरे विश्व में छा गया। हमारे मुल्क में बॉलीवुड अभिनेत्री तनुश्री दत्ता ने 2008 में हिम्मत कर नामचीन अभिनेता नाना पाटेकर के खिलाफ आवाज उठाने का साहस किया लेकिन उनकी एक न सुनी गई। नाना पाटेकर के संग पूरी फिल्म इंडस्ट्री खड़ी हो गई। कहावत है दिन तो घुरे के भी पलटते हैं। पाटेकर तब तो बच निकले लेकिन ‘मी टू’ कैम्पेन से साहस पा इस बार जब तनुश्री ने मोर्चा संभाला तो पाटेकर छोड़िए एक के बाद एक कई बड़े चेहरे बेनकाब होते चले गए हैं। पत्रकार और लेखिका शोभा डे की एक पुस्तक तीन दशक पहले, 1991 में प्रकाशित हुई थी। नाम है ‘STARRY NIGHTS’। उसमें उन्होंने फिल्मी दुनिया के इस भयावह सच का उल्लेख किया था। वे इस किताब में लिखती हैं- ‘Very few women spared… and that has not changed. The only women who escaped were those belonging to powerful bollywood families.’ फिल्मी दुनिया हमारे ही समाज का हिस्सा है। वहां लगी आग ने अब राजनीति, पत्रकारिता, उद्योग जगत को चपेट में लेना शुरू कर दिया है। एमजे अकबर जो पत्रकारों के आदर्श हुआ करते थे, आज हमाम में नाना पाटेकर, विकास बहल, आलोकनाथ, कैलाश खेर, रजत कपूर, सुभाष घई आदि के साथ नंगे खड़े हैं।
देश के यशस्वी प्रधानमंत्री खामोश हैं। उनकी खामोशी ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ के उनके संकल्प को कमजोर कर रही है। संकट यह है एमजे अकबर ने भले ही इस्तीफा दे दिया पर न मालूम कितने अन्य स्वनाम धन्य राजपुरुषों का कालाचिट्ठा सामने आना बाकी है। हमारी सामाजिक संरचना कुछ ऐसी है कि इस प्रकार के शोषण को सहने के सिवा इस ‘मी टू’ से पहले कोई रास्ता था नहीं। 2008 में जब तनुश्री ने साहस किया तो उनका फिल्मी करियर बर्बाद हो गया। कल्पना कीजिए उन लाखों का जो देश के कोने- कोने में रोज इस प्रकार के शोषण का शिकार होती हैं। उनकी आवाज कौन सुनेगा? इसलिए मैं इस मुहिम के साथ हूं। और गरीब-गुरबा की बात छोड़िए, छोड़िए घरों में काम करने वाली बालिकाओं की जिन्हें रोज इस प्रकार के शोषण से दो-चार होना पड़ता है। उद्योग जगत में काम कर रही, बड़े कॉरपोरेट घरानों में काम कर रही महिलाओं को हर रोज अपने आत्म सम्मान के साथ समझौता करना पड़ता है। चारों तरफ एमजे अकबर हैं। भारतीय प्रशासनिक सेवाओं में कार्यरत महिलाओं तक को इससे हर रोज जूझना पड़ता है। मैं निजी तौर पर वाकिफ हूं ऐसे कुछेक वाक्यों से जहां आईएएस, आईपीएस महिलाओं को उनके सीनियर प्रताड़ित करते हैं। यदि वे दबाव में आ जाएं और समर्पण कर दें तो ठीक, नहीं तो उनके ही चरित्र पर उंगली उठाने का षड्यंत्र शुरू हो जाता है। किस पर यकीन करें, किसे मर्यादा पुरुषोत्तम कहें यह तय कर पाना लगभग असंभव है।
मैं बहुत संत्रास के साथ यह लिख रहा हूं। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी का मैं बड़ा प्रशंसक था। सरकारी तंत्र में फिट (Fit) न बैठने के चलते वह हमेशा हाशिए पर रहा है। मेरा निजी परिचय नहीं लेकिन खबरों की दुनिया का हिस्सा होने के चलते मैं इन महाशय का बड़ा समर्थक रहा हूं। यह मेरे चरित्र की कमजोरी है कि जिसके साथ खड़ा हूं, उसके लिए जो बन पड़ता है करता हूं। मैंने बगैर इन महाशय की जानकारी के इन्हें मुख्यधारा में लाने का प्रयास किया। हालांकि मैं सफल नहीं हुआ लेकिन अपनी बात मैंने पुरजोर तरीके से रखी। अर्सा बाद पता चला कि ये महाशय पूरी तरह से पथ भ्रष्ट हैं। आपसी सहमति से कोई किसी संग संबंध बनाए इसका चरित्र से, नैतिकता से कुछ वास्ता नहीं लेकिन यदि जोर-जबर्दस्ती का प्रयास करें तो ऐसों को न केवल सेवा से बर्खास्त करना चाहिए, बल्कि कठोर सजा भी मिलनी चाहिए। समस्या लेकिन यह कि हमारे सामाजिक बंधन इन जैसे राक्षसों के हाथों छली गई महिलाओं की जुबां सिल देते हैं। ‘मी टू’ ऐसे सभी के लिए बड़ा हथियार है, सामने आएं, अपनी बात रखें ताकि इन जैसे दुर्जनों को बेनकाब किया जा सके। यहां एक बात और कहना चाहूंगा। इस प्रकार की यौन विकृति का शिकार केवल महिलाएं ही नहीं होती। मैं स्वयं इसका शिकार हुआ हूं इसलिए पूरे दमखम के साथ कह सकता हूं। तब मैं केंद्रीय विद्यालय रानीखेत में ग्यारहवीं कक्षा का छात्र था। हमारे प्यारे, ‘प्रदूषण रहित’ शहर में एक ‘सज्जन पुरुष’ रहा करते थे। छोटे शहर के बड़े आदमी थे। मैं उनके चंगुल में फंस गया। पूरा विवरण नहीं दे रहा हूं। क्योंकि शहर अपना बहुत प्यारा है। नहीं चाहता अब तीन दशक बाद किसी का चीर हरण करूं। उन्होंने मेरे साथ कुछ ऐसा करने का प्रयास किया कि मैं हत्प्रभ रह गया। मैंने यह बात अपने सबसे घनिष्ठ मित्र से साझा की तो पता चला वह महाशय इन मित्र पर भी हाथ-सफाई करने का प्रयास कर चुके हैं। शायद तब ‘मीट टू’ होता तो मैं भी अपनी बात तभी कह डालता। अब कोई फायदा नहीं। एक विकृत सोच के व्यक्ति को अब जलील करना उचित नहीं। लेकिन उन महिलाओं को, युवतियों को हर हाल में सामने आना चाहिए जिनकी मजबूरी का फायादा उठा शोषण किया जाता है। ताउम्र वे अंदर ही अंदर घुटती रहती हैं। यहां इस बात के खतरे से इंकार नहीं किया जा सकता कि इस कैम्पेन की जद में बहुत ऐसे भी शिकार बन जाएं जो पाक साफ हैं। इनदिनों रोज एक भ्रष्ट अधिकारी जिसकी बेनामी संपत्ति इस समाचार पत्र के चलते खतरे में हैं, मुझ पर यौन शोषण के, सामूहिक बलात्कार के आरोप लगाने में जुटा है। रोज कहीं न कहीं की पुलिस मेरे चरित्र की जांच करने पहुंच जाती है। अपन भी मौज में हैं। यह कुंठित सोच का अधिकारी मेरे धैर्य की परीक्षा ले रहा है, मैं इसकी नीचता का पैमाना आंक रहा हूं। महाभारत में संदर्भ आता है। भगवान कृष्ण को उनकी सगी बुआ का बेटा शिशुपाल हर समय, हर सभा में गाली देता था। कृष्ण से उनके अनुयायियों ने पूछा कि भगवन आप इस शिशुपाल का कुछ इलाज क्यों नहीं करते। कृष्ण का उत्तर था ‘मैंने अपनी बुआ को वचन दिया था कि अपने भाई की सौ गलतियों को माफ करूंगा, एक सौ एक वीं गलती पर शीश साफ कर दूंगा।’ महाभारत में उल्लेख है कि यही हुआ। भरे दरबार में शिशुपाल का वध भगवान के सुदर्शन चक्र से हुआ। हम न तो कृष्ण हैं, न ही किसी वचन से बंधे। बस देख रहा हूं किस हद तक ये पापी जा सकते हैं। इनके कथित वकील मित्र, फेस बुकिया मित्र, कथित महिला सहकर्मी कितने नीचे गिर सकते हैं। बहरहाल ‘मी टू’ को अपना पूरा समर्थन है। इस खतरे को समझते हुए भी कि कई निर्दोष भी इसकी चपेट में आ सकते हैं।
1 Comment
  1. Samir 9 months ago
    Reply

    उत्तराखंड का नंबर एक कपड़ा व्यापारी प्रिय भैया जी जोशी,

    बहुत आश्चर्य की बात है कि तुम इन दिनों भगवान कृष्ण को याद कर रहे हैं| भगवान कृष्ण के साथ तुम्हारी केवल दो ही समानताएं हैं: सबसे पहले तुम भगवान कृष्ण के जन्म स्थान पर होने की इच्छा रखते हैं जो कि कारागार हैं| दूसरी समानता यह है कि भगवान कृष्ण की तरह तुम्हारे पास कई गोपीका – शीन गोपीका हैं| गोपिकायों के साथ भगवान कृष्णा का संबंध पवित्र है जबकि शीन लड़कियों के साथ तुम्हारे मामले निश्चित रूप से तुम को भगवान कृष्णा के जन्म स्थान पर ले जाएंगे| भगवान कृष्ण के साथ तुम्हारी “मी टू” समानता यहां समाप्त होती है| कलियुग है.. क्योंकि कंस सोचता हैं कि वह कृष्णा है| Yours is a case of devil quoting the scriptures!

    भगवान कृष्ण से जुड़ी रोचक बातें श्रीमद्भगवद्गीता में और पढ़ें| महाभारत के युद्ध में श्री कृष्ण ने अर्जुन के द्वारा ऐसा ज्ञान दिया जिसे अपनाकर तुम अपना जीवन अच्छी तरह से व्यतीत कर सक्ते है| ‘बुरे कर्म करने वाले, सबसे नीच व्यक्ति जो राक्षसी प्रवित्तियों से जुड़े हुए हैं, और जिनकी बुद्धि माया ने हर ली है वो मेरी पूजा या मुझे पाने का प्रयास नहीं करते’ (The evil doers, the ignorant, the lowest persons who are attached to demonic nature, and whose intellect has been taken away by Maya do not worship or seek Me). यही कारण है कि तुम कंस की पूजा करते हो, न कि भगवान कृष्ण।

    भगवान कृष्ण और यह भी कहते हैं कि ‘ अप्राकृतिक कर्म बहुत तनाव पैदा करता है’ (Unnatural work produces too much stress). यही कारण है कि इन दिनों तुम बहुत अधिक तनाव में हैं|हिन्दू धर्म के पवित्र ग्रन्थ भगवद गीता में यह बताया गया है की मनुष्य अपने जीवन को किस तरह बेहतर ढंग से जी सकता है और अपने हर परेशानियों को दूर कर सकता है. भगवान श्री कृष्ण ने महाभारत के युद्ध के दौरान करुक्षेत्र में अर्जुन को भगवद गीता का ज्ञान दिया था। क्या यह ज्ञान तुमको तुम्हारे सभी गलत कामों से मुक्त कर सकता है?

    लेकिन मत भूलना:

    परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम्।
    धर्मसंस्थापनार्थाय संभवामि युगे युगे।

    जैसा कि श्रीकृष्ण ने भागवत गीता अध्याय चार पद 8 में कहा : वह जल्द ही भारत में आर्थिक अपराधियों को खत्म करने के लिए प्रकट होंगे जो संदिग्ध और धोखाधड़ी कंपनियों के माध्यम से सैकड़ों करोड़ रुपये कई अवैध तरीकों से लूट रहे हैं।

    चाहे तलवार पर कपड़ा गिरता है या कपड़ा तलवार पर पड़ता है, केवल कपड़ा ही कटता है। उत्तराखंड का एक बड़ा कपड़ा व्यापारी होने के नाते, क्या तुम इस साधारण सत्य को भी नहीं जानते?

    दुर्जन: सज्जनो भूयात सज्जन: शांतिमाप्नुयात्।
    शान्तो मुच्येत बंधेम्यो मुक्त: चान्यान् विमोच्येत्॥

    (अर्थात दुर्जन सज्जन बनें, सज्जन शांति बनें। शांतजन बंधनों से मुक्त हों और मुक्त अन्य जनों को मुक्त करें।)

    May you be liberated from evil thoughts and evil actions!!

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like